भोपाल अस्पताल में हुए हादसे को लेकर आरिफ मसूद ने पीड़ितों के साथ किया थाने का घेराव
आरिफ मसूद ने पीड़ितों के साथ किया थाने का घेरावShahid Kamil

भोपाल अस्पताल में हुए हादसे को लेकर आरिफ मसूद ने पीड़ितों के साथ किया थाने का घेराव

भोपाल, मध्यप्रदेश : भोपाल अस्पताल में आग लगने के मामले में अब सियासत शुरू हो गई है, अब विधायक आरिफ मसूद ने मृत बच्चों के परिजनों के साथ मिलकर कोहेफिजा थाने का घेराव किया।

भोपाल, मध्यप्रदेश। भोपाल के अस्पताल में लापरवाही के चलते आगजनी के कारण हुई शिशुओं की मृत्यु के संबंध में दोषियों पर प्रकरण दर्ज करने की मांग को लेकर थाना कोहेफिज़ा का घेराव कर दिये गए, आवेदन पर कार्रवाई करने की मांग की इसके बाद कलेक्टर कार्यालय पर विधायक आरिफ मसूद ने प्रदर्शन किया है।

विधायक ने पीड़ितों के साथ किया कोहेफिजा थाने का घेराव

मिली जानकारी के मुताबिक कल विधायक आरिफ मसूद के नेतृत्व में बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ पीड़ित परिवारों को लेकर ज़ोरदार नारेबाजी कर थाना कोहेफिजा का घेराव कर थाना प्रभारी के नाम दिये गए आवेदन देकर दोषियों पर कार्यवाही करने की मांग कर कलेक्टर कार्यालय का भी घेराव कर प्रदर्शनकारियों ने किया है।

विधायक आरिफ मसूद ने कहा कि सरकार की नाकामी के चलते इतना बड़ा हादसा भोपाल के कमला नेहरू अस्पताल के बच्चा वार्ड में घटित हुआ जिसमें मासूमों की जान चली गई, लेकिन सरकार पीड़ितों को न्याय और मुआवजा दिलाने के बजाए मृत बच्चों के आंकड़े छुपाने और दोषीयों को बचाने में लगी है इसी लिए अभी तक दोषियों के खिलाफ कोई प्रकरण दर्ज कर कार्यवाही नहीं की गई है।

विधायक आरिफ मसूद ने कहा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रधानमंत्री जी के आगमन की तैयारियों में व्यस्त हैं और उनके पास इतना समय भी नहीं है कि इतनी बड़ी दिल दहला देने वाली घटना पर अभी तक अस्पताल का दौरा करना भी उचित नहीं समझा। कईं परिवारों के घरों के चिराग जलने से पहले ही बुझ गए। समय रहते सरकार और उनके चिकित्सा मंत्री घटना के बाद बच्चों को तत्काल प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती करा देते तो कई बच्चों की जानें बचाई जा सकती थी।

विधायक आरिफ मसूद ने कहा-

इस संबंध में आज पीड़ित परिवारों के साथ थाना कोहेफिजा के बाद कलेक्टर कार्यालय पर प्रदर्शन कर एक आवेदन तरन्नुम खान पत्नी श्री आमिर खान जिनके बच्चे की आग दुर्घटना में मृत्यु हुई थी उसका नाम मृत बच्चों की सूची में शामिल नहीं किया गया क्योंकि सरकार द्वारा मृत बच्चों के आंकड़े छुपाने के चलते इनके बच्चे का नाम भी सूची में नहीं शामिल नहीं किया गया था बच्चे का नाम भी मृत बच्चों की सूची में शामिल किया जाए।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co