आबिद हुसैन के प्रयास से हुई आसाराम की वतन वापसी
आबिद हुसैन के प्रयास से हुई आसाराम की वतन वापसी|Shahid Kamil
मध्य प्रदेश

भोपाल के आबिद हुसैन के प्रयास से हुई आसाराम की वतन वापसी

भोपाल, मध्यप्रदेश। मोटी तनख्वाह के लालच में पड़कर मलेशिया पहुंचने के बाद वहां फंसे, खुर्द गांव निवासी आशा राम पुत्र राम सूरत की सय्यद आबिद हुसैन के प्रयास से वतन वापसी हो गई।

Shahid Kamil

भोपाल, मध्यप्रदेश। प्रदेश में जहां कोरोना का संकट व्याप्त है वहीं दूसरी तरफ आपराधिक घटनाएं और मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं बता दें कि इस बीच मोटी तनख्वाह की लालच में पड़कर मलेशिया पहुंचने के बाद वहां फंसे अकबरपुर तहसील क्षेत्र के मालीपुर के निकट स्थित तारा खुर्द गांव निवासी आशा राम पुत्र राम सूरत की सय्यद आबिद हुसैन के प्रयास से वतन वापसी हो गई।

बताया गया कि वह 11 दिसम्बर 2018 को टेंट हाउस और रेसटोरेंट के काम के लिए एजेंट के बहकावे में पड़कर मलेशिया गया था। उसे 18 हजार भारतीय रूपये देने का वादा किया गया था। इसके विपरीत उसे न तो सैलरी दी जा रही थी और न ही वापस आने दिया जा रहा था। आरोप है कि आशाराम  आना चाहता था  पर उसका एजेंट आने नहीं दे रहा था। ऐसे में आशाराम के परिजन परेशान थे।

इसी बीच आसाराम के परिजनों ने इस तरह का अभियान चला रहे। आबिद हुसैन से मिलकर अपनी बात बताई। जिसके बाद आबिद हुसैन ने उसे निकालने की योजना बनानी शुरू कर दी। जिसमें आज उन्हें सफलता मिल गई। और आसाराम सकुशल भारत आगये! आसाराम की मदद के लिए आबिद हुसैन और आसाराम के पिता राम सूरत ने विदेश मंत्री डॉ सुब्रह्मण्यम जयशंकर और राजदूत श्री मृदुल कुमार और भारत मलेशिया एम्बेसी का शुक्रिया अदा किया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co