एविएशन कंपनी के संचालक की अस्पताल में मौत, जहर खाने के बाद कराया था भर्ती
एविएशन कंपनी के संचालक की अस्पताल में मौतSocial Media

एविएशन कंपनी के संचालक की अस्पताल में मौत, जहर खाने के बाद कराया था भर्ती

भोपाल, मध्य प्रदेश : प्रदेश में हेलिकॉप्टर सेवा मुहैया कराने वाली एविएशन कंपनी के संचालक फारूख सरकारी की गुरुवार को निजी अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई।

हाइलाइट्स :

  • अपने कर्मचारी को बुलाकर कहा था, मैंने खा लिया है जहर

  • किराए पर हेलिकाप्टर मुहैया कराती थी उनकी कंपनी

  • लॉकडाउन के कारण नुकसान होने के चलते आत्महत्या की आशंका

भोपाल, मध्य प्रदेश। प्रदेश में हेलिकॉप्टर सेवा मुहैया कराने वाली एविएशन कंपनी के संचालक फारूख सरकारी की गुरुवार को निजी अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। बुधवार दोपहर उन्होंने अपने कमलानगर थाना क्षेत्र स्थित संजय काम्प्लेक्स के निवास पर जहरीला पदार्थ खा लिया था। हालत बिगडऩे पर उन्होंने अपने नौकर को जहर खाने की जानकारी दी थी। जानकारी मिलते ही परिजनों ने फारूख सरकारी को निजी अस्पताल में भर्ती कराया था। हालत बिगड़ने पर उन्हें दूसरे निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। पुलिस ने मर्ग कायम कर तफ्तीश शुरू कर दी है। फिलहाल आत्महत्या के कारणों का खुलासा नहीं हो सका है लेकिन आशंका जताई जा रही है कि कोरोना लॉकडाउन के कारण कारोबार में नुकसान होने से आत्मघाती कदम उठाया है।

पुलिस के मुताबिक संजय काम्प्लेक्स कमलानगर निवासी फारूख सरकारी (50) ने बुधवार 17 फरवरी की दोपहर अपने घर पर कोई जहरीला पदार्थ खा लिया था। वह एविएशन कंपनी के संचालक थे। उनकी कोई संतान नहीं थी। वह अपनी पत्नी, मां व एक नौकर पवन के साथ रहते थे। संतान न होने के कारण उन्होंने अपने भाई के बच्चों को अपने पास रखकर शिक्षा दिलाई। परिचित और रिश्तेदार आश्चर्यचकित हैं। उन्हें यकीन नहीं हो रहा है कि फारूख सरकारी ऐसा कदम उठा सकते हैं। वह सभी से अच्छे से मिलते थे।

नौकर से खुलवाया था दरवाजा :

जहर खाने के बाद हालत बिगड़ते ही फारूख सरकारी ने अपने एक कर्मचारी को आवाज देकर अपने कमरे का दरवाजा खुलवाया। कर्मचारियों ने ही उन्हें अस्पताल पहुंचाया। उस समय घर में उनकी मां और कर्मचारी मौजूद थे। सूचना पर कमला नगर पुलिस अस्पताल पहुंची लेकिन उनके बयान दर्ज नहीं हो सके हैं। कर्मचारी नंदू सिंपी ने पुलिस को बताया कि दोपहर करीब ढाई बजे फारूख सरकारी बेहोशी की हालत में घर में पड़े थे। पायलट से रिटायर्ड होने के बाद वह ओएफएस एविएशन के नाम से एक कंपनी संचालित करते थे जो किराए पर हेलिकॉप्टर मुहैया करवाने का काम करती है।

नहीं मिला कोई सुसाइड नोट :

कमला नगर थाना प्रभारी विजय सिसोदिया ने बताया कि फारूख सरकारी के पास अथवा घर से अब तक कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। परिजनों के भी बयान नहीं हो पाए हैं। प्रारंभिक पूछताछ में कोई खास वजह सामने नहीं आई है। पोस्टमार्टम के बाद गुरुवार दोपहर बाद उनका शव परिजनों को सौंप दिया गया है। शुक्रवार को उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

पत्नी से नहीं करते थे बिजनेस की कोई बात :

घर की तलाशी के दौरान पुलिस को वहां से सुसाइड नोट तो नहीं मिला लेकिन उनके कमरे से सल्फास की डिब्बी जरूर मिली है। फारूख सरकारी की पत्नी ने पुलिस को बताया कि उनके पति किसी भी वजह से परेशान नहीं थे। वह बिजनेस की बात उनसे नहीं करते थे। पुलिस ने नौकरों से भी पूछताछ की लेकिन वह भी कुछ नहीं बता सके। पुलिस का कहना है कि जहर खाने के बाद से फारूख सरकारी को होश नहीं आ सका। इसी वजह से उनके मृत्युपूर्व बयान भी दर्ज नहीं किए जा सके हैं। संजय कांप्लेक्स में ऊपर की तरफ फारूख सरकारी के बड़े भाई फीरोज सरकारी रहते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co