उमरिया : बाघों के दीदार के लिए खुले बांधवगढ़ के गेट

उमरिया, मध्य प्रदेश : विश्व प्रसिद्ध बांधवगढ़ नेशनल पार्क गुरूवार से फिर पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है। 171 पर्यटकों में 02 विदेशी पर्यटकों ने किया पार्क भ्रमण।
उमरिया : बाघों के दीदार के लिए खुले बांधवगढ़ के गेट
बाघों के दीदार के लिए खुले बांधवगढ़ के गेटAfsar Khan

उमरिया, मध्य प्रदेश। विश्व प्रसिद्ध बांधवगढ़ नेशनल पार्क गुरूवार से फिर पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है। यह पार्क 30 जून को मानसून काल के चलते बंद कर दिया गया था। पार्क खोले जाने के पहले दिन बड़ी संख्या में पर्यटकों ने सफारी की है। कोविड-19 की गाइड लाइन के अनुसार पर्यटकों को पार्क में प्रवेश दिया गया है। पहले दिन कुल 38 वाहन सुबह के समय प्रवेश किया है और 171 पर्यटकों ने पार्क में सफारी की है, जिसमें 169 भारतीय पर्यटक थे और 02 पर्यटक विदेशी थे। सहायक संचालक ने बताया कि प्रत्येक जिप्सी को प्रवेश के पूर्व सेनेटाइज किया गया है, वहीं हर पर्यटक तापमान लेकर नोट किया गया है। कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए मार्च माह में ही पार्क बंद कर दिया गया था। मार्च से सितंबर माह के दौरान मात्र 15 दिन के लिए 15 जून से 30 जून के लिए पार्क खोल गया था। पार्क खुलने का इंतज़ार गाइड व जिप्सी चालकों को बेसब्री से था।

147 जिप्सियों को मिलता है प्रवेश :

बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में सुबह और शाम मिलाकर एक दिन में कुल 147 जिप्सियों को प्रवेश दिया जाता है। इसमें ऑन लाइन बुकिंग वाली जिप्सियां 131 होती हैं, जबकि एफडी कोटा की जिप्सियों की संख्या 16 हैं। बांधवगढ़ में पर्यटन के लिए तीन जोन बनाए गए हैं, जिसमें खितौली, मगधी और ताला शामिल है। खितौली जोन में सुबह 21 शाम 20, मगधी जोन में सुबह 26 शाम 25 और ताला जोन में सुबह 28 शाम को 27 जिप्सियों को प्रवेश दिया जाता है। इसके अलावा बफर में भी पर्यटन शुरू हैं, जिसमें धमोखर, जोहिला और पनपथा जोन शामिल है। धमोखर में सुबह 14 शाम को 14, जोहिला में सुबह 14 शाम को 14, पनपथा में भी सुबह और शाम 14-14 जिप्सियों को प्रवेश दिया जाता है।

लंबी दूरी की ट्रेनों की आवश्यकता :

कोरोना के कारण पिछले छह महीने से सभी ट्रेनें बंद पड़ी हैं, जिसका भी असर पर्यटन प्लान पर पड़ रहा है। जिप्सी चालक और गाइड का कहना है कि बिना ट्रेन कैसे पर्यटक अपना प्लान बना सकते हैं। जब तक ट्रेनें नहीं चलेंगी तब-तक पर्यटन का यही हाल होगा। हालांकि अभी कुछ ट्रेनों को चलाने की की घोषणा की गई है, लेकिन इन ट्रेनों से पर्यटन नहीं बढ़ता। पर्यटन के लिए दिल्ली सहित दूसरी लंबी दूरी की ट्रेनों की आवश्यकता है।

दिशा-निर्देशों का हो रहा पालन :

कमिश्नर नरेश पाल ने कहा कि बांधवगढ टाइगर रिजर्व में पर्यटकों को कोरोना से बचाव के उपायो और शासन द्वारा जारी निर्देशों का सख्ती से पालन सुनिश्चित किया जाए। वहीं सहायक संचालक ने बताया प्रथम दिन पर्यटन शुरू होने के बाद पर्यटकों को बगैर मास्क एवं सैनिटाइजिंग के प्रवेश नही दिया गया, सोशल डिस्टेसिंग का पालन कराया जा रहा है तथा कोरोना से बचाव के लिए भारत सरकार द्वारा दिये गए दिशा निर्देशों का सख्ती से पालन कराने के निर्देश कर्मचारियों को दिये गये हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co