Raj Express
www.rajexpress.co
Bhopal Gas Tragedy
Bhopal Gas Tragedy|Syed Dabeer - RE
भारत

भोपाल गैस त्रासदी: साल 1984 में घटी एक भयानक और दर्दनाक घटना

आज हम आपको भोपाल (म. प्र.) की उस भयानक और दर्दनाक घटना से रूबरू कराएंगे। जिस घटना में कुछ गलतियों ने एक भयानक रूप ले लिया और न जाने कितने लोगों की हस्ती-खेलती जिंदगी तबाह कर दी।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

आज भी भोपाल की ज़मीन तले वो आवाजें वो शोर दफ़न है, जो शहर में रात के सन्नाटे में सुनाई देता है। कहीं बच्चों को लेकर दौड़ती माँ, तो कहीं बिलखते बेजुबान जानवर, वहीं चारों तरफ थी लोगों की निराश निगाहें, जो चाह कर भी कुछ कर न सकीं।
दिव्यांश सिंह राठौर

राज एक्सप्रेस। आज का दिन इतिहास के पन्नों में कुछ इस तरह है, जिसे याद करके किसी की भी आंखे नम हो जाए। आज से 35 साल पहले यही तारीख भोपाल में एक ऐसी घटना लेकर आई थीं कि, जिसमें न जाने कितने लोगों की जिंदगी ख़त्म कर दी। यह दिन एक भूचाल की तरह आया और सब कुछ तबाह करके चला गया था। न जाने कितने अपने-अपनों से बिछड़ गए।

क्या था मामला :

3 दिसंबर 1984 को भोपाल के छोला नाका स्थान पर स्थित यूनियन कार्बाइड नाम की एक कंपनी से अचानक मिथाइल आइसोसाइनेट (MIC) नाम की ज़हरीली गैस का रिसाव होने लगा। जिसका प्रकोप कुछ ही देर में इतना अधिक बढ़ गया कि, चारों तरफ हाहाकार मच गया, न जाने कितने लोगों को इस गैस ने मौत की नींद सुला दिया। भोपाल का आलम कुछ ऐसा था कि, जिधर देखो उधर लाशों के ढेर नजर आ रहे थे। क्या जानवर क्या इंसान सब सड़कों पर इस ज़हरीली गैस से बचने की कोशिश में इधर-उधर भाग रहे थे, लेकिन वो समय भोपालवासियों के लिए एक काल बन कर आया था, जो न जाने कितने लोगों को मौत के घाट उतार कर चला गया।

क्या है कपंनी का इतिहास :

आज जब बात गैस त्रासदी की घटना की हो ही रही है तो, पूरी जानकारी विस्तार से जानते हैं। दरअसल, साल 1969 में यूनियन कार्बाइड कॉरपोरेशन ने एक यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड (UCIL) नाम की कंपनी भारत में स्थापित की, जहां कीटनाशक बनाया जाता था। इस कंपनी के खुलने के 10 सालों बाद साल 1979 में कंपनी ने भोपाल में एक प्रोडक्शन प्लांट की शुरुआत की, इस प्लांट में भी कीटनाशक ही बनाया जाता था। कंपनी ने इस प्लांट को सेविन नाम से शुरू किया था। इस कंपनी में जो कीटनाशक बनाया जाता था, उसका नाम मिथाइल आइसोसाइनेट (MIC) था। जबकि उस समय अन्य सभी कंपनियां कारबेरिल नाम के उत्पाद का इस्तेमाल करती थीं। UCIL ने मिथाइल आइसोसाइनेट का चुनाव सिर्फ इसलिए किया, क्योंकि इसको बनाने में कम लागत आती थी। (यहीं से हुई गलतियों की शुरुआत -पहली गलती)

पहले भी कई बार हुआ रिसाव :

भोपाल में घटित गैस त्रासदी की घटना से पहले भी कई बार इस कंपनी में गैस का रिसाव हो चुका था। 1981 से 1984 के बीच कई बार गैस का रिसाव हुआ। जिसमें पहली बार (1981 में) एक व्यक्ति की जान गई, दूसरी बार (जनवरी 1982) गैस रिसाव होने पर 24 वर्कर्स की हालत काफी गंभीर हो गई थी, तीसरी बार (फरवरी 1982) रिसाव होने पर 18 वर्कर्स प्रभावित हुए, चौथी बार (अगस्त 1982) गैस के रिसाव होने पर कंपनी का लगभग 30 फ़ीसदी हिस्सा जल गया था, पांचवी बार (अक्टूबर 1982) रिसाव होने पर एक व्यक्ति बुरी तरह जल गया। इसके बाद 1983-1984 के दौरान कई बार इन जहरीली गैसों का रिसाव हुआ। जिसके लिए किसी के द्वारा कोई कदम नहीं उठाया गया। (दूसरी गलती)

मांग कम होने पर भी बनता रहा :

साल 1980 तक इस कीटनाशक की मांग बहुत कम हो गई थी और कंपनी की हालत काफी जर्जर हो रही थी, परन्तु फिर भी कंपनी ने जहरीली गैस को बनाना बंद नहीं किया। (तीसरी गलती)

दूसरी तरफ कंपनी के रखरखाव पर ध्यान देना बंद कर दिया गया, साल 1984 के नवंबर माह तक इस प्लांट की स्थिति बेहद खराब हो चुकी थी, इस प्लांट के ऊपर एक E610 नामक टैंक बना हुआ था, जिसमें 42 टन MIC भरी हुई थी जबकि, इसमें 40 टन से अधिक MIC नहीं होना चाहिए थी। (चौथी गलती)

इस साल का आखिरी महीना और शुरुआती दिन घटी एक ऐसी घटना जिसे आना था, "इतिहास के पन्नों में"। वह घटना थी - "भोपाल गैस त्रासदी"
Bhopal Gas Tragedy Affected Area
Bhopal Gas Tragedy Affected Area
Syed Dabeer - RE

भोपाल गैस त्रासदी :

साल 1984 की 2-3 दिसंबर की उस खौफनाक रात में अचानक E610 टैंक में पानी घुस गया, पानी घुसने के कारण टैंक के अंदर रिएक्शन होने लगा और गैस का रिसाव शुरू हो गया। इसके पाइपलाइन पूरी तरह जंग खाये हुए थे, जिसके कारण इस रिसाव को कंट्रोल करना बहुत ही मुश्किल हो रहा था। इस जंग के कारण टैंक में लोहा मिल गया जिससे टैंक का तापमान बढ़ने लगा और बढ़कर 200 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया, जबकि नॉर्मली तापमान 4 से 5 डिग्री के बीच रहना चाहिए था। टैंक के अंदर लगातार दबाव बढ़ता ही चला गया और इमर्जेंसी प्रेशर पड़ने लगा और लगभग 50 से 60 मिनट के अंदर ही 40 मीट्रिक टन MIC का रिसाव हो गया, जो एक जहरीली गैस थी। यह गैस कुछ ही देर में इतनी तेजी से आसपास के एरिया में फैल गई सुबह तक तो भोपाल का अधिकांश हिस्सा इस गैस की चपेट में आ चुका था।

क्या हुआ फिर ?

इस जहरीली गैस ने भोपाल के दक्षिण पूर्वी हिस्से को बहुत ही बुरी तरह प्रभाभित किया। यह जहरीली गैसे (नाइट्रोजन के ऑक्साइड, कार्बन डाइऑक्साइड, मोनोमेथलमीन, हाइड्रोजन क्लोराइड, कार्बन मोनोक्साइड, हाइड्रोजन सायनाइड और फॉसजीन गैस) लगातार फैल रही थीं, जिससे लोगों को आँखों में जलन, घुटन उल्टी, पेट फूलने और सांस लेने में दिक्कत जैसी समस्या होने लगी थी। इस गैस की चपेट में आये इंसानों की तो फिर भी गिनती की गई थी, लेकिन न जाने कितने बेजुबान जानवर भी मारे गए, जिनका किसी के पास कोई हिसाब नहीं है।

कुल नुकसान और भरपाई :

जब गैस के रिसाव का असर कुछ कम हुआ, तब तक हजारों लोगों की जान जा चुकी थी। गणना के आधार पर इस आपदा से भोपाल का लगभग 20 वर्ग किलोमीटर हिस्सा प्रभावित हुआ था, लगभग 8000 लोगों की मृत्यु हुई थी, जिनकों सामूहिक रूप से दफनाया गया और अंतिम संस्कार किया गया। लगभग 2,000 जानवरों के शव को विसर्जित कर दिया गया। इस गैस से लगभग 5 लाख लोग पीड़ित हुए थे। हालांकि सरकार ने गैस त्रासदी में पीड़ित हुए लगभग 450 परिवारों को पुनर्वास की सुविधा दी, साथ ही जिन लोगों की मृत्यु हुई, उनके लिए 1 लाख और पीड़ित हुए लोगों को 25 हजार रूपये के मुआवजे की घोषणा की गयी, जिसे बाद में आवंटित किया गया। इस साल भोपाल में विद्यार्थियों को बिना परीक्षा लिए पास कर दिया गया था।

क्या हुई गलतियाँ :

हालांकि, सरकार के पास उस समय भी इस त्रासदी के लिए सिर्फ भरपाई करने का ही एक रास्ता था, जो सरकार ने किया, लेकिन यदि आपने पूरा घटना क्रम ध्यानपूर्वक पढ़ा होगा तो, आपको कई जगह कुछ ऐसी गलतियां नजर आई होंगी। जिन्हें जानबूझ कर नजरअंदाज किया गया था। जैसे -

पहली गलती :

गलतियों की शुरुआत कुछ इस तरह हुई कि, जब अन्य कंपनियां कारबेरिल गैस का इस्तेमाल करती थी, तब UCIL ने सिर्फ कम लागत के कारण MIC का चुनाव किया जो कि, एक बड़ी गलती है यदि UCIL कंपनी भी दूसरी गैस का इस्तेमाल करती तो शायद इतनी जहरीली गैस से लोग बच जाते।

दूसरी गलती :

इसके बाद 1981 से 1984 के बीच जब कई बार गैस का रिसाव हुआ, जिसमें कम नुकसान हुआ; यदि तब ही प्रशासन थोड़ा सचेत और जागरूक हो जाता तो शायद इतनी बड़ी घटना नहीं होती। इस गलती को भी नजरअंदाज किया गया।

तीसरी गलती :

साल 1980 तक इस कीटनाशक की मांग कम हो जाने के बाद भी कंपनी लगातार इस जहरीली गैस को बनाती रही।

चौथी गलती :

E610 टैंक जब 40 टन MIC के लिए ही बना था, तो उसमें 42 टन MIC रखना भी एक बड़ी गलती ही थी।

पांचवी गलती :

लगातार कंपनी की हालत जर्जर होती जा रही थी, लेकिन कंपनी के रखरखाव और मरम्मत का ख्याल किसी को नहीं था, पाइपलाइन में जंग लगी हुई थी, जिससे वर्कर बाल्व बंद करने में असमर्थ रहा और उसकी वहीं मृत्यु हो गई। यदि कंपनी इन सभी गलतियों पर समय रहते ध्यान देती तो, शायद इस दुर्घटना में मारे गए लोग आज हमारे बीच जिन्दा होते।

गैस त्रासदी का प्रभाव :

भोपाल गैस त्रासदी का प्रभाव कहीं न कहीं आज भी नजर आता है। न जाने कितने पेड़-पौधे बंजर हो गए। गैस रिसाव के चलते लगभग 5 लाख लोग जख्मी हुए, कई आंशिक तौर पर अस्थायी विकलांग हो गए। जो लोग इस गैस की चपेट में आये और आज भी जिन्दा है, उसका असर उनके द्वारा जन्म दिए बच्चों पर भी हुआ है। इस गैस का असर मात्र दुर्घटना के समय तक ही सीमित नहीं था। खबरों के अनुसार, इस घटना का जिम्मेदार वॉरन एंडरसन को बताया गया जो, फैक्ट्री का संचालक था। एंडरसन इस घटना के तुरंत बाद ही अमेरिका चले गए और यहाँ उनके नाम से केस चलता रहा। भारत सरकार उसे अमेरिका से भारत लाने में असफल रही और फिर 29 सितंबर, 2014 को उसकी मौत हो गई। इस मामले में किसी को सजा नहीं मिली सिवाय उनके जो इस गैस की चपेट में आये थे।

Bhopal gas tragedy affected people

Bhopal gas tragedy affected people

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।