मेडिकल कॉलेजों के शिक्षकों ने दिया इस्तीफा
मेडिकल कॉलेजों के शिक्षकों ने दिया इस्तीफा|Social Media
मध्य प्रदेश

आंदोलन की राह पर मेडिकल शिक्षक, सौंपा इस्तीफा

भोपाल, मध्यप्रदेश : प्रदेश में सरकार के खिलाफ अतिथि शिक्षकों और विद्वानों के विरोध प्रदर्शन के बाद अब मेडिकल कॉलेजों के शिक्षकों ने भी मौर्चा खोल दिया है।

Deepika Pal

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। प्रदेश में सरकार के खिलाफ नियमितता और वेतन की मांगों को लेकर अतिथि विद्वानों और शिक्षकों द्वारा हड़ताल, विरोध प्रदर्शन जारी है, इसमें अब मेडिकल कॉलेजों के शिक्षकों के द्वारा विरोध प्रदर्शन भी जुड़ गया है। दरअसल राजधानी के 7 सरकारी मेडिकल कॉलेजों के हजारों शिक्षकों ने इस्तीफा दिया है, शिक्षकों का कहना है कि समयबद्ध पदोन्नति समेत अन्य मांगों पर सरकार का कोई उचित जवाब नहीं मिला है। बता दें कि मांग को लेकर प्रदेश के सभी 13 सरकारी मेडिकल कॉलेजों के चिकित्सा शिक्षक सामूहिक रूप से इस्तीफे देने के लिए अड़े थे।

9 जनवरी से काम बंद करने का किया ऐलान :

बता दें कि मंत्रियों और यूनियन के अध्यक्ष के बीच हुई बैठक में कोई स्पष्ट जवाब ना मिलने पर चिकित्सा शिक्षकों के संघ ने कॉलेजों के डीन को सामूहिक रूप से इस्तीफा सौंपने की बात कही है साथ ही 9 जनवरी से काम बंद करने का भी ऐलान किया है। जिस संबंध में डॉ. अग्रवाल ने बताया कि, मरीजों को होने वाली परेशानी को देखते हुए सामूहिक रूप से इस्तीफा देने की बात सरकार से महीने भर पहले ही की जा चुकी है, अब सरकार को ही मरीजों के इलाज की व्यवस्था करनी होगी।

बैठक से नहीं मिला कोई स्पष्ट जवाब :

बता दें कि, बीते दिन प्रदेश मंत्रालय में चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ, प्रमुख सचिव शिवशेखर शुक्ला की अध्यक्षता में प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों के शिक्षकों के संघ के अध्यक्षों के बीच इस संबंध में लेकर बैठक की गई थी। जिसमें मंत्री ने कहा कि, हम आपकी मांगों पर विचार कर रहे हैं। आंदोलन को लेकर जल्बाजी मत करिए। सिर्फ आश्वासन से नाराज होकर चिकित्सा शिक्षकों ने इस्तीफा देने का ऐलान किया।

चिकित्सा शिक्षकों की मांग, स्पष्ट नीति बनाए सरकार :

दरअसल प्रदेश के सरकारी चिकित्सा कॉलेजों के शिक्षकों की सरकार से मांग थी कि, सातवें वेतन आयोग के तहत मिलने वाले वेतन और भत्तों में आने वाली विसंगतियों को दूर करें जिसके लिए शिक्षक संघ का कहना है कि सरकार इस संबंध में स्पष्ट नीति बनाए ताकि, इसका लाभ हमें मिल सके।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co