Raj Express
www.rajexpress.co
ऑटो चालकों ने की मनमानी कमाई
ऑटो चालकों ने की मनमानी कमाई|Social Media
मध्य प्रदेश

पुलिस के पहरे में सुरक्षा चाक-चौबंद, ऑटो चालकों ने की मनमानी कमाई

अयोध्या फैसले को लेकर शहर के लोगों में अमन चैन एवं शांति बनाए रखने के लिए जहां धारा 144 लागू होने के बाद पुलिस व्यवस्था की चौकसी खासकर शहर में।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। अयोध्या फैसले को लेकर शहर के लोगों में अमन चैन एवं शांति बनाए रखने के लिए जहां धारा 144 लागू होने के बाद पुलिस व्यवस्था की चौकसी खासकर शहर के संवेदनशील क्षेत्रों में सुबह 7 बजे से ही दिखना शुरू हो गई। पुलिस ने कॉलोनियों एवं मोहल्लों में किराना दुकानों को बन्द कराने के लिए पूरी सख्ती दिखाई। हालांकि 70 फीसदी दुकानें पुलिस प्रशासन की सख्ती के डर से बंद तो रही, लेकिन 30 फीसदी किराने के दुकानदार आधी दुकान खोलकर दिनभर दुकानदारी करते नजर आए।

स्थिति ये थी कि, इन दुकानदारों द्वारा सांची, सौरभ एवं अमूल दूध के आधा लीटर पैकेटों की कीमतों में दोगुना इजाफा कर आम लोगों को दिनभर लूटते रहे। यही नहीं, किराना दुकानदारों द्वारा रोजमर्रा की आवश्यक खाद्य सामग्री भी रोज से डेढ़ से दोगुने कीमतों पर धड़ल्ले से बेचते नजर आए। शक्कर 50 से 60 रुपए किलो, ऑटा 40 से 45 रुपए किलो, खाद्यतेल 130 से 150 रुपए प्रति किलो बेचकर मनमानी तौर से आम लोगों से पैसे ऐंठने में पीछे नहीं रहे।

शहर के विभिन्न क्षेत्रों में रविवार को सुबह जहां पुलिस सड़कों पर चौकस थी, वहीं उन्हीं के सामने निकलने वाले सब्जी के ठेलों ने मनमाने दाम पर सजियां धड़ल्ले से बेची। सब्जी ठेले वालों ने आम आदमी को 60 रुपए प्रति किलो लौकी, आलू 40 रुपए किलो, प्याज 100 रुपए किलो, टमाटर 80 रुपए किलो, भिण्डी 75 रुपए किलो, बैगन 40 रुपए किलो, पालक 50 रुपए प्रति गड्डी, फूल गोभी 60 रुपए किलो, फूल गोभी 85 रुपए प्रति किलो, हरी मिर्च 100 रुपए प्रति किलो की दर से आम लोगों को धड़ल्ले से बेचते रहे।

ऑटो वालों ने यात्रियों से वसूला 250 रुपए तक किराया

भोपाल स्टेशन से अशोका गार्डन तक ऑटो वालों ने यात्रियों से वसूला 250 रुपए तक किराया। शनिवार को भोपाल स्टेशन पर यात्रियों की भीड़ लगातार शाम तक बनी रही। विभिन्न शहरों से भोपाल आने वाले यात्रियों को आपे एवं ऑटो वालों ने जमकर लूटा। आज दिन भर स्टेशन से शहर के विभिन्न क्षेत्रों में जाने वाले यात्री परेशान होते रहे। जितना किराया नई दिल्ली से भोपाल का ट्रेन का दिया, उससे दो गुना किराया ऑटो वालों ने भोपाल स्टेशन से उनके घर तक जाने का वसूलने में पीछे नहीं हटे। वैसे भी रोज की तरह बड़ी संख्या में चलने वाले आज ऑटो एवं आपे की संख्या 60 फीसदी कम रही। सिर्फ 40 फीसदी ऑटो एवं आपे वाले ही सड़क पर उतरे।

बाजारों में पसरा सन्नाटा

शहर के तमाम बाजारों में शनिवार सुबह से ही पूरी तरह से सन्नाटा पसरा रहा। चौक बाजार, न्यू मार्केट, दस नंबर मार्केट, भेल आदि बाजारों में पूरी तरह से दुकाने बंद रही। पुलिस के गश्ती वाहन लगातार पेट्रोलिंग करते रहे। अति संवेदन शील इलाकों में भीड़ एकत्र होने पर पुलिस ने लाउड स्पीकर से अनाउंस कर लोगों को घरों में रहने की हिदायत दी। कहीं लोगों के हुजूम एकत्र नहीं होने दिए गए।

48 घंटे से सड़कों पर पुलिस

बीते 48 घंटो से लगातार शहर की सड़कों पर पुलिस बल पूरी तैयारी के साथ तैनात है। सभी थाना प्रभारी दल-बल के साथ गश्त कर रहे हैं। शनिवार को शहर के किसी भी मार्केट को पुलिस ने खुलने नहीं दिया जिससे किसी भी प्रकरण में भीड़ एकत्र हो। राजधानी की सड़कों पर पसरे सन्नाटे से अघोषित कर्फू नजर आ रहा था। हालांकि आवश्यक वस्तुओं की बिक्री पर किसी प्रकार की रोक नहीं थी।

होटल संचालक की फजीहत

भोपाल में जब पूरी तरह से व्यापारी अघोषित बंद का सर्मथन अमन के लिए कर रहे थे। तब अशोका गार्डन का फेमस होटल का संचालक पुलिस की नाक में दम किए हुआ था। पुलिस टीम के जाते ही वह दुकान को खोल लिया करता था। एक आला अधिकारी के नेतृत्व में पुलिस शुक्रवार की देर रात और शनिवार तड़के होटल पर पहुंची और संचालक को कड़े अल्फाजों में चेतावनी देकर होटल को बंद कराया।

ऑटो और आपे वालों ने इन कॉलोनियों के किराए के वसूले इतने रुपए..

  • भोपाल स्टेशन से अशोका गार्डन तक किराया 170 से 250 रुपए तक

  • भोपाल स्टेशन से पिपलानी तक का किराया 240 से 380 रुपए तक

  • भोपाल स्टेशन से करोंद क्षेत्र तक 300 से 460 रुपए तक

  • भोपाल स्टेशन से साकेत नगर तक 270 से 400 रुपए तक

  • भोपाल स्टेशन से होशंगाबाद रोड के विभिन्न कॉलोनी तक 320 से 480 रुपए तक

  • भोपाल स्टेशन से कोलार रोड के विभिन्न कॉलोनियों तक 400 से 530 रुपए तक

  • भोपाल स्टेशन से न्यू मार्केट क्षेत्र एवं नेहरु नगर तक 260 से 350 रुपए तक

  • भोपाल स्टेशन से अरेरा कॉलोनी तक 280 से 360 रुपए तक

मनमानी किराए को लेकर बोले ऑटो और आपे संचालक

भोपाल स्टेशन से लेकर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में जाने वाले यात्रियों से ऑटो एवं आपे संचालकों द्वारा मनमानी किराए की वसूली को लेकर जब बात किया तो ऑटो संचालक नाम नहीं छापने पर यह बताया कि आज शहर के विभिन्न क्षेत्रों में पुलिस चौकसी है। इस दौरान यदि किसी प्रकार का अचानक कोई घटना होती है तो हमारे ऑटो की तोड़फोड़ होना स्वाभाविक है। ऐसे में उसकी भरपाई करना हमारे लिए बहुत कठिन होगा। वहीं दूसरी ओर कुछ ऑटो एवं आपे चलाने वाले संचालकों ने यह जवाब दिया कि स्टेशन से यात्रियों के गंतव्य तक तो चले जाएंगे, लेकिन वापसी में हमें कोई सवारी नहीं मिलती, जिससे हमें खाली ही वापस स्टेशन तक लौटना पड़ता है। ऐसे में हम जो किराए वसूल रहे हैं वह हमारे हिसाब से ठीक है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।