हस्ताक्षर समारोह का CM ने किया शुभारंभ
हस्ताक्षर समारोह का CM ने किया शुभारंभ Social Media

ओंकारेश्वर फ्लोटिंग सौर परियोजना के प्रथम चरण के अनुबंध हस्ताक्षर समारोह का CM ने किया शुभारंभ

भोपाल, मध्यप्रदेश : भोपाल में आयोजित विश्व की सबसे बड़ी 'ओंकारेश्वर फ्लोटिंग सौर परियोजना' के प्रथम चरण के अनुबंध हस्ताक्षर समारोह का शुभारंभ मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्वलन एवं कन्यापूजन कर किया।

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज भोपाल के कुशाभाऊ ठाकरे अंतरराष्‍ट्रीय सभागार (मिंटो हाल) में विश्व की सबसे बड़ी 'ओंकारेश्वर फ्लोटिंग सौर परियोजना' के प्रथम चरण (278 MW) का अनुबंध हस्ताक्षर समारोह आयोजित किया गया। इस समारोह में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हिस्सा लिया।

ओंकारेश्वर फ्लोटिंग सौर परियोजना के प्रथम चरण (278 MW) का अनुबंध हस्ताक्षर समारोह

सीएम ने इस समारोह का शुभारंभ दीप प्रज्वलन एवं कन्यापूजन कर किया :

भोपाल में आयोजित विश्व की सबसे बड़ी 'ओंकारेश्वर फ्लोटिंग सौर परियोजना' के प्रथम चरण के अनुबंध हस्ताक्षर समारोह का शुभारंभ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दीप प्रज्वलन एवं कन्यापूजन कर किया। वही 'ओंकारेश्वर फ्लोटिंग सौर परियोजना' के प्रथम चरण के अनुबंध हस्ताक्षर समारोह में मुख्यमंत्री ने ऊर्जा आंकलन मार्गदर्शिका का विमोचन किया।

यहां सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि, आज हमारा एक सपना साकार हो रहा है। हमने सबसे पहले 750 मेगावाॅट का सोलर पाॅवर प्लांट लगाया था, लेकिन ओंकारेश्वर का सोलर पाॅवर प्लांट अपने आप में अद्भुत है। इसकी सतह पर हम सोलर पैनल बिछाएंगे और उससे बिजली बनेगी। सीएम बोले- आज जिस सोलर पाॅवर प्लांट का अनुबंध हस्ताक्षर पर हम समारोह कर रहे हैं। वह दुनिया का सबसे बड़ा है। जमीन की तुलना में पानी की सतह पर सोलर पैनर बिछाने पर बिजली का उत्पादन ज्यादा होता है।

  • आज मुझे अत्यंत प्रसन्नता है कि हमारा एक सपना साकार हो रहा है, एक संकल्प पूरा हो रहा है। ओंकारेश्वर का यह फ्लोटिंग सोलर पावर प्लांट अपने आप में अद्भुत है।

  • जिस सोलर पावर प्लांट का अनुबंध हस्ताक्षर समारोह हम कर रहे हैं वह दुनिया का अब तक का सबसे बड़ा फ्लोटिंग Solar पावर प्लांट है। फ्लोटिंग Solar पैनल बिछाने के लिए जमीन की जरूरत ही नहीं है इसलिए विस्थापन भी शून्य है। सोलर पैनल बिछाने पर बिजली भी बनेगी और पानी भी बचेगा।

  • प्रधानमंत्री ने दुनिया को पंचामृत का मंत्र दिया है। वह एक विजनरी और वैश्विक लीडर हैं। इस Solar पावर प्लांट से लगभग 12 लाख मीट्रिक टन कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन रोका जा सकता है। यह 1 करोड़ 92 लाख पेड़ लगाने के बराबर है।

भोपाल को 124 दिन पीने के जितने पानी की जरूरत होती है। उतना पानी हमारे इस प्लांट के कारण ओंकारेश्वर में बच जाएगा। प्लांट लगने से शैवाल जैसी वनस्पतियां कम उत्पन्न होंगी। इससे पानी पीने के लायक हो जाएगा।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co