वन मंडल अधिकारियों की एक दिवसीय समीक्षा बैठक में शामिल हुए सीएम शिवराज
वन मंडल अधिकारियों की समीक्षा बैठक में शामिल हुए सीएम शिवराज Social Media

वन मंडल अधिकारियों की एक दिवसीय समीक्षा बैठक में शामिल हुए सीएम शिवराज

भोपाल, मध्यप्रदेश: प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वन मंडल अधिकारियों की एक दिवसीय समीक्षा बैठक और कार्यशाला में हिस्सा लिया है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। प्रदेश में एक ओर जहां सरकार द्वारा कई योजनाओं पर कार्यों का दौर जारी है वहीं दूसरी तरफ आज यानि बुधवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वन मंडल अधिकारियों की एक दिवसीय समीक्षा बैठक और कार्यशाला में हिस्सा लिया है। जहां कहा कि, कोरोना काल में मध्यप्रदेश के वन विभाग ने सराहनीय काम किया है। इसके लिए मैं पूरे विभाग को बधाई देता हूँ।

समीक्षा बैठक के दौरान सीएम शिवराज ने कही बात

इस संबंध में, प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने समीक्षा बैठक के दौरान कहा कि, क्लाइमेट चेंज आज एक बहुत बड़ी चुनौती है हमारे सामने। पेड़ों का यदि हम संरक्षण करते हैं तो वह केवल पेड़ ही नहीं, धरती का भी संरक्षण होता है। वनों को बचाना आज बहुत ज़रूरी है। मध्यप्रदेश का वन विभाग इस दिशा में अच्छा कार्य कर रहा है। तथाकथित सभ्य समाज ने अपनी एक अलग दुनिया बसा ली। वनों में रहने वाले हमारे जनजातीय भाई-बहन विकास की दौड़ में पीछे रह गए। विकास के लिए उन्हें पीड़ित और प्रताड़ित करना उचित नहीं है। हमें उनका ध्यान रखना ज़रूरी है लेकिन माफिया पर कड़ी कार्रवाई हो।

'बफर में सफर' जैसी आर्थिक गतिविधियाँ की प्रारम्भ - सीएम शिवराज

इस संबंध में, आगे अपनी बात रखते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि,हमें जंगल में रहने वाले भाइयों को उनका अधिकार देना है। नए कब्ज़े न हों इसका ध्यान रखा जाए। वनों में रहने वाले जीव-जंतुओं का भी संरक्षण हो। हमने 'बफर में सफर' जैसी आर्थिक गतिविधियाँ प्रारम्भ की हैं। इससे वन संरक्षण के प्रति जागरुकता फैलेगी। हम अब प्लांटेशन करें, तो स्थानीय प्रजातियों को तरजीह दी जाए। अमरकंटक में जहाँ शाल के पेड़ थे, वहाँ युकेलिप्टस के पेड़ लगा दिए गए, जो गलत है। वनकर्मियों और वनाधिकारियों की सुरक्षा के लिए भी उपाय किये जाएँ।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co