बासमती के GI टैग विवाद में दिग्गी का शिवराज पर तीखा वार, पत्र से कही बात
बासमती के GI टैग विवाद में दिग्गी का शिवराज पर तीखा वारSyed Dabeer-RE

बासमती के GI टैग विवाद में दिग्गी का शिवराज पर तीखा वार, पत्र से कही बात

भोपाल, मध्यप्रदेश: पूर्व सीएम दिग्विजय ने भी अपने बयान का तीखा वार सीएम शिवराज पर किया है जहां पत्र के माध्यम से कई बातें कही हैं।

भोपाल, मध्य प्रदेश। प्रदेश में महामारी कोरोना का प्रकोप जहां लगातार बढ़ता ही जा रहा है वहीं दूसरी तरफ राजनीतिक गलियारे में किसी न किसी मुद्दे पर राजनेताओं के मध्य बहस बाजी की जंग छिड़ी रहती है इस बीच ही प्रदेश के बासमती के जीआई टैग को लेकर प्रदेश और पंजाब में चल रहे विवाद में अब पूर्व सीएम दिग्विजय ने भी अपने बयान का तीखा वार सीएम शिवराज पर किया है जहां पत्र के माध्यम से कई बातें कही हैं।

दिग्गी ने शिवराज पर किए तीखे प्रहार

इस संबंध में, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को तीखा पत्र लिखा है। जिसमें अपने पत्र में लिखा कि, बासमती की टैगिंग को लेकर आपने बयानबाजी के सिवा कुछ नहीं किया। घड़ियाली आंसू मत बहाइए, मेरे साथ प्रदेश के सांसदों को लेकर दिल्ली चलिए, हम किसानों के हित के लिए प्रधानमंत्री आवास के सामने धरना देंगे। बताया जा रहा है कि, पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने पत्र की प्रतिलिपि केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को भी भेजी है।

इससे पहले नाथ ने भी ट्वीट कर बीजेपी को था घेरा

इस संबंध में, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि, भाजपा हर मामले में झूठ बोलने व झूठ फैलाने में माहिर है, मध्यप्रदेश के बासमती चावल को जी.आई टेग मिले , मैं व मेरी सरकार सदैव से इसकी पक्षधर रही है और मैं आज भी इस बात का पक्षधर हूँ कि यह हमें ही मिलना चाहिये।, मैं सदैव प्रदेश के किसानों के साथ खड़ा हूँ , उनके हितों के लिये लड़ता रहूँगा, इसमें कोई सोचने वाली बात ही नहीं है। बासमती चावल को जी.आई.टेग मिले , इसकी शुरुआत ऐपिडा ने नवम्बर 2008 में की थी। उसके बाद 10 वर्षों तक प्रदेश में भाजपा की सरकार रही।जिसने इस लड़ाई को ठीक ढंग से नहीं लड़ा। जिसके कारण हम इस मामले में पिछड़े।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co