Raj Express
www.rajexpress.co
पकड़ी गयी अवैध लकड़ी से भरी ट्राली
पकड़ी गयी अवैध लकड़ी से भरी ट्राली|Social Media
मध्य प्रदेश

पकड़ी गयी अवैध लकड़ी से भरी ट्राली, मालिक ने दी आग लगाने की धमकी

भोपाल, मध्यप्रदेश: वन विभाग के उड़नदस्ते ने कार्रवाई करते हुए लकड़ी का अवैध परिवहन करते हुए ट्रैक्टर-ट्राली को पकड़ा, पहले भी दर्ज हो चुके हैं आरा मशीन मालिक के खिलाफ मामले।

Deepika Pal

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश की राजधानी में वनमण्डल के उड़नदस्ते ने इमारती लकड़ी का अवैध परिवहन कर ले जाते हुए एक ट्रेक्टर-ट्रॉली को गांधीनगर बायपास के हाईवे से जप्त किया। जिस मामले पर उड़नदस्ता प्रभारी को मुखबिर से सूचना मिली थी कि पकड़ी गई ट्रॉली श्यामपुर जिला सीहोर से आ रही है। जप्त की ट्रॉली में अवैध रूप से सत्कट के पटिये भरे हुए थे जो गांधीनगर में स्थित ज्योति सॉ मिल आरा मशीन ले जाये जा रहे थे। कार्रवाई में चालक के पास से कोई भी लकड़ी के परिवहन अनुज्ञा पत्र, बिल, चालान सहित दस्तावेज नही मिले, फिलहाल ट्रेक्टर-ट्रॉली को जप्त कर अहमदपुर लकड़ी डिपो में खड़ा कर दिया गया है।

पकड़े जाने पर आरामशीन मालिक ने किया हंगामा :

इस संबंध में उड़नदस्ता प्रभारी की जानकारी के मुताबिक, अवैध परिवहन करते पकड़े जाने पर ट्रेक्टर मालिक भी घटनास्थल पर पहुंचा और हंगामा कर वनकर्मियों के साथ बदसलूकी की साथ ही लकड़ी से भरी ट्रॉली में आग लगाने की धमकी देने लगा। जिसके बाद एसडीओ सुनील भारद्वाज से निर्देश मिलने के बाद उक्त आरोपी मालिक के खिलाफ धमकी देने और हंगामा करने के मामले में शिकायत थाना गांधीनगर में दर्ज करा दी गई है।

पहले भी दर्ज हो चुके हैं मालिक पर वन अपराध :

इस मामले पर आरके चतुर्वेदी ने बताया कि यह पहली बार नही हुआ है, इससे पहले भी ज्योति सॉ मिल के मालिक के खिलाफ कई वन अपराध दर्ज हो चुके हैं। जिसमें आरा मशीन मालिक की आरा मशीन पर अवैध रूप से लकड़ी का परिवहन कर लाई गई लकड़ी को चिरान करते पकड़ा गया था। इस वन अपराध की सूचना मिलने पर तत्कालीन उड़नदस्ता प्रभारी विभास बिल्लोरे ने प्रकरण दर्ज किया था, मामले की जांच आज भी जारी है। वहीं कुछ साल पहले उक्त मालिक की एक अन्य ट्रेक्टर ट्रॉली भी सेमल लकड़ी का अवैध परिवहन करते पकड़ा जा चुकी है। एक अन्य मामले में भोपाल नरसिंहगढ़ निर्माणाधीन रोड पर सड़क के दोनों और लगे पेड़ भी उक्त मालिक द्वारा अवैध रूप से काटने की शिकायत पूर्व सीसीसीफ एसपी तिवारी को मिली, इस मामले में वन विभाग ने उपायुक्त नगरनिगम, तहसीलदार और थाना परवलिया को कार्रवाई हेतु रिपोर्ट की गई थी। इस मामले की भी जांच जारी है।

कार्रवाई में रसूखदारों ने दबाव बनाना किया शुरू :

सूत्रों के अनुसार, कार्रवाई होने के बाद ही रसूखदारों ने फोन पर फ़ोन कर दबाव बनाना शुरू कर दिया था, हालांकि स्टाफ द्वारा जब बताया गया कि वो अपनी ड्यूटी ही कर रहे हैं तो एक तथाकथित नेता बोला कि हमारे संबंध बहुत ऊपर तक हैं यह वाहन हम वन मंत्री से छुड़वा लेंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।