सतना जिले में मजदूर की मौत समेत कोरोना को लेकर नाथ का शिवराज पर प्रहार
सीएम शिवराज पर कमलनाथ का तीखा प्रहारSyed Dabeer Hussain - RE

सतना जिले में मजदूर की मौत समेत कोरोना को लेकर नाथ का शिवराज पर प्रहार

भोपाल, मध्यप्रदेश: सतना जिले में मजदूर की मौत समेत कोरोना की वर्तमान स्थिति को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर निशाना साधा है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। वैश्विक महामारी कोरोना संकट का दौर जहां जारी है वहीं दूसरी तरफ संकट के माहौल में कई मुद्दों को लेकर विपक्ष और सरकार के बीच बयानबाजी का सिलसिला जारी रहता है इस बीच ही सतना जिले में मजदूर की मौत समेत कोरोना की वर्तमान स्थिति को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर निशाना साधा है।

सतना की घटना को लेकर पूर्व सीएम कमलनाथ ने कही ये बात

इस संबंध में, प्रदेश के कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट के जरिए सतना की घटना को लेकर कहा कि, मुझे सतना ज़िले के विधायक सिद्दार्थ कुशवाह ने जानकारी दी कि उनके क्षेत्र में स्थित बिरला सीमेंट फ़ैक्ट्री में क्रैशर में फँस कर एक मज़दूर रामनरेश पाल का सर, धड़ से अलग हो गया है। यह घटना सुबह की होने के बावजूद, प्रशासन फ़ैक्ट्री प्रबंधन के दबाव में परिजनों की कोई सुनवाई नहीं कर रहा है। परिजन मौक़े पर सुबह से ही मौजूद है। मै सरकार से माँग करता हूँ कि मृत मज़दूर के परिजनों की शिकायत पर आवश्यक कार्यवाही हो, पीड़ित परिवार को न्याय मिले।

क्या है पूरी घटना

इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार बताते चलें कि, सतना जिले के कोलगवां थाना अन्तर्गत बिरला सीमेंट फैक्ट्री में आज सोमवार को हुए हादसे में एक मजदूर का सिर से धड़ अलग हो गया। बताया जा रहा है कि, हादसे के बाद श्रमिक वर्ग में मातम छाया हुआ है तो वहीं रग-रग में गुस्सा भी भरा है। जिसमें मृत श्रमिक के शव संग फैक्ट्री के श्रमिक नेता भी घटनास्थल पहुंच गए और कंपनी प्रबंधन की लापरवाही के खिलाफ जमकर विरोध जताया।

कोरोना काल में आई सीएम शिवराज की योजनाओं पर कसा तंज

इस संबंध में, कोरोना काल में शिवराज सरकार की नीतियों पर सवाल उठाते हुए नाथ ने कहा कि, शिवराज सरकार की सारी योजनाएं काग़ज़ी ,दिखावटी होकर जनता को इसका कोई लाभ नहीं मिलता है। शिवराज सरकार की नींद भी हमेशा देर से ही खुलती है और आग लगने के बाद ये कुआँ खोदने की बात करते हैं। यही हालत वैक्सीन की भी है और अब जब पिछले 3 माह से जनता अस्पतालों की लूट-खसोट का शिकार होती रही, लुटती रही, मदद की गुहार लगाती रही, तब सोये रहे और अब जब कोरोना के आंकड़े कम हो रहे हैं, अस्पताल खाली हो रहे हैं तो सरकार को अस्पतालों के लिए इलाज की गाइडलाइन जारी करने की याद आयी, बेड-इलाज के नए रेट तय किये गए इसी से समझा जा सकता है  इस सरकार को जनता से कोई लेना-देना नहीं है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co