अतिथि विद्वानों ने लिखा खून से पत्र
अतिथि विद्वानों ने लिखा खून से पत्र|Deepika Pal - RE
मध्य प्रदेश

सरकार की वादाखिलाफी से दुःखी अतिथि विद्वानों ने लिखा खून से पत्र

भोपाल, मध्यप्रदेश : एक ओर प्रदेश कड़ाके की ठंड से ठिठुरने को मजबूर है वहीं दूसरी ओर अतिथि विद्वानों के धरने ने एक नया मोड़ लिया है।

Deepika Pal

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश में एक ओर प्रदेश सरकार विजन 2020 के तहत कार्य करने के लिए तैयारी कर रही है वहीं अतिथि विद्वानों के धरने ने नया मोड़ ले लिया है। दरअसल सरकार के वादों को याद दिलाने के लिए अतिथि विद्वानों ने अपने खून से कांग्रेस के दिग्गज नेताओं सोनिया गांधी, राहुल गांधी और मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखा है। उन्होंने वचनपत्र में किए गए वादों को याद दिलाने के लिए यह कदम उठाया है।

कांग्रेस ने वचनपत्र में किया था वादा :

बता दें कि, विधानसभा चुनाव के समय कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने जनता और प्रत्येक वर्ग के लिए वचनपत्र में वादे किए थे लेकिन सरकार के कार्यकाल के एक साल होने के बावजूद भी वादे अबतक पूरे नहीं हुए। वहीं इसी संबंध में अतिथि विद्वानों से भी नियमितीकरण को लेकर वादे किए थे जो पूरे नहीं हो पाए इसके चलते ही अतिथि विद्वान धरने पर बैठे हैं। पिछले 28 दिनों से राजधानी के यादगार-ए-शाहजंहानी पार्क में धरने पर बैठे अतिथि विद्वानों ने दु:खी होकर कांग्रेस को वादा याद दिलाते हुए पत्र लिखा है।

उच्च शिक्षा मंत्री पटवारी दे चुके हैं आश्वासन :

इस संबंध में सरकार के कैबिनेट उच्च शिक्षा मंत्री पटवारी अतिथि विद्वानों को आश्वासन देते हुए धरना खत्म करने की बात कह चुके हैं। मंत्री पटवारी का कहना है कि, सरकार पूरी सकारात्मकता से एक-एक अतिथि के हितों की रक्षा कर रही है जिसके लिए विद्वानों की नियुक्ति के लिए कैलेंडर निकाला हुआ है जो अतिथि विद्वान नियुक्त होते जाएं वह पुन: काम पर लौट जाए जिससे शिक्षा व्यवस्था सुचारू हो सके। उन्होंने कहा कि धरने पर बैठने से कुछ नहीं होगा। लोकतंत्र में सकारात्मक विरोध होना चाहिए मेरा आग्रह है कि, विद्वान धरने से उठ जाएं।

सरकार ने गठित की कमेटी :

इस मामले पर कैबिनेट बैठक में मुख्यमंत्री कमलनाथ उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी और मुख्य सचिव एसआर मोहंती सहित अधिकारियों की कमेटी गठन की गयी है जिसमें इस समस्या का जल्द हल निकाला जाएगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co