भोपाल : सन्नाटों के बीच शहर में देर रात तक चलता रहा होलिका दहन का सिलसिला
सन्नाटों के बीच शहर में देर रात तक चलता रहा होलिका दहन का सिलसिलाRaj Express

भोपाल : सन्नाटों के बीच शहर में देर रात तक चलता रहा होलिका दहन का सिलसिला

भोपाल, मध्यप्रदेश : पुराने शहर से लेकर नए शहर के विभिन्न जगहों पर कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए होलिका दहन किया। जिसके दौरान चंद लोग ही नजर आए।

भोपाल, मध्यप्रदेश। राजधानी में रविवार को होलिका दहन के मौके पर पूरे शहर में सन्नाटा पसरा रहा। वहीं, पुराने शहर से लेकर नए शहर के विभिन्न जगहों पर कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए होलिका दहन किया। जिसके दौरान चंद लोग ही नजर आए।

होलिका दहन पर बदला रहा शहर का स्वरूप :

कोरोना संक्रमण के चलते सैकडों साल बाद इस बार होलिका दहन पर बदला स्वरूप देखने को मिला। दरअसल, जहां राजधानी में इस पर्व को लेकर चलपहल रहती थी। वहीं इस साल रविवार को दिनभर लॉकडाउन के साए में पूरे शहर में सड़कों से लेकर कालोनियों तक सन्नाटा छाया रहा। शाम को कोराना गाइडलाइन के नियमों का पालन करते हुए लोगों द्वारा होलिका दहन का सिलसिला शुरू किया गया, जो देर रात तक जारी रहा। आपको बता दें कि राजधानी में करीब 800 से अधिक जगहों पर मास्क व सोशल डिस्टेंश के साथ 20-20 लोगों ने होलिका दहन किया।

गो काष्ठ व कंडों का किया उपयोग :

शहर में अधिकांश जगहों पर गो काष्ठ व कंडों का उपयोग कर होली जलाकर पर्यावरण बचाने का संदेश भी दिया गया। वहीं लोगों ने होलिका की परिक्रमा कर अपने लिए व बच्चों को कोरोना वायरस से बचने के लिए आशीर्वाद मांगा। सेमरा चांदबढ़ स्थित कबीर मंदिर परिसर में कोरी कोली समाज ने होलिका दहन के पूर्व अग्निदेव की पूजा की और कोरोना वायरस से मुक्ति के लिए प्रार्थना भी की।

500 से अधिक सामाजिक समितियों ने दिया संदेश :

जिले की 500 से अधिक सामाजिक समितियों और इतने ही कॉलोनियों के रहवासियों ने गोकाष्ठ, कंडे और गुलेरी से होलिका दहन कर लकड़ी बचाकर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया। गोकाष्ठ संवर्धन एवं पर्यावरण संरक्षण समिति ने होलिका दहन करने के लिए 1500 क्विंटल गोकाष्ठ उपलब्ध कराई गई थी, इसमें 750 क्विंटल गोकाष्ठ का होलिका दहन में उपयोग हुआ।

6:45 बजे के बाद शुरू हुआ होलिका दहन :

रविवार को होलिका दहन उत्साह, उमंग और पांच दिवसीय होली उत्सव के साथ शाम 6:45 बजे के बाद शुरू हो गया। राजधानी में अधिकांश जगह होलिका दहन शुरू हुआ। जोकि रात करीब 10 बजे तक जारी रहा। दरअसल, कोरोना संक्रमण व लॉक डाउन के चलते इस बार लोगों ने जल्द ही होलिका दहन कर प्रशासन की गाइडलाइन का पालन किया।

आज मनाई जाएगी धुलेंडी, नहीं निकलेंगे चल समारोह :

सोमवार को शहर में धुलेंडी की धूम रहेगी। लेकिन इस बार कोरोना काल के चलते प्रशासन ने घरों पर ही परिवार के साथ होली मनाने की अपील की है। साथ ही चल समारोह पर रोक लगा दी गई है। इसके चलते चल समारोह नहीं निकलेंगे।

शहर के इन स्थानों पर हुआ होलिका दहन :

राजधानी के पुराने शहर के चौक बाजार, सोमवारा, जवाहर चौक , जुमेराती, घोड़ा नक्कास, मंगलवारा, इतवाराए शाहजहांनाबाद, भोइपुरा, लालघाटी, सफाखाना, माता मंदिर, होली चौराहा अशोका गार्डन, पीपल चौराहा करोंद, गणेश मंदिर छोला, बस स्टैंड, इब्राहिमगंज, टीला जमालपुरा, रामानंद कॉलोनी, लालघाटी चौराहा, विजय नगर, गांधी नगर, सफा खाना, न्यू मार्केट रंगमहल चौराहा, जवाहर चौक टीटी नगर, भदभदा चौराहा, चांदबढ़, रातीबढ़, त्रिलंगा, कोटरा, नेहरू नगर सहित करीब 800 से अधिक स्थानों पर सोशल डिस्टेंश, के साथ मास्क लगाकर 20-20 लोगों के साथ होलिका दहन किया गया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co