Raj Express
www.rajexpress.co
प्री- वेडिंग शूट पर जैन और गुजराती समाज ने लगाया प्रतिबंध
प्री- वेडिंग शूट पर जैन और गुजराती समाज ने लगाया प्रतिबंध|Deepika Pal - RE
मध्य प्रदेश

संस्कृति की रक्षा के लिए जैन और गुजराती समाज ने लिया अनोखा निर्णय

भोपाल, मध्यप्रदेश : प्रदेश में शादियों का सीजन जारी है वहीं जैन और गुजराती समाज ने प्री- वेडिंग शूट, पुरुष कोरियोग्राफर की एंट्री पर रोक लगाने का अनोखा निर्णय लिया।

Deepika Pal

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। शादियों के सीजन में हर कोई व्यक्ति अपनी शादी को यादगार बनाना चाहता है, जिसके लिए प्री-वेडिंग शूट और संगीत के फैशन को अपनाते हैं। इसी फैशन पर अब प्रतिबंध लगाने का फैसला प्रदेश के जैन और गुजराती समाज ने लिया है। जिसे संस्कृति के खिलाफ बताया है। समाज जनों का कहना है कि, यह हमारी संस्कृति के साथ खिलवाड़ करते हुए कई समस्याएं उत्पन्न कर रहा है इस पर रोक लगनी चाहिए। इस निर्णय में प्री-वेडिंग शूट के अलावा महिला संगीत कार्यक्रमों में पुरुष कोरियोग्राफर को बुलाने पर और शादियों में महिलाओं के बारात में नाचने पर भी प्रतिबंध लगाया है।

परिपत्र जारी कर लिया फैसला :

इस संबंध में शहर के गुजराती समाज कार्यकारिणी ने फैसला लेते हुए कहा, कि शहर की शादियों में प्री-वेडिंग शूट और कोरियोग्राफी नहीं की जाएगी। जिस पर अब पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। गुजराती समाज के अध्यक्ष और राष्ट्रीय महामंत्री संजय पटेल ने बताया कि, एक परिपत्र जारी कर हम समाज में चेतना जागृत कर रहे हैं। इसे रोकने के लिए समाज के लोगों से निवेदन किया जाएगा कि, वे संगीत कार्यक्रम के दौरान कोरियोग्राफर का प्रवेश ना कराकर स्वंय ही कार्यक्रम आयोजित करें। जैन और गुजराती समाज दोनों ने ही इसे संस्कृति के खिलाफ माना है। परिपत्र में शर्तो को निर्धारित किया गया है।

फैसले का पालन न करने पर समाज करेंगे बहिष्कार :

इस संबंध में कहा गया कि, इस फैसले का यदि कोई विरोध करेगा तो उन्हें समाज से बहिष्कार किया जाएगा, परिपत्र के अनुसार भारत के पूरे गुजराती और जैन समाज में इस प्रतिबंध को लागू किया जाए।

इस फैसले पर लोगों का कहना है कि,

इस फैसले का जहां समाज के लोगों ने समर्थन किया वहीं कुछ लोगों ने इसकी कड़ी आलोचना की है।

"जैन समाज में अब न तो प्री-वेडिंग शूट होगा और न ही पुरुष कोरियोग्राफरों को फंक्शन में जाने दिया जाएगा। मेरे एक गुरू ने मुझे इस पर रोक लगाने की सलाह दी क्योंकि उनके अनुसार यह अश्लील था"

प्रमोद हिमांशु जैन, अध्यक्ष, जैन समाज

"प्री-वेडिंग शूट केवल यादें बनाने के लिए है। इसमें कुछ भी अश्लील नहीं है। जब आप पहले से ही उस व्यक्ति के साथ शादी तय कर चुके हैं तो क्या समस्या है। प्रतिबंध लगाना सही नहीं है,"

स्थानीय निवासी

"हमने प्रतिबंध का एक मसौदा भी तैयार किया है। यह अगली बैठक में जारी किया जाएगा। कई बार इस तरह की चीजों के कारण कई शादियां टूट जाती हैं और समाज में पूरे परिवार को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है"

भवन देव इसरानी, अध्यक्ष, सिंधी पंचायत

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।