Bhopal : अभी तक गड्डे नहीं खुदे और अब डंडा लेकर निलकने की बात कर रहे
अभी तक गड्डे नहीं खुदे और अब डंडा लेकर निलकने की बात कर रहेSyed Dabeer Hussain - RE

Bhopal : अभी तक गड्डे नहीं खुदे और अब डंडा लेकर निलकने की बात कर रहे

कमलनाथ ने कहा है कि पहले माफियाओं के लिए गड्डा खोदने निकले थे, आज तक गड्डा खुद नहीं पाया और अब भ्रष्टाचारियों के खिलाफ डंडा लेकर निकलने की बात कर रहे हैं, लेकिन वह भी सिर्फ चुनावी क्षेत्रों तक।

भोपाल, मध्यप्रदेश। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा विगत दिवस प्रदेश के कुछ हिस्सों में भ्रमण के दौरान भ्रष्टाचारियों से निपटने के लिए डंडा लेकर निकलने के बयान पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कटाक्ष किया है।

नाथ ने अपने ट्वीट में कहा है कि पहले माफियाओं के लिए गड्डा खोदने निकले थे, आज तक गड्डा खुद नहीं पाया और अब भ्रष्टाचारियों के खिलाफ डंडा लेकर निकलने की बात कर रहे हैं, लेकिन वह भी सिर्फ चुनावी क्षेत्रों तक। हिम्मत दिखाइए, प्रदेश के किसी भी हिस्से में, किसी भी मंच से, जनता से भ्रष्टाचार पर सवाल पूछ लीजिए, भ्रष्टाचार के इतने सबूत मिल जाएंगे कि आपके डंडे भी कम पड़ जाएगे। वैसे भी जब से प्रदेश में शिवराज सरकार आई है, भ्रष्टाचार चरम पर है, बिना लिए-दिए जनता का कोई काम नहीं होता है। वैसे भी मुख्यमंत्री को यदि गड़बड़ी ठीक ही करना है तो सबसे पहले डंडा चलाने की शुरुआत अपने मंत्रियों के यहां से, अपने करीबी अधिकारियों के यहां से करना चाहिए, जहां के भ्रष्टाचार के फि क्स रेट आज सर्वविदित हैं, जो भ्रष्टाचार के अड्डे बन चुके हैं। सच्चाई यह है कि शिवराज जी सिर्फ चुनावी क्षेत्रों में जनता को गुमराह करने के लिए इस तरह की नौटंकी कर रहे हैं, भ्रष्टाचारियों को तो भाजपा नेताओं व मंत्रियों का ही संरक्षण प्राप्त है।

गरीब को बनाया जा रहा निशाना :

प्रदेश में दलित, आदिवासी वर्ग के लोगों की पुलिस प्रताड़ना आदि से मौत को लेकर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। नाथ ने अपने ट्वीट में लिखा है कि ऐसा लग रहा है प्रदेश में दलित, आदिवासी, पिछड़े वर्ग, किसान व गरीब को चुन-चुन कर निशाना बनाया जा रहा है। चाहे नीमच की घटना हो या खरगोन, नेमावर की या अब खंडवा व डबरा की घटना हो, इसके उदाहरण सामने है। खंडवा जिले के मांधाता थाने में एक ओबीसी वर्ग के युवक की पुलिस हिरासत में मौत की घटना हो या ग्वालियर के डबरा में एक आदिवासी महिला को बंदूक़ तानकर पेड़ से बांधकर मारपीट की घटना हो, यह घटनाएं यह बता रही हैं, आज शिवराज सरकार में कानून व्यवस्था की क्या स्थिति है और किस प्रकार दलित, शोषित, पिछड़े वर्ग,आदिवासी वर्ग के खिलाफ दमन व उत्पीडऩ की घटनाएं प्रदेश में रोज घट रही हैं। आज अपराधियों में ना कानून का खौफ बचा है और ना लोगों का कानून पर विश्वास, आज रक्षक ही भक्षक बनते जा रहे हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co