अब कोरोना संकट में नहीं रुकेगी ऑक्सीजन की आपूर्ति
अब कोरोना संकट में नहीं रुकेगी ऑक्सीजन की आपूर्ति|Social Media
मध्य प्रदेश

भोपाल : अब कोरोना संकट में नहीं रुकेगी ऑक्सीजन की आपूर्ति, CM ने कही बात

भोपाल, मध्यप्रदेश: CM शिवराज ने महाराष्ट्र के CM उद्धव ठाकरे से फोन पर ऑक्सीजन सप्लाई रोके जाने की बात की है, जिस पर सप्लाई नहीं रोके जाने का आश्वासन मिला है।

Deepika Pal

Deepika Pal

भोपाल, मध्यप्रदेश। महामारी कोरोना का प्रकोप जहां किए जा रहे रोकथाम के बाद भी थमने का नाम नहीं ले रहा है वहीं दूसरी तरफ बढ़ते संक्रमण के बीच बीते दिन ऑक्सीजन की सप्लाई महाराष्ट्र द्वारा रोके जाने की ख़बर सामने आई थी जिस खबर पर अब नया मोड़ आया है जिसे लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यानि गुरुवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से फोन पर ऑक्सीजन सप्लाई रोके जाने और ऑक्सीजन की कमी को लेकर चर्चा की है। जिस पर सीएम शिवराज ने बताया कि, ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं रोकी जाने का आश्वासन मिला है।

सीएम शिवराज ने कही ये बात

इस संबंध में, इस ऑक्सीजन सप्लाई मुद्दे को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आपात बैठक बुलाई थी जिसमें बयान देते हुए कहा कि, "आज मैने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे से बात की है और उनसे आग्रह किया है कि ऐसे संकट के समय ऑक्सीजन की सप्लाई नही रोकनी चाहिए। जिस पर उद्धव ठाकरे यथा उचित कोशिश करेंगे कि ऑक्सीजन की सप्लाई न रुके। हमने वैकल्पिक व्यवस्था भी की है, प्रारंभ मे एमपी मे आक्सीजन की उपलब्धता थी केवल 50 टन, जिसे बढ़ा कर 120 टन तक कर ली है। आने वाली तारीख 30 सितंबर तक 150 टन तक ऑक्सीजन की व्यवस्था कर लेंगे। बता दे कि एमपी को महाराष्ट्र से 20 टन ऑक्सीजन मिलती थी।"

अब गुजरात और उत्तर प्रदेश से होगी ऑक्सीजन सप्लाई

इस संबंध में, आपको बताते चले कि, पहले प्रदेश में कोरोना मरीज के लिए आईनॉक्स की जो कंपनी 20 टन आक्सीजन नागपुर से सप्लाई करती थी, अब वही कंपनी गुजरात से और उत्तरप्रदेश से 20 टन आक्सीजन एमपी को सप्लाई करेगी। हमारे यहां आक्सीजन के जो छोटे - छोटे प्लांट है उनकी क्षमता भी कवल 50-60 टन थी, हमने उनसे आग्रह किया है कि वो फुल कैपिसिटी पर अपना प्लांट चलाएं। साथ ही बताया कि,बाबई (होशंगाबाद) में नया ऑक्सीजन प्लांट तैयार हो रहा है, इससे हमें फिर दूसरों पर ऑक्सीजन के लिए निर्भर नहीं रहना पड़ेगा।

सप्लाई रोके जाने से पनप गया था संकट

इस संबंध में, आपको बताते चले कि, महाराष्ट्र सरकार के ऑक्सीजन की सप्लाई रोकने से मध्य प्रदेश में संकट उत्पन्न हो गया था। प्रदेश में इस वक्त 20 फीसदी एक्टिव मरीज ऑक्सीजन पर निर्भर हैं। इसलिए अगस्त में हर दिन 90 टन ऑक्सीजन की खपत हुई। जहां प्रदेश के कई जिलों में भी ऑक्सीजन का संकट बना रहा है। जिसका कारण प्रतिदिन संक्रमण का संकट बढ़ना है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co