भोपाल: कृषि मंत्री पटेल ने शुरू की नई पहल, अब बायोगैस से प्रदूषण होगा कम
कृषि मंत्री पटेल ने शुरू की नई पहलSocial Media

भोपाल: कृषि मंत्री पटेल ने शुरू की नई पहल, अब बायोगैस से प्रदूषण होगा कम

भोपाल, मध्यप्रदेश: पराली जलाने से प्रदूषण की समस्या फिर से खड़ी हो गई है इससे निजात दिलाने के लिए कृषि मंत्री कमल पटेल ने नई और प्रभावी पहल की शुरूआत की है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। प्रदेश में वैश्विक महामारी कोरोना का प्रकोप जहां बना हुआ है वहीं दूसरी तरफ पराली जलाने से प्रदूषण की समस्या फिर से खड़ी हो गई है इससे निजात दिलाने के लिए प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने नई और प्रभावी पहल की शुरूआत की है जिसमें अब योजना के तहत पराली को उपयोगी बायोगैस में बदलने की तैयारी की जा रही है।

कृषि मंत्री पटेल ने योजना को लेकर दी जानकारी

इस संबंध में योजना को लेकर जानकारी देते हुए प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने बताया कि, खेतों में पराली जलाने से प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच रहा है जिससे निजात पाने के लिए किसानों के पास कोई दूसरा और आसान विकल्प नहीं है। इस कारण देश की अर्थव्यवस्था के असली नायक अन्नदाता किसान पर्यावरण के खलनायक रूप में सामने आ रहा है। वही साथ ही कहा कि, किसानों के साथ जुड़ी दिक्कतों को समझे बिना इसका हल नहीं निकाला जा सकता है। हाल ही के हालातों में खेतीहर मजदूरों की कमी और फसल की कटाई में हार्वेस्टर के उपयोग से पराली बड़ी समस्या बन गयी है और इसका समाधान किसान को जेल पहुंचाकर नहीं निकाला जा सकता।

आवश्यक प्लांट की आवश्यकता के लिए की जाएगी पहल

इस संबंध में आगे जानकारी देते हुए मंत्री पटेल ने बताया कि, योजना के तहत सबसे पहले कृषि वैज्ञानिकों के साथ विचार विमर्श कर प्रदेश में पराली से उपयोगी बायोगैस बनाने के उपाय पर अमल शुरू किया जा रहा है। बहुत जल्द इसके लिए आवश्यक प्लांट की स्थापना के लिए पहल की जाएगी। बताते चलें कि, किसानों और शासन के लिए संकट बनी पराली का बेहतर प्रयोग इस योजना से हो सकेगा। वही पराली से बनी इस बायोगैस का सीएनजी वाहनों सहित अन्य क्षेत्रों में ऊर्जा के तौर पर इस्तेमाल हो सकेगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co