22 बागी विधायकों की बेंगलुरू में आयोजित हुई प्रेस कांफ्रेंस
22 बागी विधायकों की बेंगलुरू में आयोजित हुई प्रेस कांफ्रेंस|Social Media
मध्य प्रदेश

MP में सत्ता संघर्ष चरम पर, CM को जमकर कोस रहे बागी विधायक

भोपाल, मध्यप्रदेश: प्रदेश की राजनीतिक उठापटक और फ्लोर टेस्ट की स्थिति से हटकर सिंधिया समर्थकों की बेंगलुरू में आयोजित हुई प्रेस कांफ्रेंस, कहीं ये बातें...

Deepika Pal

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश की राजनीति में सियासी उठापटक का दौर अब भी जारी है जहां राज्यपाल लाल जी टंडन ने फ्लोर टेस्ट कराने की बात पर मुख्यमंत्री कमलनाथ को चिट्ठी लिखी वहीं इधर बेंगलुरू में सिंधिया समर्थक और बागी 22 विधायकों की प्रेस कांफ्रेंस आयोजित हुई है। प्रेस कांफ्रेंस में जहां खुलकर पत्रकारों के सवालों के जवाब दिए वहीं कमलनाथ सरकार से नाखुश होने की बात कही। साथ ही बंधक बनाए जाने की बात से इनकार भी किया गया।

प्रेस कांफ्रेंस में बोले बागी विधायक

इस संबंध में पत्रकार वार्ता के दौरान सभी विधायकों ने प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि, आप हमसे खुले मन से सवाल पूछ सकते हैं जिसके साथ विधायकों के साथ पत्रकारों ने जवाब- तलब का दौर शुरू किया। इस दौरान विधायकों ने बंधक शब्द अलग करते हुए मुक्त रूप से घूमने की बात कही। वहीं बागी विधायकों ने कहा कि हम सभी कमलनाथ सरकार की कार्यशैली से नाखुश हैं जिसकी वजह से हम सभी ने इस्तीफा दिया है , साथ ही कहा यही कारण रहा है कि, हम डेढ़ साल में कुछ नहीं कर पाए। आगे कहा, सिंधिया व कमलनाथ के नेतृत्व में जो मध्य प्रदेश में सरकार बनी थी इसके साथ ही एक वचन पत्र भी बना था, तब सिंधिया ने कहा था कि सड़क पर उतर जाएंगे, आज जितने भी विधायक आए हैं, वो स्वयं आए हैं सरकार के पास हमारे लिए समय नहीं है। हालांकि हम बीजेपी में शामिल नहीं हुए हैं इसे लेकर हम तय करेंगे कि आगे क्या करना है।

15 मिनट का समय नहीं- विधायक गोविंद सिंह राजपूत

इस दौरान विधायक गोविंद सिंह राजपूत ने कहा कि, कमलनाथ जी ने कभी हमें 15 मिनट के लिए भी नहीं सुना, तो अपने क्षेत्र के विकास कार्यों को लेकर हमें किससे बात करनी चाहिए थी, इधर विधायक बिसाहूलाल ने कमलनाथ सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि, कमलनाथ जी ने मध्य प्रदेश का नहीं, सिर्फ छिंदवाड़ा का विकास किया है, मुख्यमंत्री पूरे प्रदेश का होता है, लेकिन कमल नाथ जी सिर्फ छिंदवाड़ा के सीएम बनकर रहे। नेता सिंधिया का पक्ष लेते हुए विधायक इमरती देवी ने कहा कि कमलनाथ जी के पास विधायकों और मंत्रियों से मिलने का टाइम नहीं है, सिंधिया हमारे नेता हैं। इसके साथ ही विधायकों ने आगे कहा कि, अभी तक सिर्फ 6 विधायकों का इस्तीफा स्वीकार किया गया है, लेकिन हमारा इस्तीफा अभी तक मंजूर नहीं हुआ है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co