विभागों में अधिकारी कर्मचारियों की भारी कमी
विभागों में अधिकारी कर्मचारियों की भारी कमी|Social Media
मध्य प्रदेश

विभागों में अधिकारी कर्मचारियों की भारी कमी, लगातार हो रहा है रिटायरमेंट

भोपाल, मध्यप्रदेश: मुख्यमंत्री से लेकर चीफ सेक्रेटरी तक को बताया गया कि लगातार रिटायरमेंट होने के कारण विभाग खाली हो रहे। जबकि काम का दायरा बढ़ रहा है।

Shahid Kamil

भोपाल, मध्यप्रदेश । कुछ समय की खामोशी के बाद एक बार फिर राज्य मंत्रालय में बंद पड़ी पदोन्नति को लेकर विभागों के अधिकारी और कर्मचारी सामने आए हैं। मुख्यमंत्री से लेकर चीफ सेक्रेटरी तक को बताया गया कि लगातार रिटायरमेंट होने के कारण विभाग खाली हो रहे। जबकि काम का दायरा बढ़ रहा है।

सरकार को बताया गया कि वर्ष 2016 से मंत्रालय के किसी विभाग में पदोन्नति का चैनल शुरू नहीं हुआ है। जबकि इसके विपरीत लगातार अधिकारी और कर्मचारी रिटायर हो रहे हैं। विभागबार अमले की कमी भी गिनाई गई है।बल्लभ भवन में करीब 50 से अधिक ऐसे विभाग हैं जहां विभिन्न पदों पर सेवकों का टोटा पड़ गया है। अब काम को गति देने के लिए यहां बाहर से लोग अटैचमेंट और प्रतिनियुक्ति पर आ रहे हैं। अधिकारी और कर्मचारियों का कहना है कि गृह विभाग में मात्र 50 फ़ीसदी अमला बचा हुआ है। यहां पर काम को गति देने के लिए थानों में पदस्थ पुलिस कर्मचारियों का सहयोग लिया जा रहा है। नगरीय प्रशासन विभाग में भी यही स्थिति है। यहां कई कर्मचारियों को अटैचमेंट पर बुलाकर काम करवाया जा रहा है। स्कूल शिक्षा में भी यही स्थिति है तो महिला बाल विकास आदिम जाति कल्याण वन कृषि कल्याण लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी लोक निर्माण ग्रामीण यांत्रिकी आर्थिक सांख्यिकी और खनिज ऐसे महत्वपूर्ण विभागों में पिछले 4 साल की अवधि में करीब 500 कर्मचारी अधिकारी रिटायर हो चुके हैं। दुर्भाग्य है कि प्रमोशन ना होने के कारण अनेक समस्याएं खड़ी हो रही है।

अधिकारी कर्मचारियों ने गिनाए पदोन्नति के फायदे

मंत्रालय मैं अधिकारी और कर्मचारियों ने पदोन्नति के कई फायदे भी गिनाए हैं। इनका कहना है कि जब निचले स्तर का कर्मचारी उच्च पद पर प्रमोशन पाकर जाएगा तो वह स्थान भरेगा। जबकि जिस पद से कर्मचारी प्रमोशन पाकर ऊपर पहुंचा है उस पद पर नई भर्तियों के अवसर भी खुलेंगे। पदोन्नति होने से रिटायरमेंट के समय भी सरकारी सेवक को इसका लाभ मिलेगा। मौजूदा समय में जो कर्मचारी और अधिकारी बिना प्रमोशन के रिटायर हो रहे हैं उसे जहां निराशा का घूंट पीना पड़ रहा है दूसरी तरफ उन्हें अन्य प्रमोशन संबंधी सुविधाएं नहीं मिल पा रही है। इस कारण सरकार को इस दिशा में विशेष ध्यान देना होगा।

मुख्य सचिव को लिखा गया है विधिवत पत्र

मंत्रालय के सभी विभागों में पदोन्नति शुरू करने के लिए मुख्य सचिव को पत्र लिखा गया है। मंत्रालय कर्मचारी संघ द्वारा यह चिट्ठी भेजी गई है। इसमें बताया गया है कि प्रमोशन ना होने से बल्लभ भवन में अधिकारी और कर्मचारियों का बड़ा नुकसान हो रहा है। नतीजतन सरकार को प्रमोशन के रास्ते निकालने होंगे। अगर ऐसा नहीं हुआ तो इसको लेकर निकट भविष्य में अधिकारियों कर्मचारी संयुक्त रूप से बड़ा विरोध कर सकते हैं। चीफ सेक्रेटरी को यह भी बताया गया है कि वह स्वयं विभागों का निरीक्षण कर सकते हैं। तब मालूम पड़ जाएगा कि बल्लभ भवन में बल की कितनी कमी है।

प्रमोशन के रास्ते आसानी से निकाल सकती सरकार

मंत्रालय कर्मचारी संघ के अध्यक्ष इंजीनियर सुधीर नायक का कहना है कि राज्य सरकार पदोन्नतियों के रास्ते आसानी से निकाल सकती है। इसके लिए सिर्फ इच्छाशक्ति की जरूरत है। उन्होंने कहा है कि मंत्रालय मैं बैठे हुक्मरान अधिकारी कभी भी मुख्यमंत्री को जमीनी हकीकत से अवगत नहीं करा रहे हैं। यही कारण है कि निचले सवर्गों को बड़ा आर्थिक नुकसान झेलना पड़ रहा है। सुधीर नायक का कहना है कि अब मंत्रालय ने पदोन्नति की लड़ाई तेज होगी। क्योंकि एक और जहां बिना प्रमोशन सेवक रिटायर हो रहे दूसरी तरफ रिक्त पदों पर भारतीय ना होने से मौजूदा कर्मचारियों अधिकारियों पर काम का अधिक दबाव बढ़ रहा है।

महंगाई भत्ता भी नहीं दे रही है राज्य सरकार - सतीश शर्मा

मंत्रालय कर्मचारी नेता सतीश शर्मा का कहना है कि राज्य सरकार सुविधाएं देने में लगातार पीछे हट रही है। सुविधाएं मिलने में सबसे बड़े बाधक अधिकारी बैठे हुए हैं। उन्होंने कहा है कि सरकार के निर्देशों का पालन करने में कर्मचारी और अधिकारी दिन रात एक कर रहे हैं। विभागों के प्रमुखों को हमारी मेहनत का आंकलन करके सुविधाएं दिलवाने में मदद करना चाहिए। सतीश शर्मा का कहना है कि लगातार मंत्रालय कर्मचारी प्रासंगिक लाभ प्राप्त करने में पिछड़ रहे हैं।

2 साल से बल्लभ भवन में प्रदाय नहीं की गई है वर्दी- राजकुमार पटेल

मंत्रालय कर्मचारी संघ के कार्यकारी अध्यक्ष राजकुमार पटेल का कहना है कि बल्लभ भवन में वर्ष 2018 एवं 19 से वर्दी ड्यू है। उन्होंने कहा है कि महंगाई भत्ते का लाभ भी समय पर नहीं मिल पा रहा है। राजकुमार पटेल का कहना है कि मंत्रालय में विभागों के प्रमुख सचिव अधिकारी कर्मचारियों को उनकी सुविधाएं दिलाने में कोई रुचि नहीं ले रहे हैं। अगर यह जिम्मेदार अधिकारी चाहते तो मंत्रालय ने कभी मांगों को लेकर कर्मचारी हड़ताल पर नहीं जा सकते हैं। उन्हीं की मनमानी के कारण मजबूरन आंदोलन करना पड़ रहा है।

पदोन्नति जैसी समस्या पर ध्यान देना जरूरी - सलीम खान

मंत्रालय कर्मचारी संघ के सचिव सलीम खान का कहना है कि वल्लभ भवन में पदोन्नति जैसी समस्या पर सरकार को गंभीरता से ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा है कि सरकार समय से प्रमोशन करें और जो रिक्त पद पड़े हुए हैं उन पर तत्काल भर्तियां होना चाहिए। अगर इन समस्याओं पर सरकार ने ध्यान दिया तो जहां काम गति पकड़ेगा वही कर्मचारी भी पूरी ताकत और ऊर्जा के साथ अपनी सेवाएं देंगे। उन्होंने कहा है कि विभागों में अमला कम होने के बावजूद मंत्रालय कर्मचारी क्षमता से अधिक काम कर रहे हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co