Bhopal : गुरु पुष्य-सर्वार्थ, अमृत सिद्धि योग में हुई जमकर खरीददारी, बाजार रहे गुलजार
गुरु पुष्य-सर्वार्थ, अमृत सिद्धि योग में हुई जमकर खरीददारीRaj Express

Bhopal : गुरु पुष्य-सर्वार्थ, अमृत सिद्धि योग में हुई जमकर खरीददारी, बाजार रहे गुलजार

भोपाल, मध्यप्रदेश : राजधानी भोपाल में गुरुवार को गुरु पुष्य-सर्वाथ, अमृत सिद्धि के विशेष संयोग ने व्यापार में चार चांद लगा दिए। शुभ मुहूर्त में लोगों ने जमकर खरीददारी की।

भोपाल, मध्यप्रदेश। राजधानी भोपाल में गुरुवार को गुरु पुष्य-सर्वाथ, अमृत सिद्धि के विशेष संयोग ने व्यापार में चार चांद लगा दिए। शुभ मुहूर्त में लोगों ने जमकर खरीददारी की। दरअसल पुष्य नक्षत्र नई वस्तु खरीदने की मान्यता के चलते किसी ने बाइक तो किसी ने सोने-चांदी के आभूषण और बर्तनों की खरीदी की। दोपहर तक बाजार में खास रोनक नहीं थी लेकिन शाम होते ही बाजार में रंगत आने लगी। देर रात तक लोग खरीददारी करते रहे। बाजार में आई रौनक से व्यापारियों के चेहरे खिल उठे। खासकर, न्यू मार्केट, दस नंबर, लखेरापुरा, चौक, सरार्फा बाजार में खरीददारों की खासी भीड़ देखी गई। व्यापारियों का कहना है कि पुष्य नक्षत्र में 10 प्रतिशत ग्राहकी में इजाफा हुआ है। व्यापारियों ने ग्राहकों को लुभाने के लिए आकर्षक उपहार दिए गए। ज्वेलरी, बर्तन और इलेक्ट्रॉनिक सामानों के कारोवार भी बेहतर हुए हैं। हालांकि पिछले वर्षो की अपेक्षा इस वर्ष सभी सामानों के दामों में भारी उछाल देखा जा रहा है।

पूजा और खरीदी होगी मंगलकारी

- इन दिनों शादियों का सीजन चल रहा है और बाजार गुलजार है। गुरु पुष्य के साथ-साथ सर्वार्थ सिद्धि योग, अमृत सिद्धि योग और रवि योग भी होने से यह दिन अत्यंत शुभ फलदायी रहा। विवाह के लिए सभी प्रकार की खरीदारी के लिए यह दिन विशेष शुभ रहा। इन दिनों शहर में शादियों की रौनक है। लग्न सीजन होने के कारण बाजारों में भी खरीदारी का सिलसिला चल रहा है।

ऐसे में इस शुभ मुहूर्त का आना सोने पर सुहागा जैसा रहा है। गुरुपुष्य नक्षत्र भूमि, भवन, वाहन, आभूषण, व्यापारिक अनुबंध सहित सभी प्रकार की खरीद फरोख्त और शुभ कार्यों के लिए विशेष शुभ माना गया है। इस दिन गुरु पुष्य के साथ सर्वार्थ सिद्धि, अमृत सिद्धि और रवि योग आने से यह दिन और भी अधिक खास हो गया।

स्थायित्व देती है गुरु पुष्य नक्षत्र में की गई खरीदारी

-पं. विष्णु राजौरिया के अनुसार कि गुरु पुष्य योग खरीदारी के लिए काफी शुभ माना गया है। सभी प्रकार के नक्षत्रों में पुष्य नक्षत्र को सर्वश्रेष्ठ माना गया है। खासकर जब पुष्य नक्षत्र गुरुवार और रविवार को आता है, तो यह क्रमश: गुरु पुष्य और रवि पुष्य योग का संयोग बनता है। यह दोनों ही योग खरीदारी के लिए विशेष शुभ माने गए हैं। इसमें की गई खरीदारी स्थायित्व प्रदान करती है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co