Bhopal : आज मुख्यमंत्री ने टीम क्लीन एण्ड ग्रीन के साथियों के साथ किया पौधरोपण
CM ने टीम क्लीन एण्ड ग्रीन के साथियों के साथ किया पौधरोपणSocial Media

Bhopal : आज मुख्यमंत्री ने टीम क्लीन एण्ड ग्रीन के साथियों के साथ किया पौधरोपण

भोपाल, मध्य प्रदेश। आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने टीम क्लीन एण्ड ग्रीन के साथी अखलाक अहमद, उमेर खान, जमील अनवर के साथ पीपल और करंज का पौधा लगाया।

भोपाल, मध्य प्रदेश। राज्य के मुख्यमंत्री 'One Plant A Day' के संकल्प के क्रम में प्रतिदिन पौधारोपण कर हैं, आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्मार्ट पार्क में दो पौधे लगाए हैं। इस अवसर पर कहा कि पेड़-पौधों से हमारी धरा और समृद्ध होगी व हमें अधिक शुद्ध प्राणवायु प्रदान कर स्वस्थ जीवन जीने का आशीर्वाद प्रदान करेगी, आप भी पौधरोपण कर अपनी धरती की सेवा कीजिए, धरा और जीवन को समृद्ध बनाइये।

आज सीएम ने लगाए ये पौधे

मिली जानकारी के मुताबिक मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने आज भोपाल के स्मार्ट पार्क में टीम क्लीन एण्ड ग्रीन के साथी अखलाक अहमद, उमेर खान, जमील अनवर के साथ पीपल और करंज का पौधा लगाया। सीएम ने ट्वीट कर बताया- टीम क्लीन एण्ड ग्रीन के युवा कबाड़ से जुगाड़ कर गंदगी से घिरे स्थलों को गार्डन का लुक दे रहे हैं। अब गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र, गौतम नगर, आदर्श नगर, राजीव नगर में कचरा घर को सुंदर पार्क बनाने में जुटे हैं। मैं टीम के सभी सदस्यो को अपनी शुभकामनाएं देता हूं।

सीएम ने पीपल के वृक्ष का महत्व बताते हुए कहा-

सीएम ने पीपल के वृक्ष का महत्व बताते हुए कहा कि पीपल एक छायादार वृक्ष है। इसका धार्मिक और आयुर्वेदिक महत्व भी है। प्रकृति विज्ञान के अनुसार पीपल का वृक्ष दिन-रात आक्सीजन छोड़ता है जो हमारे पर्यावरण के लिए महत्वपूर्ण है। यह पर्यावरण को शुद्ध भी करता है। उन्होंने कहा कि, इस वृक्ष की सकारात्मक ऊर्जा को देखते हुए ऋषि-महात्माओं ने पीपल वृक्ष के नीचे बैठ कर तप किया और ज्ञान अर्जित किया।

सीएम ने करंज के पौधे का महत्व बताते हुए कहा-

वहीं, सीएम ने करंज के पौधे का महत्व बताते हुए कहा- आयुर्वेदिक चिकित्सा में महत्वपूर्ण माने गए करंज के पौधे का इस्तेमाल धार्मिक कार्य में भी किया जाता है। यह कुष्ठ रोग के उपचार, घाव को जल्दी ठीक करने, सूजन दूर करने और कफ एवं वात का शमन करने में भी उपयोग में लिया जाता है। इसके पौधे की छाल को घिसकर लेप तैयार कर कुष्ठ एवं घाव के स्थान पर लगाने से लाभ होता है। इसका तेल कृमिनाशक होता है। इस पौधे की लकड़ी दातून के रूप में भी उपयोग में लाई जाती है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co