लोकायुक्त की बड़ी करवाई: रोजगार सहायक को 1 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा
लोकायुक्त ने रोजगार सहायक को 1 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ाSocial Media

लोकायुक्त की बड़ी करवाई: रोजगार सहायक को 1 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा

एमपी में रिश्वतखोरों के खिलाफ लोकायुक्त पुलिस की कार्रवाई लगातार जारी है। लोकायुक्त पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए रोजगार सहायक को रिश्वत लेेते गिरफ्तार किया है।

हाइलाइट्स-

  • प्रदेश में बढ़ता ही जा रहा है रिश्वतखोरी का दुष्चक्र!

  • रिश्वतखोरी का ताजा मामला शिवपुरी जिले से सामने आया

  • लोकायुक्त ने रोजगार सहायक को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा

  • कार्यालय के सामने ही ले रहा था रिश्वत

शिवपुरी, मध्य प्रदेश। एमपी में रिश्वतखोरों के खिलाफ लोकायुक्त पुलिस की कार्रवाई लगातार जारी है। इस बीच अब रिश्वतखोरी का नया मामला मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले से सामने आया है। यहां लोकायुक्त पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए रोजगार सहायक को रिश्वत लेेते गिरफ्तार किया है। इस कार्रवाई से जनपद पंचायत में हड़कंप मच गया।

बता दें कि, मध्य प्रदेश में भ्रष्टाचार के खिलाफ लगातार लोकायुक्त पुलिस द्वारा की जा रही कार्रवाई के तहत आज शिवपुरी जिले का एक रोजगार सहायक 1 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार हुआ है। वह करैरा जनपद पंचायत कार्यालय के सामने ही घूस ले रहा था। उसने ये रकम कमीशन के रूप में मांगी थी। लोकायुक्त ग्वालियर ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। मिली जानकारी के मुताबिक, रोजगार सहायक ग्राम पंचायत में हुए निर्माण कार्यों के बिल के भुगतान के बदले रिश्वत मांग रहा था।

इस मामले में ग्वालियर लोकायुक्त को शिकायत मिली थी कि, जनपद पंचायत नरवर के अधीन आने वाले ग्राम पंचायत सिलरा का रोजगार सहायक नरेन्द्र सिंह सोलंकी बिल पेमेंट कराने के बदले में सात प्रतिशत कमीशन मांग रहा था। ये शिकायत ग्राम सिलरा के सरपंच के भाई वसीम खान ने दी थी।

शिकायतकर्ता ने इस मामले में बताया कि, लगातार कमीशन की डिमांड से परेशान होकर मैंने लोकायुक्त ग्वालियर से संपर्क किया था। उनके द्वारा बताए गए तरीके से रिकॉर्डिंग की, फिर टीम ने ट्रैप किया। शिकायतकर्ता ने बताया कि, पंचायत के कामों में कमीशन के रूप में 2 लाख 17 हजार रुपये मांगे जा रहे थे। दो लाख में सौदा तय हुआ। पहली किस्त के एक लाख देने के दौरान रोजगार सहायक गिरफ्तार किया गया है।

जानकारी के लिए बता दें कि, रिश्वत मांगे जाने की शिकायत मिलने के बाद लोकायुक्त एक्शन में आई और पहली किश्त 1 लाख रुपये देने के लिए रोजगार सहायक को शिकायकतकर्ता के माध्यम से राजी किया। फिर आज आज बुधवार को फरियादी वासिम खान ने जनपद पंचायकत करैरा के पास सड़क पर शिवहरे चाट भंडार पर रोजगार सहायक नरेंद्र सोलंकी को फरियादी ने 01 लाख रुपये देने के लिए बुलाया। उसी दौरान लोकायुक्त टीम ने उसे दबोच लिया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.