सतना : पोस्टमार्टम टेबल पर मृतक हुआ जीवित, डॉक्टर की बड़ी लापरवाही आई सामने

सतना, मध्य प्रदेश : मध्य प्रदेश में सतना जिले के नागौद में रविवार को बेहद चौंकाने वाला मामला सामने आया। डॉक्टरों द्वारा मृत घोषित व्यक्ति पोस्टमोर्टम टेबल पर मिला जिंदा। डॉक्टरों से हुई बड़ी लापरवाही।
सतना : पोस्टमार्टम टेबल पर मृतक हुआ जीवित, डॉक्टर की बड़ी लापरवाही आई सामने
पोस्टमार्टम टेबल पर मृतक हुआ जीवितShashikant Kushwaha

सतना, मध्य प्रदेश। सतना जिले से डॉक्टरों की बड़ी लापरवाही। मध्य प्रदेश में सतना जिले के नागौद में रविवार को बेहद चौंकाने वाला मामला सामने आया। डाक्टरों ने करंट लगने से एक व्यक्ति को मृत घोषित कर दिया, लेकिन जब उसे पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया, तो पीएम टेबल पर शरीर में हलचल होने लगी। आनन फानन में उस युवक को जिला अस्पताल भेज दिया गया। इतनी बड़ी लापरवाही से नाराज परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन और डॉक्टरों के खिलाफ प्रदर्शन कर नाराजगी जताई।

जानें पूरा मामला :

मामला सतना जिले के नागौद, चंद्रकुइयां गांव का है जहाँ पर बच्चू कुशवाह (45) पिता रामप्रताप कुशवाह नाम के व्यक्ति जो कि सब्जी का थोक व्यापारी हैं। पहले तो पीड़ित ने अखंड रामायण का पाठ कराया था। दूसरे दिन भंडारे का आयोजन किया गया, गांव में मंदिर पर झंडा चढ़ाने दौरान बच्चू कुशवाह को करंट लग गया। करंट की घटना से अफरा तफरी का माहौल बन गया जिसके बाद परिजनों व ग्रामीणों की मदद से बेहोशी की हालत में उसे नागौद के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

पोस्टमार्टम हाउस में चलने लगी मृतक की साँस :

पुलिस को भी सूचना दी गई। शव के पोस्टमार्टम की प्रक्रिया शुरू करते ही उसके शरीर में हलचल होने लगी। हलचल देख पीएम करने वाले डॉक्टर के होश उड़ गए। परीक्षण किया तो युवक की सांसें चल रही थीं। तुरंत इसकी जानकारी पुलिस को दी गई। डॉक्टरों ने फिर उसे सतना जिला अस्पताल रैफर कर दिया।

घटना पर परिजनों ने जताई नारजगी :

जीवित व्यक्ति को मृत घोषित करने वाली घटना को लेकर मृतक के परिजनों में बेहद आक्रोश व्याप्त है तो वहीं इस सम्बंधित घटना को लेकर क्षेत्र में चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है। सबसे बड़ा प्रश्न चिन्ह चिकित्सकीय परीक्षण पर लगा है कि आखिरकार इतनी बड़ी लापरवाही कोई कैसे कर सकता है?

करंट लगने रक्त हो जाता है गाढ़ा :

बिजली का करंट लगने पर मनुष्य के शरीर में उपस्थित रक्त में जल की कमी हो जाती है यानि कि करंट शरीर के पानी को जला देता है जिससे खून गाढ़ा हो जाता है यहां तक कि रक्त गाढ़े हो जाने के कारण रक्त में मिश्रित ऑक्सीजन शरीर के सभी अंगो को नहीं मिल पाती है और ऑक्सीजन की कमी के कारण शरीर के अंग काम करना बंद कर देते हैं। यदि झटका तेज है तो रक्त से पानी काफी ज्यादा मात्रा में जल जाता है तो मौत भी हो जाती है क्योंकि गाढ़ा खून धमनियों और शिराओं में सही से प्रभावित नहीं हो पाता।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co