Raj Express
www.rajexpress.co
प्रदेश की राजनीति में मची हलचल
प्रदेश की राजनीति में मची हलचल|Deepika Pal - RE
मध्य प्रदेश

महाराष्ट्र में हुए उलटफेर से प्रदेश की राजनीति में मची हलचल

भोपाल, मध्यप्रदेश : महाराष्ट्र की राजनीति के हुए उलटफेर पर जहां एक ओर पक्ष के नेताओं द्वारा बधाईयों का दौर जारी है वहीं दूसरी ओर सियासी गलियारे में चल रही है बयानबाजी।

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। महाराष्ट्र की राजनीति में हुए सियासी घटनाक्रम पर अब प्रदेश के पक्ष और विपक्ष के नेताओं और मंत्रियों की प्रतिक्रिया भी सामने आ रही है। जहां एक ओर महाराष्ट्र में दोबारा मुख्यमंत्री बनने पर देवेंद्र फडणवीस को भाजपा के नेताओं द्वारा बधाईयां दी जा रही हैं वहीं विपक्ष के नेता लोकतंत्र के खिलाफ बताते हुए बयानबाजी कर रहे हैं।

बताईए शिवसेना में शकुनि मामा कौन"?- कैलाश विजयवर्गीय

भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने महाराष्ट्र के उलटफेर पर प्रतिक्रिया जाहिर कर सवाल पूछते हुए ट्वीट किया कि, आखिर शिवसेना में शकुनि मामा कौन? साथ ही महाराष्ट्र के नवोदित मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और उप-मुख्यमंत्री अजित पवार को बधाईयां दी जिसके बाद, एक के बाद एक ट्वीट किए।

विपक्ष नेता दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर साधा निशाना :

कांग्रेस नेता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने इस घटनाक्रम पर बयान देते हुए ट्वीट किया है कि, प्रधानमंत्री मोदी ने जनता को नारा दिया था 'ना खाऊंगा, ना खाने दूंगा। अब उनका नारा यह हो गया है खूब खाओ और खूब खाकर, खिलाकर भाजपा में आ जाओं साथ ही ईडी, सीबीआई और आईटी से मुक्ति पाओं। क्योकि, मोदी है तो मुमकिन है पाप का घड़ा फूट कर रहेगा।

साथ ही महाराष्ट्र के राज्यपाल पर सवाल उठाते हुए कहा कि, राज्यपाल ने संविधान के अनुसार काम नहीं किया, इससे पहले भी गोवा मणिपुर, मेघालय में यह हो चुका है अब महाराष्ट्र में हुआ है। यह संविधान के खिलाफ है, रातों-रात क्या हुआ पता नहीं लेकिन उद्धव ठाकरे से अपील है कि, शिवसेना सड़कों पर उतरे, कांग्रेस उनका पूरा साथ देगी। यह चुनौती है उद्धव ठाकरे को कि, क्या ताकत है उनकी, यह सड़क पर उतर कर बताएं।

महाराष्ट्र में दिखा राजनीति का उलटफेर :

बता दें कि, आज सुबह महाराष्ट्र की राजनीति में चौंकाने वाला घटनाक्रम घटित हुआ, जिसने समस्त सियासी गलियारे में हलचल मचा दी है। दरअसल बीते शुक्रवार को एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना ने मिलकर सरकार बनाने की बात कर ली थी और उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री पद के लिए तय किया था जिस पर ऐलान होने से पहले ही रातों-रात महाराष्ट्र की सत्ता में उलटफेर हो गया। जहां भाजपा के देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री और अजित पवार को उप-मुख्यमंत्री के पद के लिए राज्यपाल ने शपथ दिला दी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।