विधानसभा सत्र को लेकर बढ़ी हलचल
विधानसभा सत्र को लेकर बढ़ी हलचल|Priyanka Yadav - RE
मध्य प्रदेश

विधानसभा सत्र को लेकर बढ़ी हलचल, BJP और कांग्रेस विधायक पहुंचे भवन

भोपाल, मध्यप्रदेश: प्रदेश में मचे सियासी घमासान के बाद अब प्रस्तावित विधानसभा सत्र के लिए जुटे कांग्रेस समेत बीजेपी विधायक।

Deepika Pal

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश की राजनीति में बीते दिनों से चल रहे सियासी घटनाक्रम में जहां नए-नए मोड़ सामने आए वहीं प्रस्तावित विधानसभा सत्र की हलचल ने इस घटनाक्रम के रूख को मोड़ दिया है। जिसके चलते आज सोमवार को विधानसभा सत्र की शुरुआत हुई है जिसमें मुख्यमंत्री कमलनाथ समेत कांग्रेस विधायक जहां साथ पहुंचे वहीं बीजेपी विधायकों का काफिला भी बीजेपी नेताओं के साथ विधानसभा भवन पहुंचा। विधानसभा सत्र के साथ ही फ्लोर टेस्ट को लेकर फिलहाल संशय बना हुआ है।

भारी सुरक्षा बलों की तैनाती

इस संबंध में विधानसभा भवन के रास्तों पर भारी सुरक्षा व्यवस्था तैनात की गई। जहां बिना पहचान पत्र और विधानसभा द्वारा जारी परिचय पत्र के विधानसभा की ओर नहीं आने दिया जा रहा है वहीं हर वाहन की चेकिंग की जा रही है। विधानसभा में पास धारी लोगों को भी बिना परिचय पत्र के अंदर आने से रोका जा रहा है। विधानसभा भवन के पास के क्षेत्रों श्यामला हिल्स, न्यू मार्केट, पुलिस हेडक्वार्टर के आसपास, शिवाजीनगर और एमपी नगर इलाके में सुरक्षा कड़ी है। धारा 144 भी लागू है। इस दौरान पत्रकारों, विधानसभा कर्मचारियों और विधायकों के अलावा किसी को भी प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। बता दें कि, इस समय विधानसभा सत्र में खास बदलाव देखने के लिए मिल रहे हैं जहां 10 बजे से ही विधानसभा में मधुर भजन सुनाए जा रहे हैं साथ ही दोपहर 12:00 बजे तक के लिए विधानसभा के जैमर भी बंद किए गए और 12:00 बजे तक मोबाइल का नेटवर्क चालू रहेगा।

लोकतांत्रिक मूल्यों का करें निर्वहन - राज्यपाल टंडन

इस विधानसभा सत्र के दौरान करीब आधा घंटे बाद राज्यपाल लाल जी टंडन विधानसभा भवन पहुंचे जहां उन्होंने सभी विधानसभा सदस्यों के समक्ष अभिभाषण पढ़ा जिसे बीच में छोड़ कहा कि,सभी सदस्यों को शुभकामनाओं के साथ सलाह देना चाहता हूं कि प्रदेश की जो स्थिति है, उसमें अपना दायित्व शांतिपूर्ण तरीके से निभाएं, सभी लोकतांत्रिक मूल्यों का निर्वहन करें। इसके बाद वे सदन से चले गए। बता दें कि, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्यपाल को लिखे पत्र में कहा था कि मौजूदा स्थिति में फ्लोर टेस्ट कराना संभव नहीं है। अभी सदन में बहुमत परीक्षण कराना अलोकतांत्रिक है। साथ ही कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए यह कार्यवाही आगामी 26 मार्च के लिए स्थगित कर दी है जिस दिन राज्यसभा चुनाव की वोटिंग होनी है। वहीं फ्लोर टेस्ट को लेकर स्थिति फिलहाल साफ नहीं हो सकी है ।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co