स्टाम्प की कालाबाजारी
स्टाम्प की कालाबाजारी|Raj Express
मध्य प्रदेश

खाचरौद: तहसील मुख्यालय में स्टाम्प की कालाबाजारी का जोरो से चल रहा खेल

खाचरौद, मध्यप्रदेश: आम आदमी की जेब पर कालाबाजारियों द्वारा डाका डाला जा रहा हैं आज कल ऐसा ही कुछ खाचरौद तहसील मुख्यालय में देखने को मिल रहा है। यहाँ स्टाम्प की कालाबाजारी का खेल जमकर हो रहा है।

Gaurav Kapoor

खाचरौद, मध्यप्रदेश। एक तरफ देश और मध्यप्रदेश कोरोना संकट से जूझ रहा है तालाबंदी के चलते उत्पन्न हुए आर्थिक संकट के बाद आम आदमी रोजगार के लिये परेशान है। वही दूसरी और केंद्र सरकार भी आम आदमी को आत्मनिर्भर बनाने के लिये कई कार्यक्रम जनजागरण के कार्यक्रम आयोजित कर रही हैं। वही दूसरी और आम आदमी की जेब पर कालाबाजारियों द्वारा डाका डाला जा रहा हैं आज कल ऐसा ही कुछ खाचरौद तहसील मुख्यालय में देखने को मिल रहा हैं। यहाँ स्टाम्प की कालाबाजारी का खेल जमकर हो रहा है। लेकिन जिम्मेदार लोगों को इस काला बाजारी की भनक तक नही हैं। राज एक्सप्रेस टीम ने गोपनीयता से जब इस मामले कि जाँच पड़ताल की तो यह जानकारी सामने आई की तहसील कार्यालय में 50 रुपए का स्टाम्प 70 रुपए में बेचा जा रहा है, नोटरी के 100 रुपये लिये जा रहे वही दस्तावेज लेखक द्वारा 70 रुपये शुल्क वसूला जा रहा है।

जानकारी के अभाव में लोग अधिक राशि देकर स्टाम्प लेने पर मजबूर हैं और जैसे तैसे अपना काम चला रहे हैं। इस मामले की जानकारी आम लोगों को नहीं होने से स्टांप की काला बाजारी का खेल जारी है। जिसका खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ रहा है। गौरतलब है कि दूर दराज ग्रामीण अंचलों से आए लोगों को शपथ पत्र, इकरारनामा, बिक्री नामा आदि के लिए 10 रुपये से 50 रुपए का स्टाम्प लेना होता है। ज्ञात रहे कि दस्तावेजो की लिखा पढ़ी भी तहसील मुख्यालय में ही होती है शहरी एवं ग्रामीण अंचलों के लोगों को जानकारी न होने से आम आदमी से नोटरी एवं लेखनीय शुल्क मनमाने रूप से वसूला जा रहा है। तहसील मुख्यालय में शासन द्वारा नियुक्त दस्तावेज लेखकों के नाम लेखन शुल्क की जानकारी प्रदर्शित न होने से आम आदमी परेशान है। कोई भी मुख्यालय में लिखा पढ़ी कर मनमाना शुल्क वसूल कर रहा है। आम लोगों की सुविधा के लिये शासन द्वारा नियुक्त दस्तावेज लेखक लेखनीय शुल्क की जानकारी प्रदर्शित नहीं होना भी मनमाना शुल्क लेने का प्रमुख कारण हैं जिसके चलते तहसील कार्यालय में लेखनीय शुल्क नोटरी शुल्क शासन द्वारा तय किये गए शुल्क से अधिक की वसूली की जा रही है।

50 का स्टाम्प मिल रहा 70 में :

वर्तमान में तहसील मुख्यालय में 50 का स्टाम्प 70 रुपए में बिक रहा है। लेकिन जिम्मेदार लोगों का ध्यान इस और नही हैं जब इस संबंध में राज एक्सप्रेस प्रतिनिधि गौरव कपूर ने पुख्ता प्रमाणों के साथ कालाबाजारियों के खेल की जानकारी सब रजिस्टार रामकृष्ण सोनकेसरिया को उपलब्ध करवाई तो उन्होंने कहा कि हमे तो जानकारी ही नहीं थी की इस प्रकार से अधिक राशि वसूली की जा रही है: मैं आज ही कार्रवाई करता हूं, आपकी जागरूकता से हमे संज्ञान में आया है सब रजिस्टार रामकृष्ण सोनकेसरिया ने राजएक्सप्रेस समाचार के माध्यम से आम लोगों को जागरूक बनाने का संदेश देते हुए बताया कि कहीं भी तय कीमत से अधिक कीमत पर कोई स्टाम्प बेचता है तो बिना डर के मेरे पास नामजद शिकायत करें में कार्रवाई करूँगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co