इंदौर में आज ब्लड डोनेशन शिविर का आयोजन किया गया
इंदौर में आज ब्लड डोनेशन शिविर का आयोजन किया गयाSocial Media

इंदौर में आज ब्लड डोनेशन शिविर का आयोजन किया गया

आजादी के अमृत महोत्सव एवं बाबा मुख्यालय नई दिल्ली के द्वारा वर्ष 2022 के अंतर्गत आयोजित की जाने वाली महत्वपूर्ण गतिविधियों के अंतर्गत इंदौर में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया।

इंदौर, मध्य प्रदेश। आजादी के अमृत महोत्सव एवं बाबा मुख्यालय नई दिल्ली के द्वारा वर्ष 2022 के अंतर्गत आयोजित की जाने वाली महत्वपूर्ण गतिविधियों के अंतर्गत बाबा, सहायक प्रशिक्षण केंद्र, सीमा सुरक्षा बल, इंदौर के तत्वाधान में केंद्र की बाबा, अध्यक्षा श्रीमती प्रमिला गुलिया के नेतृत्व में बाबा कांपलेक्स इंदौर में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया।

शिविर का शुभारंभ श्रीमती प्रमिला गुलिया द्वारा श्री कुलदीप कुमार गुलिया, महा निरीक्षक, सहायक प्रशिक्षण केंद्र, इंदौर तथा तमाम अधिकारी, अधीनस्थ अधिकारी, ओ आर जन एवं समस्त के परिवारजन की उपस्थिति में सुबह 10:00 बजे किया गया। इस शिविर में सीमा सुरक्षा बल के 11 अधिकारियों, 26 अधीनस्थ अधिकारियों तथा 251 अन्य पद के कार्मिकों एवं उनके परिवार जन ने उपरोक्त शिविर में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई तथा कार्मिकों ने अपनी स्वेच्छा से रक्तदान किया।

रक्तदान के पश्चात समस्त रक्तदान वीरों को पौष्टिक जलपान व पेय पदार्थों का वितरण किया गया। इस शिविर को सफल बनाने के लिए डॉक्टर संदीप पटोंडीकर, मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सिलेक्शन ग्रेड) एवं सहायक प्रशिक्षण केंद्र, सीमा सुरक्षा बल, इंदौर के चिकित्सालय के स्टाफ ने एमवाई अस्पताल इंदौर के चिकित्सक एवम पैरा मेडिकल स्टाफ से समन्वय स्थापित कर शिविर को सफल बनाने में कड़ी मेहनत की। इस अवसर पर श्री कुलदीप कुमार गुलिया, महानिरीक्षक सहायक प्रशिक्षण केंद्र सीमा सुरक्षा बल, इंदौर ने सभी रक्तदान करने वाले कर्मचारियों तथा शिविर के सफल आयोजन हेतु श्री ललित कुमार हुरमाड़े, कमांडेंट (मुख्य प्रशिक्षक) की सराहना करते हुए बताया कि, 'रक्तदान एक महादान है। आपके रक्त की एक-एक बूंद का इस्तेमाल किसी की जान बचाने के लिए काम आएगी।'

गुलिया ने कहा :

श्री कुलदीप कुमार गुलिया ने कहा कि, 'ब्लड यानी खून एक ऐसी चीज है जिसे कृत्रिम रूप से बनाया नहीं जा सकता इसकी आपूर्ति केवल स्वयं का शरीर ही करता है। कई बार मरीजों के शरीर में खून की मात्रा इतनी कम हो जाती है कि बीमार को ब्लड लेने की आवश्यकता पड़ जाती है। ऐसी आपात स्थिति में खून की आपूर्ति रक्तदान से की जा सकती है ताकि ऐसे बीमार व्यक्ति की जान रक्त की कमी से जाने का खतरा होने से उन्हें रक्तदान कर उनकी जिंदगी को बचाया जा सकता है। 14 जून को विश्व रक्तदान दिवस के रूप में मनाया जाता है। मेरा मानना है कि वर्ष में 1 दिन रक्तदान करने से जरूरी आवश्यकता की आपूर्ति नहीं हो सकती, बल्कि रक्तदान महादान है, इसे कभी भी किया जा सकता है यह पुण्य का कार्य है।'

कर्मियों का किया धन्यवाद :

महानिरीक्षक महोदय ने ब्लड बैंक के अध्यक्ष डा. नरेंद्र वर्मा एवं उनके साथ पधारे मीडिया कर्मियों का धन्यवाद किया और उनके सहयोग व समर्थन की भविष्य में भी प्राप्त करते रहने की इच्छा व्यक्त की। अंत में सभी रक्त दाताओं की प्रशंसा के साथ शिविर के समापन की घोषणा की।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co