पॉजीटिव-निगेटिव में उलझा वृद्ध का शव
पॉजीटिव-निगेटिव में उलझा वृद्ध का शव|Afsar Khan
मध्य प्रदेश

शहडोल : पॉजीटिव-निगेटिव में उलझा वृद्ध का शव

शहडोल, मध्य प्रदेश : जिले में अब तक कोविड-19 से 8 मौते हो चुकी हैं, इनमें से कुछ के पॉजीटिव होने की रिपोर्ट मौत के बाद और कुछ की पहले आईं थी

Afsar Khan

शहडोल, मध्य प्रदेश। बुढ़ार के 80 वर्षीय व्यापारी की मंगलवार की सुबह मौत की सूचना मेडिकल कॉलेज द्वारा उनके परिजनों को दी गई, साथ ही यह भी बताया गया कि मृतक की कोरोना संबंधी जांच के लिए सैंपल लिये गये हैं, रिपोर्ट आने के बाद लाश सुपुर्द की जायेगी। मंगलवार की देर रात 11 बजे के आस-पास जब रिपोर्ट सामने आई तो, उसमें मृतक को कोरोना पॉजीटिव बताया गया, एहतियात के तौर पर गाइड लाईन के अनुसार लाश परिजनों को नहीं दी गई, बुधवार की सुबह उन्हें बुलाया गया, बाहर से ही उन्हें यह संदेश दिया गया। पाली रोड स्थित श्मशान में लाश विभाग द्वारा लाई जा रही है, वहीं अंतिम संस्कार होगा, परिवार के चुनिंदा लोग इकाई की संख्या में वहां पहुंचे।

अंतिम संस्कार को लेकर बवाल :

बुधवार की दोपहर 1 से 2 बजे के बीच जब पाली रोड स्थित आकाशवाणी के पास श्मशान घाट पर लाश ले जाई गई तो, स्थानीय लोगों ने यहां कोरोना पेशेंट होने के कारण अंतिम संस्कार पर आपत्ति जताई, गेट पर ताला लगा दिया गया। मामला नगर पालिका व कलेक्टर तक पहुंचा, नगर पालिका की टीम और पुलिस बल मौके पर पहुंचा, लेकिन जब स्थानीयजन नहीं माने तो, लाश को अन्यत्र अंतिम संस्कार करने की तैयारी की गई।

नहीं थी पॉजीटिव रिपोर्ट :

पुलिस, प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम जिस लाश को कोरोना पॉजीटिव मानकर पीपीई किट व अन्य उपकरणों से लैस होकर अंतिम संस्कार की योजना बना रही थी, जिस कारण सैकड़ों लोगों ने श्मशान घाट पर ताला लगा दिया, घंटो विवाद चलता रहा और मंगलवार की सुबह हुई वृद्ध की मौत के बाद उसकी लाश मौत के करीब 30 से 35 घंटों तक अंतिम संस्कार के लिए तरसती रही, इसी दौरान स्वास्थ्य विभाग ने इन्दौर स्थित सुप्राटैक नामक निजी लैब की रिपोर्ट का खुलासा कर पूरे मामले की हवा निकाल दी, नई रिपोर्ट के अनुसार मृतक कोरोना पॉजीटिव नहीं था।

बुधवार को कोरोना से 8वीं मौत :

जिले में अब तक कोविड-19 से 8 मौते हो चुकी हैं, इनमें से कुछ के पॉजीटिव होने की रिपोर्ट मौत के बाद और कुछ की पहले आईं थी, जबकि 4 अन्य मरीजों की मौत मेडिकल कॉलेज में हुई है, जिन्हें कोरोना और अन्य इलाज की सुविधा दी गई थी, लेकिन इन चारों की रिपोर्ट निगेटिव है। मेडिकल कॉलेज से जुड़े सूत्रों का दावा है कि रोजाना 550 से 600 जांचे हो रही हैं, बावजूद इसके करोड़ों रूपये का बजट और सैकड़ों की टीम की जांच रिपोर्ट की तुलना में खुद प्रशासन सुप्राटैक नामक निजी लैब पर भरोसा कर रहा है।

इनका कहना है :

पहले रिपोर्ट क्या आई, यह मालूम नहीं, सुप्राटैक जो सैंपल भेजे थे, उससे निगेटिव रिपोर्ट आई है, यह जानकारी है।

डॉ. राजेश पाण्डेय, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, शहडोल

पहले पॉजीटिव, फिर निगेटिव की बात सही है, हमनें लक्षण देखने के बाद उसका इलाज शुरू किया था। परिजनों के सैंपल लिये गये या नहीं यह सीएमएचओ कार्यालय को ज्ञात होगा, अस्पताल मे 7 अलग-अलग व्यवस्थाएं संदिग्ध होने के कारण उन्हें अलग रखा गया था।

डॉ. मिलिंद शिरालकर, डीन, शासकीय मेडिकल कॉलेज, शहडोल

मामला मेरी जानकारी में नहीं है, पूछताछ कर ही कुछ कह पाऊंगा।

नरेश पाल, संभागायुक्त, शहडोल

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co