Raj Express
www.rajexpress.co
अजाक थाना हुआ सम्मानित, टॉप 3 में हुआ शामिल
अजाक थाना हुआ सम्मानित, टॉप 3 में हुआ शामिल|Deepika Pal - RE
मध्य प्रदेश

बुरहानपुर: अजाक थाना हुआ सम्मानित, टॉप 3 में हुआ शामिल

बुरहानपुर, मध्यप्रदेश : प्रदेश के पुलिस थानों की स्थिति पर मिसाल पेश करता एक पुलिस थाना, राष्ट्रीय स्तर पर मिली प्रतिष्ठा।

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। प्रदेश में पुलिस थानों की बदहाल स्थिति की चर्चाएं प्राय: सामने आती हैं इसी के बीच पुलिस थानों की स्थिति को बेहतर बताते हुए बुरहानपुर जिले का अजाक पुलिस थाने ने राष्ट्रीय स्तर पर मिसाल पेश की है। इस पुलिस थाने ने देश के सर्वश्रेष्ठ पुलिस थानों की रैंक में स्थान पाया है जिसके लिए पुणे में 6 दिसंबर को केन्द्रीय गृह मंत्री द्वारा डीजीपी-आईजी कान्फ्रेंस-2019 में सम्मानित किया जाएगा। जिसकी सूचना केन्द्रीय गृह मंत्रालय में इंटेलीजेन्स ब्यूरो के संयुक्त निदेशक एवं कान्फ्रेंस सेक्रेटरी ऋत्विक रुद्र ने पत्र के माध्यम से मध्यप्रदेश के पुलिस महानिदेशक श्री विजय कुमार सिंह को दी है।

इस उपलब्धि के लिए सभी पुलिस अधिकारियों दी बधाई :

पुलिस थाने को मिली सफलता के लिए पुलिस महानिदेशक विजय कुमार सिंह ने अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अजाक श्रीमती प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्तव, बुरहानपुर के पुलिस अधीक्षक अजय सिंह, पुलिस अधीक्षक अजाक अरविंद तिवारी और अजाक थाना प्रभारी किशोर कुमार अग्रवाल को शुभकामनाएं दी हैं। वहीं अजाक पुलिस थाना बुरहानपुर के प्रभारी उप-निरीक्षक किशोर कुमार अग्रवाल को पुणे में होने वाली कान्फ्रेंस में सम्मानित करने के लिए आमंत्रित किया है।

देश के सर्वश्रेष्ठ 100 पुलिस थानों का किया गया था चयन :

बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा देश के सर्वश्रेष्ठ 100 पुलिस थानों का चयन किया था जिसके लिए गृह मंत्रालय ने भारत के सभी राज्यों के एससीआरबी (राज्य अपराध अभिलेख ब्यूरो) में उपलब्ध सीसीटीएनएस (क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क एंड सिस्टम) आंकड़ों और जानकारियों को आधार माना था। जिसके बाद चयन प्रक्रिया में तीन चरणों के माध्यम से अलग-अलग एजेंसियों से गोपनीय सर्वे कराया गया था, जिससे निकले परिणाम के आधार पर तीन सर्वश्रेष्ठ थानों को चयनित किया गया।

50 बिंदुओं की प्रश्नावली की थी तैयार :

पुलिस थानों के चयन की प्रक्रिया में सर्वे में 50 बिंदुओं की प्रश्नावली तैयार की गई थी जिसमें यह पता लगाया गया कि , पुलिस थानों में पीड़ितों की शिकायतों का तुरंत निराकरण, पुलिस थानों का रख-रखाव, अनुशासन, आम जनता में पुलिस की कैसी छवि है। साथ ही पुलिस थानों की मूलभूत सुविधाएँ जैसे कि, पेयजल और शौचालय सुविधा की स्थिति का भी ब्यौरा। सर्वे के लिए व्यापारियों, समाज सेवियों, सरकारी सेवकों समेत सभी वर्गो के आम लोगों की राय और थाने की कार्य-प्रणाली के संबंध में जांच ऐजेंसियों द्वारा करवाई गई थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।