Raj Express
www.rajexpress.co
ओबीसी एससी एसटी एकता मंच जिला अध्यक्ष ने की थी शिकायत
ओबीसी एससी एसटी एकता मंच जिला अध्यक्ष ने की थी शिकायत|Ganesh Dunge
मध्य प्रदेश

बुरहानपुर: ओबीसी एससी एसटी एकता मंच जिला अध्यक्ष ने की थी शिकायत

प्रोफेसर का पद पाने के लिए नियमों का उल्लंघन। पंडित शिवनाथ शास्त्री आयुर्वेदिक कॉलेज कीं प्रोफेसर रश्मि रेखा मिश्रा ने अपात्र होने के बाद भी पद पा लिया।

Ganesh Dunge

Ganesh Dunge

राज एक्सप्रेस। प्रोफेसर का पद पाने के लिए नियमों का उल्लंघन। पंडित शिवनाथ शास्त्री आयुर्वेदिक कॉलेज कीं प्रोफेसर रश्मि रेखा मिश्रा ने अपात्र होने के बाद भी पद पा लिया। इसकी शिकायत हुई तो शनिवार को भोपाल से जांच कमेटी के अध्यक्ष डाॅ. सी पी शर्मा और सदस्य डॉ एस के प्रसाद जांच करने के लिए मोहम्मदपुरा स्थित आयुर्वेदिक कॉलेज पहुंचे। यहां पर शिकायतकर्ता द्वारा प्रस्तुत किए गए सभी प्रमाण देखे, लेकिन रश्मि रेखा मिश्रा अपनी योग्यता के दस्तावेज भी जमा नहीं करा पाई। सीपी शर्मा ने कहा हम जांच कर रहे हैं, इसमें लापरवाही और अपात्र पायी जाती है, तो नौकरी से हटा दिया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि, पिछले कई सालों से पद पर बनी हुई हैं। ओबीसी, एससीएसटी एकता मंच के जिलाध्यक्ष गणेश दुनगे ने बताया रश्मि रेखा मिश्रा की नियुक्ति सीसीआईएम दिल्ली की योग्यता को पूरी नहीं की है। नियमों का उल्लंघन कर पद हासिल कर लिया है। इस पद के लिए 10 वर्ष का अध्ययन, 5 वर्ष रीडर का अनुभव चाहिए था। ये दोनों ही रश्मि रेखा मिश्रा के पास नहीं है। रीडर का अनुभव नहीं था तो कम से कम 10 वर्ष का लेक्चरर का अनुभव जरूरी था। जिले में रीडर का पद था। इसके बाद भी रीडर का 10 वर्ष का अनुभव प्रमाण पत्र लगाना चाहिए था। इसमें गौर करने वाली बात ये है कि ये प्रमाण पत्र भी नहीं लगाया गया है। अब देखिए रश्मि रेखा मिश्रा ने पद हासिल करने के लिए क्या किया, उन्होंने काय चिकित्सा एवं रोग निदान विषय पद के लिए प्रमाण पत्र जमा कराया जो सीसीआईएम के रेग्युलेशन में नहीं है। इस तरह रश्मि रेखा मिश्रा दोनों योग्यताओं को पूरा नहीं करती हैं।