Raj Express
www.rajexpress.co
पेट्रोल, डीजल की कीमत बढ़ी
पेट्रोल, डीजल की कीमत बढ़ी |Ganesh Dunge
मध्य प्रदेश

बुरहानपुर: पेट्रोल-डीजल के बढ़े दामों से बिगड़ेगा घर का बजट

बुरहानपुर, मध्य प्रदेश: पेट्रोल-डीजल की कीमत प्रदेश सरकार ने बढ़ा दी है। सरकार के वैट टैक्स बढ़ाने से पेट्रोल अब 82.88 और डीजल 74.7 रुपए प्रति लीटर हो गया। टैक्स बढ़ने से प्रदेश में महंगाई बढ़ गयी है।

Ganesh Dunge

Ganesh Dunge

हाइलाइट्स:

  • प्रदेश सरकार ने 5% वैल्यू एडेड टैक्स (वैट) बढ़ा दिया

  • बुरहानपुर में, भोपाल-इंदौर से भी महंगा

  • बुरहानपुर में पेट्रोल 4.56 पैसे और पेट्रोल 3.80 पैसे महंगा

  • भोपाल में पेट्रोल 2.91 रुपये और डीजल 2.86 रुपये प्रति लीटर महंगा

  • इंदौर में पेट्रोल 3.26 रुपये और डीजल 3.14 रुपये प्रति लीटर महंगा

राज एक्सप्रेस। पेट्रोल, डीजल की कीमत प्रदेश सरकार ने बढ़ा दी हैं। नई कीमत लागू होते ही वाहन चालकों की जेबों में आग लग गई है। शुक्रवार मध्यरात्रि से नई दरें लागू हुई। प्रदेश सरकार ने 5% वैल्यू एडेड टैक्स (वैट) बढ़ा दिया। प्रदेश सरकार के वैट टैक्स बढ़ाने से पेट्रोल अब 82.88 और डीजल 74.7 रुपए प्रति लीटर हो गया है। टैक्स बढ़ा देने से प्रदेश में महंगा और पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र में पेट्रोल, डीजल सस्ता हो गया है। महाराष्ट्र में डीजल की कीमत 68.71 रुपए प्रति लीटर और पेट्रोल 80.40 रुपए प्रति लीटर है। मतलब महाराष्ट्र में डीजल बुरहानपुर की तुलना में लगभग 4.15 रुपए और पेट्रोल लगभग 4.10 रुपए सस्ता हो गया है। अब चूंकि बुरहानपुर महाराष्ट्र की सीमा से सटा है। इसलिए वाहन चालक थोड़ी दूर चलकर महाराष्ट्र में पेट्रोल, डीजल भरवाएंगे। प्रदेश में पेट्रोल, डीजल के भाव तो बढ़ गए, लेकिन बुरहानपुर सीमा की आग में सुलगता रहेगा।

बुरहानपुर में, भोपाल-इंदौर से भी महंगा ईंधन :

बुरहानपुर में पेट्रोल 4.56 पैसे और पेट्रोल 3.80 पैसे महंगा हुआ है। राज्य सरकार ने पेट्रोल-डीजल और शराब पर वैट 5% बढ़ा दिया है। भोपाल में पेट्रोल 2.91 रुपए और डीजल 2.86 रुपए प्रति लीटर महंगा हो गया है। इंदौर में पेट्रोल 3.26 रुपए और डीजल 3.14 रुपए प्रति लीटर महंगा हुआ। नई कीमतों के अनुसार, भोपाल में पेट्रोल 81.15 रुपए और डीजल 72.51 रुपए है। इंदौर में पेट्रोल 81.66 रु और 72.96 रुपए है।

शहरवासियों ने जताया विरोध :

पेट्रोल और डीजल कीमत बढ़ जाने से प्रदेश सरकार को तो राजस्व ज्यादा मिलेगा, लेकिन आमजन की जेब खाली हो जाएगी। लोगों की जेब खंगालकर सरकार अपना राजस्व बढ़ाना चाहती है, लेकिन आमजन को भी अपना परिवार चलाना है। पेट्रोल, डीजल की कीमतें बढ़ते ही शहर में इसका विरोध शुरू हो गया। शनिवार सुबह लोग पेट्रोल भरवाने पहुंचे तो कीमत चार रुपए बढ़ गई थी। कार, ट्रक सहित अन्य डीजल वाहन चालकों ने भी 4 रुपए महंगा डीजल भरवाया। कई लोगों ने कम पेट्रोल और डीजल वाहनों की टंकी में भरवाया। शहरवासियों ने कहा, लगातार पेट्रोल, डीजल की कीमतें बढ़ जाने के कारण इसका भारी असर हमारी आर्थिक स्थिति पर पड़ेगा। एक माह में 4 रुपए महंगा पेट्रोल, डीजल के हिसाब से सैंकड़ो रुपए का अंतर आएगा। शहरवासियों ने कहा पेट्रोल और डीजल की कीमतें तत्काल कम की जाना चाहिए।

ऐसे बढ़ेगी महंगाई :

डीजल के भाव बढ़ जाने से बस, ट्रक, लोडिंग वाहनों का किराया बढ़ेगा। यात्रियों से बस संचालक ज्यादा किराया वसूलेंगे और भरपाई करेंगे। ट्रक सहित अन्य वाहनों से माल परिवहन करने में ज्यादा किराया चुकाना पड़ेगा। शहर से हर दिन केला सहित अन्य माल देशभर में निर्यात किया जाता है। इससे किसानों, कपड़ा व्यवसायियों, उद्योगपतियों को नुकसान उठाना पड़ेगा। इसके अलावा इंदौर सहित अन्य शहरों से आने वाला माल भी महंगा हो जाएगा। जिले से हर दिन केला और कपड़ा निर्यात करने के लिए सैंकड़ो ट्रक अन्य राज्यों में जाते हैं, इसके अलावा जिले की सीमा में माल का परिवहन होता है। डीजल की 1 लाख लीटर खपत, मतलब साढ़े चार लाख का नुकसान जिले में लगभग 15 से अधिक पेट्रोल पंप हैं। इनमें पेट्रोल की खपत एक दिन में 30 हजार लीटर है और डीजल की 1 लाख लीटर खपत है। बुरहानपुर में महंगा डीजल होने के कारण महाराष्ट्र से आने वाले ट्रक, वहीं से डीजल भरवाएंगे और बुरहानपुर के पेट्रोल पंपों पर बिना रूके आगे बढ़ जाएंगे। उधर प्रदेश के अन्य शहरों से महाराष्ट्र की ओर जाने वाले ट्रक चालक भी बुरहानपुर में नहीं रूककर महाराष्ट्र में डीजल भरवाएंगे। इस तरह बुरहानपुर में 1 लाख लीटर की खपत प्रभावित होती है, तो पेट्रोल पंप संचालकों को एक दिन में सीधे साढ़े चार लाख रुपए का नुकसान होगा। इसके अलावा पेट्रोल के रुपए बचाने के लिए भी बाइक, कार चालक महाराष्ट्र से ही पेट्रोल भरवाएंगे। सीमा में बसे बुरहानपुर का व्यापार प्रभावित होगा।

सरकार ने की वादा खिलाफी :

प्रदेश सरकार के वैट टैक्स बढ़ाने का जिले के पेट्रोल पंप संचालकों ने विरोध शुरू कर दिया है। सरकार पर वादा खिलाफी किए जाने का आरोप लगाया जा रहा है, क्योंकि महाराष्ट्र सीमा पर जिला होने के कारण नुकसान उठाना पड़ेगा। पेट्रोल पंप ऐसोसिएशन के सचिव रुपींदर कीर ने बताया विधानसभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कोई भी टैक्स नहीं बढ़ाने का वादा किया था, लेकिन अब पेट्रोल, डीजल पर टैक्स बढ़ाकर वादा खिलाफी की है। टैक्स कम किया जाना चाहिए।

इनका कहना :

पेट्रोल पंप एसोसिएशन के सचिव रूपिन्दरसिंह कीर का कहना है कि, सीएम कमलनाथ से चुनाव से पूर्व वादा किया था कि प्रदेश में किसी भी प्रकार का कोई टैक्स नही लगाया जायेगा, परंतु पेट्रोल व डीजल पर वैट टैक्स बढ़ाने से आम जनता पर मंहगांई की मार पडे़गी वहीं जिले के पेट्रोल पंप संचालकों को भी आर्थिक मार झेलनी पड़ेगी।