ग्वालियर : शहर के तीनों प्रवेश द्वार पर बसों की हुई चैकिंग, 5 बसें की जब्त
शहर के तीनों प्रवेश द्वार पर बसों की हुई चैकिंग, 5 बसें की जब्तRaj Express

ग्वालियर : शहर के तीनों प्रवेश द्वार पर बसों की हुई चैकिंग, 5 बसें की जब्त

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : टीसी के साथ ग्वालियर व चंबल के परिवहन अधिकारी रहे सड़क पर। 20 बसों के खिलाफ चालानी कार्यवाही कर वसूले 58 हजार रुपए।

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। सीधी बस हादसे के बाद परिवहन आयुक्त खासे सक्रिय हो गए हैं और स्वयं सड़क पर खड़े होकर बसों की चैकिंग करा रहे हैं। एक सप्ताह तक चलने वाली चैकिंग अभियान के तहत सोमवार को परिवहन आयुक्त के साथ ग्वालियर व चंबल के परिवहन अधिकारी शहर की तीनों प्रवेश द्वार पर पहुंचे और इस दौरान 5 बसों को जब्त किया गया जबकि 20 बसों के खिलाफ चालानी कार्यवाही कर उनसे 58 हजार रुपए वसूल किए गए। झांसी रोड पर तो एक बस ऐसी मिली जिसमें करीब 40 सवारी ओवरलोड थीं, इस नजारे को देखकर परिवहन आयुक्त मुकेश जैन भी अचम्भित रह गए और चालक से पूछा कि हमें भी बता दो कि आखिर 40 सवारी क्षमता से अधिक कैसे बैठा लेते हो।

ओवरलोड यात्री वाहनों के खिलाफ कार्यवाही को लेकर परिवहन आयुक्त स्वयं सड़क पर उतर आए हैं तो इसका असर प्रदेशभर में देखने को मिल रहा है। सीधी हादसे के बाद प्रदेश भर में बड़े पैमाने पर ओवरलोड यात्री वाहन पकड़े जा रहे हैं, लेकिन इसके बाद भी बस संचालकों में किसी तरह का भय दिखाई नहीं दे रहा है, क्योंकि चैकिंग जारी होने के बाद भी सड़क पर ओवरलोड यात्री बसें पकड़ी जा रही हैं। सोमवार को परिवहन आयुक्त मुकेश जैन सुबह जब निकले तो उनके साथ आरटीओ एसपीएस चौहान, एआरटीओ श्रीमती रिंकू शर्मा, आरटीआई आरके सोनी, प्रवीण नाहर, मुरैना की आरटीओ अर्चना परिहार, आरटीआई सचदेव सिकरवार एवं फ्लाईंग स्क्वॉड प्रभारी विमित गुप्ता मौजूद रहे। सबसे पहले परिवहन अमले की टीम महाराजपुरा पहुंची ओर कुछ देर सड़क पर खड़ी होकर बसों को रोककर उनमें बैठी सवारियों की संख्या की गिनती कराई तो 2 बसों में क्षमता से अधिक सवारी बैठी मिली जिनको जब्त कर महाराजपुरा थान मेे खड़ा करा दिया जबकि कुछ बसों के खिलाफ चालानी कार्यवाही की। इसके बाद मुरैना रोड पर पुरानी छावनी पर चैकिंग दल पहुंचा तो वहां भी एक बस ओवरलोड मिली जिसको जब्त कर लिया गया। वहां से दस्ता झांसी रोड पहुंचा तो यहां एक बस तो ऐसी मिली जिसमें क्षमता से 40 यात्री अधिक बैठे हुए थे। इस रोड़ से दो बसों को जब्त किया गया।

इन बसों को किया ओवरलोड में जब्त :

बस क्रमांक एमपी07 पी0436, एमपी30 पी 2999, एमपी30 पी0412, एमपी07 पी 6282 एवं एणपी07 एमके0777 को जब्त कर पुलिस थानो में खड़ी करा दी है। इसमें से एक बस के पास को परमिट भी नहीं था ओर 21 सवारी ओवरलोड बैठी हुईं थीं। इसके अलावा तीनों स्थानों पर करीब 20 बसों के खिलाफ अलग-अलग कारणों के चलते चालानी कार्यवाही की गई और उनसे इसके एवज में 58 हजार 500 रुपए शमन शुल्क वसूल किया गया।

क्या ओवरलोड न होने से दुर्घटना बंद हो जाएंगी?

बसों के खिलाफ चैकिंग को लेकर बस संचालक खासे आक्रोशित हैं और उनका कहना है कि क्या ओवरलोड यात्री वाहन नहीं चलेगा तो क्या दुर्घटना बंद हो जाएंगी? बस संचालकों का कहना है कि एक हादसे के बाद बस संचालको को परेशान किया जा रहा है जबकि हादसा जानबूझकर नहीं होता बल्कि किन्हीं कारणों से हो जाता है। कोई भी बस संचालक व चालक यह नहीं चाहता कि हादसा हो, लेकिन जिस तरह से प्रदेशभर में चैकिंग की जा रही है उससे लगता है कि ओवरलोड यात्री नहीं बैठेंगे तो दुर्घटना नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co