नागदा जं. : चंबल नदी के उफान पर आने से चामुंडा माता मंदिर डूबा
नागदा जं., मध्य प्रदेश : आधा दर्जन गांव का शहर से सम्पर्क टूटा, पुलिया पर पुलिस जवान तैनात। प्रशासनिक अधिकारियों ने पेट्रोलिंग का सुरक्षा पर पैनी नजर रखी।

नागदा जं., मध्य प्रदेश। शहर सहित आसपास के क्षेत्रों में लगातार बारिश होने से नदी नाले उफान पर आ गए। चंबल नदी की पुलिया पर पानी आने से नायन, भीकमपुर, पाडसुत्या आदि गांवों का सम्पर्क शहर से टूट गया। अमलावदिया रोड़, दयानंद कॉलोनी, भदौरिया मैदान, कृष्णा जीनिंग परिसर, भारत कॉमर्स स्कूल परिसर आदि ने तालाब का रुप ले लिया। चामुंडा माता मंदिर चंबल नदी के उफान में डूब गया। सुरक्षा के लिए पुलिस जवान एवं राजस्व विभाग के कर्मचारी तैनात किए गए।

गणेश चतुर्थी पर इंद्रदेवता ने किसानों को चिंता मुक्त कर दिया, शहर सहित आसपास के क्षेत्रों में लगातार बारिश होने से 24 घंटे में 3.77 इंच बारिश हो गई। गनीमत रही कि चंबल नदी के उफान आने के बाद भी निचली बस्तियों में पानी नहीं भराया। जिससे पुलिस और प्रशासन ने राहत की सांस ली। अलसुबह लगभग पांच बजे से चंबल नदी का जलस्तर बढऩे लगा, जिनसे प्रात: नौ बजे चामुंडा माता मंदिर को डुबा दिया। सुबह नौ बजे तक पुलिस व प्रशासन को कोई कर्मचारी चामुंडा माता मंदिर के आसपास तैनात नहीं था, स्थानीय कर्मचारियों ने सेल्फी लेने वाले व्यक्तियों को हटाया। कुछ जागरुकता नागरिकों ने टीआई श्यामचंद्र शर्मा को मामले से अगवत कराया, इसके बाद पुलिस जवान मौके पर पहुंचे। कुछ समय बाद तहसीलदार राजेंद्र कुमार गुहा राजस्व कर्मचारियों के साथ मौके पर पहुंचे। नदी से लगभग पांच मीटर की दूरी पर बेरिकेट्स लगाकर आवागमन प्रतिबंधित कर दिया। चंबल नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा था, जिसको लेकर नगरपालिका के अधिकारियों ने अपना फोकस निचली बस्तियों में किया। इस दौरान सीएमओ अशफाक खान, राजस्व निरीक्षक बसंतसिंह रघुवंशी, पवन भाटी सहित पुरी टीम गफूर बस्ती, 56 व 64 ब्लाक, इंदिरा कॉलोनी, सी ब्लाक की टापरियां आदि क्षेत्रों में लगातार पेट्रोलिंग करते हुए नजर आए।

नदी पर नहीं कोई सुरक्षा के इंतज़ाम, लोग अपनी जान डाल रहें जोखिम में
नदी पर नहीं कोई सुरक्षा के इंतज़ाम, लोग अपनी जान डाल रहें जोखिम मेंPriyank Vyas

मोटर पम्प लगाकर निचली बस्ती से पानी निकाला :

नगरपालिका को सबसे ज्यादा मशक्कत 56 ब्लाक स्थित रामजानकी मंदिर के पीछे स्थित गहरे गड्डे से पानी निकालने में करना पड़ी। नपा ने क्षेत्र के पानी को निकालने के लिए पम्प लगाए, लेकिन लगातार बारिश के कारण पम्प में दमतोड़ता नजर आ रहा था। कुछ इसी तरह की स्थिति मारुति नगर के पीछे निर्मित हुई, जहां खेतों का पानी लगातार निचली बस्तियों में घुस रहा था। मामले की जानकारी लगते हुए सीएमओ, राजस्व निरीक्षक रघुवंशी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। दयानंद कॉलोनी स्थित भदौरिया मैदान, कृष्णा जीनिंग परिसर, भारत कॉमर्स स्कूल परिसर ने तालाब का रुप ले लिया।

कंट्रोल रुम में कर्मचारी तैनात किए :

एसडीएम पुुरषोत्तम कुमार के अनुसार अगले तीन दिनों में लगातार बारिश होने की जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों से मिली है, ऐसे में स्थानीय प्रशासनिक अमला, नगरपालिका, तैराक सहित अन्य कर्मचारियों को अलर्टं रहने के निर्देश दिए गए हैं। नगरपालिका स्थित कंट्रोल रुम में दो शिफ्ट में कर्मचारियों को तैनात किया गया है ताकि सूचना मिलते ही त्वरित कार्यवाही हो सके।

आधा दर्जन गांव का शहर से सम्पर्क टूटा :

चंबल नदी के कैचमेंट एरिया में लगातार बारिश होने से नायन पुलिया पूरी तरह डूब गई। जिससे नायन, भीकमपुर, पाड़सुत्या सहित आधा दर्जन गांव का सम्पर्क शहर से टूट गया। पुलिया का पानी होने के दौरान आवागनम प्रतिबंधित करने के लिए बिरलाग्राम के इंचार्ज टीआई हेमंतसिंह जादौन ने पुलिस जवान तैनात किए।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co