Raj Express
www.rajexpress.co
कन्यादान योजना में फर्जी जोड़ों ने लिए सात फेरे
कन्यादान योजना में फर्जी जोड़ों ने लिए सात फेरे|Sanjay Awasthi
मध्य प्रदेश

छतरपुरः कन्यादान योजना में फर्जी जोड़ों ने लिए सात फेरे

छतरपुर, मध्यप्रदेशः सरकार द्वारा चलाई जा रही कन्यादान में हो रही है धांधली, 249 विवाहों की हुई जांच, 118 हितग्राही मिले अपात्र।

Sanjay Awasthi

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सरकार द्वारा शुरू की गई मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में फर्जीवाड़ा होने के आंकड़े सामने आ रहे हैं।इस योजना का लाभ ऐसे लोगों द्वारा भी लिया जा रहा है जो योजना के लिए अपात्र हैं, जिसमें शादीशुदा महिलाओं के अलावा बच्चों वाली महिलाएं भी हिस्सा ले रही हैं। जिसकी शिकायतें मिलने पर प्रशासनिक तौर पर जांच की जा रही है।

योजना की पोल खोल रहे हैं आंकड़ेः

सामाजिक न्याय विभाग के आंकड़े कन्यादान योजना की पोल खोल रहे हैं। सबसे ज्यादा गड़बड़ी बड़ामलहरा विकासखण्ड में देखने को मिली है। चालू वित्त वर्ष में बड़ामलहरा में 280 विवाह हुए जिनमें से 119 विवाहों की जांच की गई है। सबसे महत्वपूर्ण यह है कि यहां कुल 33 विवाह ही पात्रता की श्रेणी में आए हैं जबकि 86 विवाह अपात्र हो चुके हैं। जनपद स्तर पर गठित की गई टीम इस पूरे फर्जीवाड़े की जांच कर रही है।

सूत्रों के मुताबिक छतरपुर में 143 विवाह हुए जिनमें से 29 विवाहों की जांच हुई। यहां भी सिर्फ 5 विवाह पात्र पाए गए, जबकि 24 विवाह अपात्र हुए हैं। अभी जांच चल रही है। बिजावर में हुए 37 विवाहों में 28 की जांच हुई जिनमें से 20 विवाह पात्र पाए गए। गौरिहार, राजनगर, बक्स्वाहा में अभी जांच ही शुरू नहीं हुई। नौगांव में 9 विवाह हुए थे जिनमें से 8 की जांच हुई और सभी पात्र मिले हैं। लवकुशनगर में 153 विवाह हुए। 65 की जांच हुई और सभी पात्र पाए गए। जिले में चालू वित्त वर्ष में कुल 870 विवाह और 73 निकाह हुए मगर जब 250 विवाहों और निकाहों की जांच हुई तो लगभग आधे विवाह अपात्र हुए हैं। वित्त वर्ष 2018-19 में 471 विवाह और 11 निकाह कुल 482 शादियां हुई थीं। 90 शादियों की जांच हुई जिसमें से 74 पात्रऔर 16 अपात्र हुए हैं। अभी 392 शादियों की जांच बाकी है।