Raj Express
www.rajexpress.co
पूर्व सरपंच की मौत का रहस्य गहराया, बजरंग सेना ने सौंपा ज्ञापन
पूर्व सरपंच की मौत का रहस्य गहराया, बजरंग सेना ने सौंपा ज्ञापन |Pankaj Yadav
मध्य प्रदेश

पूर्व सरपंच की मौत का रहस्य गहराया, बजरंग सेना ने सौंपा ज्ञापन

छतरपुर, मध्यप्रदेश : पूर्व सरपंच की संदिग्ध मौत के मामले की गुत्थी अब तक सुलझ नहीं पाई है, जताई जा रही है हत्या की आशंका।

Pankaj Yadav

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले में दो दिन पहले ही गोयरा थाना क्षेत्र अंतर्गत रेत माफिया रुद्र पटेल द्वारा संचालित जय मां दुर्गा नामक रेत के डंप पर हुई ग्राम छपरा के पूर्व सरपंच रामखिलावन पटेल की संदिग्ध मौत का रहस्य गहराता जा रहा है। मृत्यु के दो दिन बाद भी पुलिस मृत्यु के सही कारण को पता लगाने में नाकामयाब रही है। एक तरफ इसे सड़क हादसा बताया जा रहा है तो वहीं दूसरी तरफ इस वारदात में हत्या का अंदेशा भी गहरा रहा है। उधर दो दिन बाद भी इस मामले को लेकर गोयरा थाने में सिर्फ मर्ग कायम किया है। न तो मृतक के परिजनों ने थाने पहुंचकर बयान दिया और न ही पुलिस ने इस दिशा में कोई खोजबीन की है। पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। इस मामले पर कार्रवाई करने की मांग उठाते हुए बजरंग सेना ने जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा है।

रामखिलावन ने पहले ही जताया था हत्या का अंदेशा :

सूत्रों के मुताबिक रामखिलावन पटेल एवं उसके कुछ साथियों के द्वारा पुलिस अधीक्षक कार्यालय को पहले ही शिकायती आवेदन देकर अपनी हत्या का संदेह जताया गया था। इस शिकायत में रेत माफियाओं से विवाद होने एवं रेत माफियाओं के द्वारा धमकाने की चर्चा शामिल है। वरिष्ठ कार्यालयों में सूचना देने के बाद भी रामखिलावन की मौत को लेकर पुलिस की असंवेदनशीलता कई सवाल खड़े कर रही है।

न पीएम रिपोर्ट आई, न किसी के बयान हुए :

रामखिलावन की मौत जिस घटना स्थल पर हुई है, वहां वह कैसे पहुंचा पुलिस के पास इस बात का भी जवाब नहीं है। रेत के कंदैला घाट पर जख्मी हालत में मिले रामखिलावन को डंप पर काम कर रहे लोगों ने ही चोरी छिपे अस्पताल पहुंचाया जहां उसकी मौत हो गई थी। शरीर पर चोट के गंभीर निशान हैं।

कर्मचारियों के मुताबिक एक ओर जहां इसे ट्रक से हुआ हादसा बताया जा रहा है तो वहीं दूसरी ओर सूत्रों का दावा है कि एलएनटी से कुचलकर रामखिलावन मारा गया। हत्याओं और दुर्घटनाओं को रोकने रेत खदानों पर धारा 144 लगाने की मांग रेत के घाटों पर रहस्मय तरीके से हो रही हत्याओं और दुर्घटनाओं को लेकर भले ही प्रशासन गंभीर न हो लेकिन अब सामाजिक संगठन इसके विरुद्ध आवाज उठा रहे हैं।

बजरंग सेना ने जिला प्रशासन को सौंपा ज्ञापन :

बुधवार को बजरंग सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष रणवीर पटैरिया ने जिला प्रशासन को एक ज्ञापन सौंपते हुए गौरिहार, चंदला एवं ईशानगर क्षेत्र में हुई दुर्घटनाओं और हत्याओं की जानकारी देते हुए रेत के घाटों पर धारा 144 लगाने की मांग उठाई है।

बजरंग सेना का कहना है कि रेत से दौलत कमाने के लिए अपराधी खून बहा रहे हैं। ज्ञापन के दौरान अरुण पाठक, तनुज गंगेले, अंकुर शुक्ला, हरिश्चंद्र प्रजापति सहित अनेक कार्यकर्ता मौजूद रहे।

पुलिस सभी बिंदुओं पर निष्पक्ष जांच करेगी, जैसे ही पीएम रिपोर्ट आती है काफी हद तक मामला साफ हो जाएगा।

जयराज कुबेर, एएसपी, छतरपुर

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।