मानसिक रोगी बना डॉक्टर, मरीजों का किया इलाज
मानसिक रोगी बना डॉक्टर, मरीजों का किया इलाज|Deepika Pal - RE
मध्य प्रदेश

क्या कहें इन व्यवस्थाओं को, जब मानसिक रोगी डॉक्टर बन करे इलाज

छतरपुर, मध्यप्रदेश: प्रदेश में स्वास्थ्य व्यवस्था कितनी अस्त-व्यस्त है इसका अंदाजा इस मामले से लगाया जा सकता है जहां डॉक्टर्स की गैरमौजूदगी में मानसिक रोगी ने डॉक्टर बन किया मरीजों का इलाज।

Deepika Pal

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले से एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है जहां एक अस्पताल में डॉक्टर्स की गैरमौजूदगी में एक मानसिक रोगी ने डॉक्टर बन बारी-बारी से कई मरीजों का इलाज किया और बाकायदा दवाईयों का पर्चा भी लिखा। इसकी खबर स्टाफ को मिलने पर तुरंत मरीजों को अलर्ट कर अस्पताल प्रबंधन से जुड़े अधिकारियों को सूचित किया गया वहीं मानसिक रोगी को बाहर किया। इस मामले ने अस्पताल प्रबंधन और स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं।

क्या है मामला

जानकारी के मुताबिक, यह मामला छतरपुर जिसे से आया है जहां एक सरकारी अस्पताल में डॉक्टर्स की गैरमौजूदगी में एक बुजुर्ग मानसिक रोगी ने डॉक्टर बनकर मरीजों का इलाज किया। दरअसल मामले में बुज़ुर्ग मानसिक रोगी खाली पड़े डॉक्टर के चैंबर में घुस गया जो डॉ. हिमांशु बाथम का है, जहां डॉक्टर की कुर्सी पर बैठकर मानसिक रोगी ने मरीजों को निराश ना करते हुए बारी-बारी से इलाज किया और दवाईयों के पर्चे भी लिखे। साथ ही अंग्रेजी भाषा बोलते हुए खुद को AIIMS का डॉक्टर बता रहा था। जब अस्पताल के मेडिकल स्टोर पर स्टाफ को मरीजों की भीड़ दिखाई दी तो मामले को समझते हुए मरीजों को अलर्ट कर अस्पताल प्रबंधन से जुड़े अधिकारियों को सूचित किया गया और मानसिक रोगी को बाहर किया गया। इस मामले से अस्पताल प्रबंधन में हड़कंप मच गया था।

लापरवाही का मामला

इस प्रकार के मामले से अस्पताल प्रबंधन पर अव्यवस्थाओं को लेकर प्रश्नचिन्ह खड़े होते हैं कि, अस्पताल प्रबंधन की गैरमौजूदगी में किस तरह से लापरवाही के मामले सामने आते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co