Raj Express
www.rajexpress.co
शनि मंदिर तक पहुँचा पानी
शनि मंदिर तक पहुँचा पानी|Pankaj Yadav
मध्य प्रदेश

छतरपुर: शनि मंदिर तक पहुँचा पानी, तालाब के बाहर से किये दर्शन

नौगांव, छतरपुर : शनि अमावस्या के अवसर पर शनिधाम मऊसहानियां में भक्तों का सैलाब हरबार उमड़ पड़ता है इस बार मंदिर प्रांगण में मंदिर के साथ समूची सड़क पर पानी भरा।

Pankaj Yadav

राज एक्सप्रेस। शनिवार को शनि अमावस्या के अवसर पर शनिधाम मऊसहानियां में भक्तों का सैलाब हरबार उमड़ पड़ता है। इस बार मंदिर प्रांगण में मंदिर के साथ समूची सड़क पर पानी भरा होने ओर बीच में रोड क्षतिग्रस्त होने से समिति ओर प्रशासन ने निर्णय लिया कि, सभी भक्तों को तालाब के बाहर से ही दर्शन करने का अवसर दिया जायेगा। सुबह ओर संध्या आरती के समय समिति के कुछ सदस्यों ने मंदिर प्रांगण में पहुंचकर पूजा की। इस मौके पर एनडीआरएफ के साथ पुलिस का विशेष बल मौजूद रहा। बुन्देलखंड के सबसे प्राचीन जगतसागर तालाब के मध्य में स्थित शनिधाम में आज भक्तों का मेला लगा हुआ था।

लेकिन जब भक्त वहां पर पहुंचे तो उनके हाथ निराशा लगी समिति और प्रशासन के द्वारा किसी भी भक्त के तालाब के अंदर प्रवेश पर प्रतिबंध कर दिया था। उसकी प्रमुख वजह थी कि जो सड़क मंदिर तक गयी है, उसमें बीच में कई जगह क्षतिग्रस्त थी और मंदिर प्रांगण में कई फिट पानी भरा हुआ था। शुक्रवार की देर शाम समिति ओर प्रशासनिक अधिकारियों ने इस बात का निर्णय लिया कि किसी भी भक्त को तालाब के अंदर प्रवेश न देकर पूजा के लिये प्रसाद व तेल चढ़ाने का सामान तालाब के किनारे रखा जायेगा। समिति के कुछ लोग सुबह की पूजा और शाम की आरती में मंदिर प्रांगण में जा सकेंगे। ऐसा दिन भर हुआ भी, जिससे तालाब के किनारे से एनएच 75 हाईवे तक भक्तों का मेला लगा रहा पुलिस और प्रशासन की चाक-चौकस व्यवस्था देखी गयी।

एनडीआरएफ और पुलिस रही दिन भर मौजूद

जिले में कई घटनायें घटित होने के कारण प्रशासन ने ऐहतियात के तौर पर दो दर्जन से अधिक पुलिसबल और अधिकारियों को वहां पर नियुक्त कर दिया था कि कोई भी बेरीकेट्स पार करके तालाब के अंदर प्रवेश न करे और अगर इसके बाद भी कोई भी प्रवेश करता है तो एनडीआरएफ की टीम पूरे समय तालाब में भ्रमण करती हुई देखी गयी। शाम 6 बजे महाआरती के मौके पर सिर्फ समिति के कुछ सदस्य मंदिर के अंदर गये बाकी भक्त मंदिर से लगभग 300 मीटर दूर तालाब के किनारे खड़े होकर शनि महाराज की आरती गुनगुनाते रहे।