मुख्यमंत्री ने गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ पर मत्था टेक गुरु हरगोबिंद साहिब को किया नमन
मुख्यमंत्री ने गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ पर मत्था टेक गुरु हरगोबिंद साहिब को किया नमनRaj Express

मुख्यमंत्री ने गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ पर मत्था टेक गुरु हरगोबिंद साहिब को किया नमन

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। मुख्यमंत्री ने बुधवार को ग्वालियर के ऐतिहासिक किले पर स्थित गुरुद्वारा दाताबंदी छोड़ पहुंचकर मत्था टेका और गुरु हरगोबिंद साहिब को नमन किया और शताब्दी समारोह में शामिल हुए।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को ग्वालियर के ऐतिहासिक किले पर स्थित गुरुद्वारा दाताबंदी छोड़ पहुंचकर मत्था टेका और गुरु हरगोबिंद साहिब को नमन किया और शताब्दी समारोह में शामिल हुए। दाताबंदी छोड़ के 400 साल पूर्ण होने के उपलक्ष्य में यहां पर शताब्दी समारोह मनाया जा रहा है। इस महोत्सव में देश-विदेश से सिक्ख श्रृद्धालु गुरुद्वारा दाताबंदी छोड़ में अरदास करने आए हैं। भारतीय संस्कृति के रक्षक और महान परोपकारी सिक्खों के छठवें गुरू हरगोबिंद साहिब को दाताबंदी छोड़ के रूप में याद किया जाता है। बाबा सेवा सिंह जी सहित अन्य संतजन, सांसद विवेक नारायण शेजवलकर जनप्रतिनिधि और अधिकारी मौजूद थे।

गुरु हरगोबिंद जी के अंगरखे की कलियों को पकड़कर बाहर आए थे 52 राजा :

गुरु हरगोबिंद साहिब को मुगल बादशाह जहांगीर ने ग्वालियर किले में कैद कर रखा था। कहा जाता है एक फकीर की सलाह पर जहांगीर ने गुरु हरगोबिंद जी को रिहा करने का हुक्म जारी किया। पर गुरु साहिब ने यह कहकर रिहा होने से इनकार कर दिया कि हमारे साथ कैद 52 निर्दोष राजा रिहा किए जाएंगे तभी हम बाहर आएंगे। इस पर जहांगीर ने शर्त रखी कि जितने राजा गुरु हरगोविंद साहिब का दामन थाम कर बाहर आ सकेंगे वे रिहा कर दिए जाएंगे। बादशाह को लग रहा था कि 52 राजा इस तरह बाहर नहीं आ पाएंगे। पर दूरदृष्टि रखने वाले गुरु साहिब ने कैदी राजाओं को रिहा करवाने के लिए 52 कलियों का अंगरखा सिलवाया। गुरु जी ने उस अंगरखे को पहना और हर कली के छोर को इन राजाओं ने पकड़ लिया। इस तरह सभी राजा गुरु हरगोबिंद साहिब के साथ रिहा हो गए। गुरु हरगोविंद साहिब को इसी वजह से दाता बंदी छोड़ कहा गया। गुरुजी के रिहा होने की याद में हर साल दाता बंदी छोड़ दिवस मनाया जाता है। इस साल 400वां दिवस मनाया जा रहा है। ऐतिहासिक ग्वालियर किले पर सिक्ख समुदाय द्वारा गुरुद्वारे की स्थापना की गई है, जो दुनिया भर में गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ के नाम से विख्यात है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.