आज गजानन माधव 'मुक्तिबोध' की जयंती, मुख्यमंत्री शिवराज ने किया याद
आज गजानन माधव 'मुक्तिबोध' की जयंतीPriyanka Yadav-RE

आज गजानन माधव 'मुक्तिबोध' की जयंती, मुख्यमंत्री शिवराज ने किया याद

भोपाल, मध्य प्रदेश : आज हिन्दी साहित्य की प्रगतिशील काव्यधारा के शीर्ष कवि गजानन माधव मुक्तिबोध की जयंती है, एमपी के सीएम ने गजानन माधव मुक्तिबोध को उनकी जयंती पर किया याद...

भोपाल, मध्य प्रदेश। आज हिन्दी साहित्य की प्रगतिशील काव्यधारा के शीर्ष कवि गजानन माधव मुक्तिबोध की जयंती है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकार गजानन माधव मुक्तिबोध (Gajanan Madhav Muktibodh) को उनकी 13 नवम्बर को जयंती पर याद करते हुए नमन किया है।

सीएम ने गजानन माधव मुक्तिबोध को उनकी जयंती पर किया याद

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा- "मध्यप्रदेश की माटी के गौरव, सुप्रसिद्ध प्रगतिशील कवि गजानन माधव 'मुक्तिबोध' की जयंती पर उन्हें सादर नमन। चाँद का मुंह टेढ़ा है व मुक्तिबोध रचनावली जैसी आपकी कृतियां साहित्य जगत को सुरभित करती रहेंगी। प्रगतिशील कविता और नई कविता के बीच सेतु के रूप में आप चिरस्मरणीय रहेंगे"

CM चौहान ने कहा-

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ज़िन्दगी में जो कुछ है, जो भी है सहर्ष स्वीकारा है, इसलिए कि जो कुछ भी मेरा है वह तुम्हें प्यारा है।: मुक्तिबोध...हिन्दी साहित्य की स्वातंत्र्योत्तर प्रगतिशील काव्यधारा के कवि गजानन माधव मुक्तिबोध की जयंती पर कोटिश: नमन ! आपकी रचनाएं सदैव साहित्य जगत की समृद्धि का आधार रहेंगी।

नरोत्तम मिश्रा ने भी किया ट्वीट

एमपी के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी ट्वीट कर कहा- "मध्यप्रदेश की माटी के गौरव, प्रख्यात साहित्यकार और सुप्रसिद्ध प्रगतिशील कवि श्री गजानन माधव 'मुक्तिबोध' जी की जयंती पर शत-शत नमन और विनम्र श्रद्धांजलि, साहित्य के क्षेत्र में आपके अतुलनीय योगदान को युगों-युगों तक याद किया जाएगा"

13 नवंबर 1917 में हुआ था गजानन माधव मुक्तिबोध का जन्म :

बताते चलें कि, हिंदी की आधुनिक कविता एवं समीक्षा के सर्वाधिक चर्चित व्यक्तित्व गजानन माधव मुक्तिबोध का जन्म 13 नवंबर 1917 को श्योपुर, ग्वालियर मध्यप्रदेश में हुआ था। उनके पिता माधव राव एक निर्भीक एवं दबंग व्यक्तित्व के पुलिस अधिकारी थे, माता पार्वती मुक्तिबोध एक समृद्ध परिवार की धार्मिक स्वाभिमानी एवं भावुक महिला थी। गजानन माधव मुक्तिबोध हिन्दी साहित्य के प्रमुख कवि, आलोचक, निबंधकार, कहानीकार तथा उपन्यासकार थे। उन्हें प्रगतिशील कविता और नयी कविता के बीच का एक सेतु भी माना जाता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co