CM ने कहा- मास्क ही कोरोना से बचाव का वैक्सीन है, सभी इसका उपयोग अवश्य करें
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने आज सेवा सम्मान कार्यक्रम के तहत मध्यप्रदेश के चिकित्सा क्षेत्र के कोरोना योद्धाओं का किया सम्मान, जनता से ये अपील...
CM ने कहा- मास्क ही कोरोना से बचाव का वैक्सीन है, सभी इसका उपयोग अवश्य करें
मुख्यमंत्री ने किया कोरोना योद्धाओं का सम्मान।Social Media

मध्यप्रदेश। प्रदेशभर में आज गरीब कल्याण सप्ताह के तहत मुख्यमंत्री शिवराज सेवा सम्मान कार्यक्रम में मध्यप्रदेश के चिकित्सा क्षेत्र के कोरोना योद्धाओं का सम्मान किया। इस दौरान मुख्यमंत्री कोरोना महामारी में योगदान देने वाले स्वास्थ्यकर्मियों से भी बात की। मुख्यमंत्री ने प्रदेश की जनता की ओर से सभी डॉक्टर्स तथा पैरामेडिकल स्टाफ का अभिनंदन कर आभार माना। मुख्यमंत्री ने इस समर्पण की तुलना दधीचि के प्रसंग से करते हुए कहा कि संकटकाल में मेडिकल अमले की भूमिका के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करना सरकार और समाज का कर्तव्य है।

मुख्यमंत्री शिवराज आज भोपाल स्थित मिंटो हॉल में आयोजित कोरोना योद्धा सेवा सम्मान समारोह में भाग लिया। मुख्यमंत्री कोरोना योद्धा से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद किया। सीएम ने कहा कि मैं इस कार्यक्रम के माध्यम से मध्यप्रदेश कोरोना योद्धा की तरफ से प्रदेश की जनता से अपील करता हूँ कि लापरवाही न बरतें। मास्क लगाएँ और दूरी का पालन करें।

सीएम ने कहा कि प्रदेश के कोरोना वारियर्स ने सेवा की ऐसी लकीर खींची है, जिससे आने वाली कई पीढ़ियाँ प्रेरणा लेंगी। मैं आप सभी को आश्वस्त करता हूँ कि आपकी मदद के लिए मध्यप्रदेश सरकार भी कोई कसर नहीं छोड़ेगी। अपनी जिंदगी को जोखिम में डालकर हमारे डॉक्टर एवं पैरामेडिकल स्टाफ ने लोगों की सेवा की और वे संक्रमित हो गये। अपनी जानें गंवाई। पुलिस के हमारे कई साथी चले गये। मैं कोरोना वारियर्स की इस सेवा भावना और अदम्य साहस को प्रणाम करता हूं।

हम मध्यप्रदेश में मेडिकल कॉलेज की संख्या बढ़ रहे हैं, साथ ही डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ भी बढ़ा रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा-

वहीं मुख्यमंत्री ने इंदौर की बेटी डॉ अंशुल मिश्रा जी से बात की। डॉ अंशुल जी ने बताया कि हमारा काम था जिले में महामारी पर नियंत्रण करना, जितना हमारा डेटा था उसका अवलोकन किया और उस आधार पर रणनीति बनाकर काम किया। आगे भिंड के डॉ अजीत मिश्रा जी ने मुख्यमंत्री को बताया कि विभिन्न राज्यों से हमारे यहां करीब 1 लाख प्रवासी मजदूर वापस आये, हमने IITT की रणनीति पर कार्य किया और लोगों को जागरूक करने की दिशा में कार्य किया। ग्वालियर के लैब टेक्नीशियन दीपक बाथम जी ने मुख्यमंत्री को बताया कि हम 12-14 घंटे काम करके सेंपल की टेस्टिंग कर रहे हैं। हम पीपीई किट पहनकर पूरी सावधानी रखते हुए काम करते हैं।

आपके बिना इस महामारी से मुकाबला नहीं किया जा सकता। दूसरों की भलाई करने से बड़ा कोई पुण्य नहीं है। कोरोना वायरस का आज तक कोई ठिकाना नहीं है। आज हम जो लड़ाई लड़ रहे हैं, वह अनुमान के आधार पर लड़ रहे हैं।
सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा-

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co