CM चौहान ने राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद को किया नमन
CM ने मेजर ध्यानचंद को किया नमनSyed Dabeer Hussain - RE

CM चौहान ने राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद को किया नमन

भोपाल, मध्यप्रदेश। मेजर ध्यानचंद के जन्मदिन को भारत के राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है, इस अवसर पर CM ने मेजर ध्यानचंद को नमन किया है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। हर साल 29 अगस्त को देश में राष्ट्रीय खेल दिवस मनाया जाता है, यह दिन खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद की जयंती के अवसर पर मनाया जाता है, बता दें कि आज के दिन ही हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले ध्यानचंद का जन्म हुआ था, उनके जन्मदिन को भारत के राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद को नमन किया है।

CM ने मेजर ध्यानचंद को किया नमन

एम्सटर्डम, लॉस एंजेल्स व बर्लिन के ओलम्पिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम के खिलाड़ी रहे, हॉकी के जादूगर, मेजर ध्यानचंद जी की जयंती की आपको शुभकामनाएं! विषम और विपरीत परिस्थितियों से निरंतर लड़ते हुए उन्होंने अपने खेल से देश एवं दुनिया का हृदय जीता। मेजर ध्यानचंद ने कभी अभावों और कठिनाइयों को अपने खेल पर हावी नहीं होने दिया। अपने खेल जीवन में 1000 से अधिक गोल दागने वाले महान खिलाड़ी की जयंती पर कोटिश: नमन!, आप सदैव देश और दुनिया के खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा का स्रोत रहेंगे।

मुख्यमंत्री ने ट्वीट के माध्यम से कहा-

मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा- अपने जादुई खेल से विश्वभर में भारतीय हॉकी का परचम बुलंद करने वाले हॉकी के महान जादूगर मेजर ध्यानचंद जी की जयंती पर उन्हें शत् शत् नमन एवं उनकी स्मृति में मनाए जाने वाले राष्ट्रीय खेल दिवस की सभी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं

नरोत्तम मिश्रा ने भी किया ट्वीट

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट कर कहा- हाॅकी के महान जादूगर मेजर ध्यानचंद जी की जयंती पर सादर नमन और विनम्र श्रद्धांजलि, मेजर ध्यानचंद जी के सम्मान में देश आज का दिन राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाता है।

बता दें कि मेजर ध्यानचंद का जन्म 29 अगस्त 1905 को उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद जिले में एक राजपूत परिवार में हुआ था, उन्हें हॉकी के सबसे महान खिलाड़ी के तौर पर याद किया जाता है, उन्होंने साल 1928, 1932 और 1936 में तीन ओलंपिक स्वर्ण पदक जीते, वहीं भारत सरकार ने ध्यानचंद को 1956 में देश के तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से सम्मानित किया था, भारतीय हॉकी में ध्यानचंद ने जो इतिहास लिखा है उसे आज भी याद कर भारतीय गर्व महसूस करते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co