CM चौहान ने हितग्राही बच्चों के खातों में 16 लाख 40 हजार की राशि अंतरित की
बच्चों के खातों में 16 लाख 40 हजार की राशि अंतरितSocial Media

CM चौहान ने हितग्राही बच्चों के खातों में 16 लाख 40 हजार की राशि अंतरित की

Bhopal, Madhya Pradesh: आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान "मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना" के हितग्राही बच्चों के खाते में राशि अंतरित की है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। कोरोना की दूसरी लहर में कई बच्चों के सिर से उनके माता-पिता का साया भी उठ गया, इस स्थिति में बच्चों की जिम्मेदारी उठाने के लिये मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना शुरू की गई, आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान "मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना" (Mukhyamantri Covid Bal Seva Yojana) के हितग्राही बच्चों के खातों में 16 लाख 40 हजार की राशि अंतरित की है।

सीएम ने हितग्राही बच्चों के खातों में अंतरित की राशि

CM ने ट्वीट कर कहा- सिंगल क्लिक से 'मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना' के 328 बाल हितग्राहियों को 5,000 की मासिक आर्थिक सहायता तथा स्पॉन्सरशिप योजना के अंतर्गत 223 हितग्राहियों को 2,000 की मासिक सहायता राशि का अंतरण किया है।

सीएम शिवराज मंत्रालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री COVID19 बाल सेवा योजना के हितग्राही बालक-बालिकाओं से चर्चा कर रहे हैं

  • सीएम ने बाल हितग्राही इंदौर की कुमारी शिखा से संवाद किया, शिखा ने भविष्य में आर्मी में जाने की इच्छा जताई, सीएम ने कहा कि कड़ी मेहनत के बल पर आप अपने लक्ष्य पर अवश्य पहुंचे। आपका लक्ष्य मुझे भी प्रेरणा दे रहा है। आप खूब आगे बढ़ो, मेरी शुभकामनाएं।

  • सीएम ने बाल हितग्राही कुमारी उमा और बेटे कन्हैया से संवाद किया। सीएम ने कहा कि अभिभावकों का आशीर्वाद सदा आपके साथ है, बेहतर पढ़ाई करें, आगे बढ़ें। भविष्य के लिए सरकार हरसंभव आपकी मदद करेगी।

  • मुख्यमंत्री ने सिवनी जिले की कुमारी सुरूचि से संवाद किया। सुरूचि ने बताया कि उनका लक्ष्य पुलिस में जाकर देश की सेवा करना है। सीएम ने कहा कि आप अपने लक्ष्य के प्रति दृढ़ रहें। खूब आगे बढ़ो। मेरी शुभकामनाएं।

सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा-

बच्चों की देखरेख के लिए एक पालक अधिकारी होना चाहिए जो बीच-बीच में बच्चों को देखकर आये, समाज में अच्छे लोगों के साथ ही बुरे लोग भी हैं, जो फायदा उठाने की फिराक में होते हैं। हमें इस बात का भी ध्यान रखना है, हमें ऐसे बच्चों को भी चिन्हित करना है जिनके माता-पिता का निधन अन्य कारणों से हुआ है। उन्हें भी हम अकेला नहीं छोड़ सकते, उनका लालन-पालन भी हम करेंगे।

हमारे पास ऐसे उदाहरण हैं, जिनके माता-पिता बचपन में गुज़र गए लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। ज़िद, जुनून और जज़्बे से उन्होंने पूरी दुनिया में नाम कमाया, तुलसीदास उनमें से एक हैं, उनके द्वारा रचित रामायण आज हर घर में है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co