CM ने जनजातीय प्रतीकों बैगा माला और पगड़ी भेंटकर पीएम मोदी का किया भव्य स्वागत
CM ने पीएम मोदी का किया भव्य स्वागतSocial Media

CM ने जनजातीय प्रतीकों बैगा माला और पगड़ी भेंटकर पीएम मोदी का किया भव्य स्वागत

भोपाल, मध्यप्रदेश : आज राजधानी भोपाल का जम्बूरी मैदान लोकरंग के रंग में रंग गया है, कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी पहुंचने पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने उनका भव्य स्वागत किया है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। जनजातीय गौरव दिवस पर आज राजधानी भोपाल का जम्बूरी मैदान लोकरंग के रंग में रंग गया है, यहां आयोजित महासम्मेलन में जनजातीय लोग परंपरागत लोक नृत्य करते हुए पहुंच रहे हैं। वही इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी पहुंचने पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनका भव्य स्वागत किया है।

मिली जानकारी के मुताबिक भोपाल के जम्बूरी मैदान पहुंचकर प्रधानमंत्री ने सबसे पहले में मध्यप्रदेश के जनजातीय समुदाय के स्वतंत्रता संग्राम के शहीदों एवं जननायकों की चित्र प्रदर्शनी का अवलोकन किया। जनजातीय गौरव दिवस के अवसर पर आयोजित मुख्य कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने भगवान बिरसा मुंडा के छायाचित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया।

प्रधानमंत्री का मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनजातीय प्रतीकों बैगा माला और पगड़ी भेंटकर उनका भव्य स्वागत किया। मध्यप्रदेश की प्रख्यात चित्रकार, पद्मश्री से अलंकृत श्रीमती भूरीबाई ने प्रधानमंत्री को जनजातीय कलाकृति को दर्शाती सुंदर पेंटिंग भेंट की, पेंटिंग में प्रकृति की सुंदरता को अनूठे तरीके से अभिव्यक्त किया गया है। वही प्रधानमंत्री को मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश के 23 जिलों के 75 रणबांकुरों की पुण्यभूमि से एकत्रित की गई पावन मिट्टी का अमृत कलश भेंट किया।

इस अवसर पर सीएम शिवराज ने कहा कि आज़ादी का अमृतमहोत्सव वर्ष में जनजातियाँ क्रांतिकारियों के योगदान को याद करते हुए भगवान बिरसा मुंडा के जन्मदिवस (15 नवम्बर) पर जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मनाने का निर्णय भारत सरकार की कैबिनेट ने लिया है। सीएम बोले- "जनजातीय गौरव दिवस भगवान बिरसा मुंडा का ही नहीं संपूर्ण जनजातीय समाज का सम्मान है। रानी दुर्गावती, 'टंट्या मामा, भीमा नायक, खाज्या नायक, शंकर शाह रघुनाथ शाह, रघुनाथ सिंह मण्डलोई, राजा भभूत सिंह, गंजन सिंह कोरकू, राजा धीर सिंह जैसे अनेक जनजातीय योद्धा हैं। यह सबका सम्मान है"

आगे सीएम ने कहा कि राजधानी भोपाल में कभी गोंडवाना का राज्य हुआ करता था। भोपाल से लेकर गिन्नौरगढ़,गढ़ामंडला,संग्रामपुर ये 52 गढ़ थे। उनमें से एक गढ़ की रानी थी कमलापति, दोस्त मो.खान ने पहले इस्लाम नगर को लूटा, बाद में भोपाल पर कब्जा करने के बाद गिन्नौर पर भी उसकी गिद्द दृष्टि गई। रानी पर भी दोस्त मो. खान की बुरी नजर थी। रानी के बेटे नवल शाह वीरता पूर्वक लड़े। लेकिन वह भी शहीद हो गए, जब रानी को यह समाचार मिला और उनको लगा कि वह अपने राज्य का संरक्षण और सम्मान की रक्षा नहीं कर पाएंगी तो उन्होंने छोटे तालाब में जल समाधि ले ली।

PM ने जनजातीय समुदाय के लिए 'राशन आपके ग्राम' योजना का किया शुभारंभ

वहीं, इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने जनजातीय समुदाय के लिए 'राशन आपके ग्राम' योजना का शुभारंभ किया। प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने योजना से संबंधितों को प्रतीक स्वरूप वाहन की चाबी भी सौंपी। योजना में ग्राम स्तर पर जनजातीय समुदाय को उचित मूल्य पर राशन प्रदाय किया जाएगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.