Raj Express
www.rajexpress.co
सकारात्मक सोच से ही बदलाव आता है, छिन्दवाड़ा इसका उदाहरण : कमलनाथ
सकारात्मक सोच से ही बदलाव आता है, छिन्दवाड़ा इसका उदाहरण : कमलनाथ|Aditya Shrivastava
मध्य प्रदेश

सकारात्मक सोच से ही बदलाव आता है, छिन्दवाड़ा इसका उदाहरण : कमलनाथ

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने छिन्दवाड़ा में एफ.डी.डी.आई. के दीक्षांत समारोह को संबोधित किया

Aditya Shrivastava

राज एक्सप्रेस। मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि सकारात्मक सोच से ही बदलाव आता है। छिन्दवाड़ा में जो भी आज विकास हुआ है वह यहां की लोगों की सकारात्मक सोच का परिणाम है। नाथ आज छिन्दवाड़ा में फुट वेयर डिजाईन एण्ड डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट के दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री नाथ ने कहा - 40 साल पहले जब वे पहली बार छिन्दवाड़ा के सांसद बने तब यहां पर विकास की जरूरत मैंने महसूस की। यहां पैसेंजर बस भी नहीं थी। पार्ढुंना में रेल नहीं रूकती थी। पेयजल और बिजली की पर्याप्त उपलब्धता नहीं थी। पातालकोट के हमारे आदिवासी भाई नमक भी बाहर से लाते थे। सड़कें अच्छी नहीं थी। ऐसे हालात देखकर मैंने तय किया कि जब तक इस पूरे क्षेत्र का विकास नहीं होगा, बेरोजगारों को रोजगार नहीं मिलेगा तब तक चैन से नहीं बैठेंगे।

मुख्यमंत्री नाथ ने कहा कि :

जब वे वाणिज्य मंत्री थे तब उन्होंने छिन्दवाड़ा के ईमलीखेड़ा में फुट वेयर डिजाईन एण्ड डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट की स्थापना छिन्दवाड़ा में की। पूरे देश और प्रदेश में अलग पहचान बने यह मिशन शुरू किया। प्रदेश और देश ही नहीं बल्कि विश्व में सर्वाधिक प्रशिक्षण संस्थान छिन्दवाड़ा में स्थापित हैं। इसके जरिए हजारों शिक्षित और अशिक्षित युवाओं को अपने कौशल के आधार पर रोजगार मिला है। उन्होंने बताया कि छिन्दवाड़ा में आज यूनिवर्सिटी है, मेडिकल कॉलेज, एग्रीकल्चर और हार्टिकल्चर कॉलेज है। इतना सब विकास इसलिए संभव हो पाया कि छिन्दवाड़ा जिले के लोगों की सोच और दृष्टिकोण सकारात्मक है। छिन्दवाड़ा के विकास से सिर्फ यहां के लोगों का ही नहीं पूरे महाकौशल और पूरे नागपुर तक के लोगों को इसका लाभ मिला है। छिन्दवाड़ा हार्टिकल्चर कॉलेज को आधुनिकतम रूप दिया जाएगा। उन्नत, नवीनतम कृषि और उद्यानिकी फसलों के उत्पादन का विस्तार हो इसकी शिक्षा इस संस्थान में दी जाएगी।