CM ने कहा- उज्जैन की घटना के दोषियों को किसी भी कीमत से बख्शा नहीं जाएगा

भोपाल, मध्यप्रदेश। प्रदेश के मुख्यमंत्री ने आज निवास पर आयोजित बैठक में वरिष्ठ अधिकारियों से उज्जैन में जहरीले नशीले पदार्थ के सेवन से हुई मौतों के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी ली।
CM ने कहा- उज्जैन की घटना के दोषियों को किसी भी कीमत से बख्शा नहीं जाएगा
मुख्यमंत्री ने आज निवास पर की बैठकSocial Media

भोपाल, मध्यप्रदेश। कोरोना संकट के बीच महाकाल की नगरी उज्जैन में कथित रूप से जहरीले नशीले पदार्थ (शराब या स्प्रिट) के सेवन से 14 लोगों की मौत हो गई है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए ट्वीट करते हुए कहा कि उज्जैन में हुई घटना दुर्भाग्यपूर्ण है, इसके पीछे ज़िम्मेदार लोगों को किसी भी हालत में बख्शा नहीं जाएगा, नशे के सौदागरों को मध्यप्रदेश की धरती पर नहीं रहने दिया जाएगा।

CM ने बैठक में उज्जैन कार्रवाई की विस्तृत से जानकारी ली :

बात दें कि आज भी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निवास में बैठक की और उज्जैन में कल जहरीली शराब के सेवन से हुई मौतों के बाद शासन स्तर पर और स्थानीय प्रशासन द्वारा की गई कार्रवाई की विस्तृत जानकारी ली। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मौत के सौदागरों को नेस्तनाबूत किया जाये। मुख्यमंत्री को बैठक में बताया गया कि उज्जैन में दोषी और लापरवाह पुलिसकर्मी निलंबित किए गए हैं। करीब डेढ़ हजार लीटर नशीले द्रव पदार्थ ज़ब्त किए गए हैं। अन्य पुलिस जोन में भी ऐसी कार्रवाई चल रही है।

शिवराज ने उज्जैन जिले में कथित तौर पर कच्ची शराब के सेवन से कम से कम 14 लोगों की मौत की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि, नशे के सौदागरों को मध्यप्रदेश की धरती पर नहीं रहने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस घटना को लेकर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए हैं, जल्द ही दोषी सलाखों के पीछे होंगे। उज्जैन में कथित तौर पर कच्ची शराब के सेवन से कम से कम 14 लोगों की मृत्यु हो गयी है। इस घटना के मामले की जांच की जा रही है। पुलिस ने इस मामले में कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया है। इसके अलावा खाराकुंआ थाना प्रभारी सहित चार पुलिस कर्मचारियों को निलंबित भी किया जा चुका है।

मुख्यमंत्री ने आज निवास पर आयोजित बैठक में निर्देश दिये कि लोगों में नशे की आदत और अवैध रूप से ऐसे पदार्थों की आपूर्ति व बिक्री पर नजर रखी जाए। उज्जैन की तरह अन्य स्थानों पर यदि ऐसी वस्तुएं बेची जा रही हों तो दोषियों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए। प्रदेश में नशे के सौदागरों को नेस्तनाबूत किया जाए। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को भी ऐसे पदार्थों की बिक्री और आपूर्ति करने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए।

मुख्य सचिव ने बताया-

आज ही इस संबंध में एक अभियान की रूपरेखा को अंतिम रूप दे रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मिलावटखोरों के विरुद्ध सख्त एक्शन लिया जाए। किसी भी तरह की मिलावट का मामला हो, दोषी व्यक्ति बचना नहीं चाहिए। आम जनता को बचाने के लिए सभी संबंधित विभाग सतर्क, सजग और सक्रिय रहें।

वहीं आगे मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रदेश में किसानों से किए जा रहे उपार्जन कार्य के संबंध में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त की। उन्होंने खाद्य, सहकारिता और कृषि विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिए कि खरीद से संबंधित कार्य व्यवस्थित रूप से संपन्न हो। आवश्यक अमले को दायित्व देकर इन कार्यों को बखूबी पूर्ण करने के निर्देश दिए जाएं। किसानों को कोई असुविधा नहीं होना चाहिए। पंजीयन कार्य और खरीदी केंद्र संख्या इस तरह से निर्धारित हो कि सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन हो।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co