महान वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई की जयंती पर सीएम शिवराज और नरोत्तम मिश्रा ने किया नमन
महान वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई की जयंतीPriyanka Yadav-RE

महान वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई की जयंती पर सीएम शिवराज और नरोत्तम मिश्रा ने किया नमन

भोपाल, मध्यप्रदेश। देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान देने वालीं महान वीरांगना झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की आज जयंती है, सीएम और नरोतम ने रानी लक्ष्मीबाई की जयंती पर ट्वीट कर नमन किया है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान देने वालीं महान वीरांगना झांसी की रानी लक्ष्मीबाई (Rani Laxmibai) की आज जयंती है। बता दें कि उनके राष्ट्र प्रेम, साहस और बलिदान की अमर कहानी बुन्देलखण्ड के इतिहास को गौरान्वित कर महिलाओं के लिए आज भी प्रेरणा का स्रोत बनी हुई है। रानी लक्ष्मीबाई की जयंती पर सीएम शिवराज और नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट कर नमन किया है।

रानी लक्ष्मीबाई की जयंती पर सीएम ने किया याद

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट करते हुए लिखा- खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी! अद्वितीय शौर्य और पराक्रम का पर्याय, महान वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई जी की जयंती पर कोटिश: नमन्! आपने भारतीय इतिहास में वीरता और आत्मसम्मान का ऐसा अप्रतिम अध्याय जोड़ा है, जो देश को युगों-युगों तक गौरवान्वित करता रहेगा।

लक्ष्मी बाई का अदम्य साहस व राष्ट्र के लिए समर्पण युगों-युगों तक देशवासियों में देशभक्ति की भावना का संचार करेगा।

सीएम शिवराज सिंह चौहान

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने किया ट्वीट

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट कर कहा- 1857 की क्रांति की महानायिका, भारतीय महिलाओं के शौर्य और पराक्रम की प्रतिमूर्ति वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई जी की जयंती पर सादर नमन। देश की आजादी के लिए उनका त्याग और बलिदान प्रत्येक भारतीय को राष्ट्रसेवा के लिए प्रेरित करता है।

19 नवंबर 1828 को हुआ था रानी लक्ष्मीबाई का जन्म

लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवंबर 1828 को काशी में हुआ था। पिता का नाम मोरोपंत ताम्बे और माता का नाम भागीरथी बाई था। लक्ष्मीबाई का वास्तविक नाम मणिकर्णिका था, इसीलिए अपने बाल्यकाल में वे मनुबाई के नाम से जानी जाती थीं। बता दें कि, वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई ने महज 29 साल की उम्र में अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ युद्ध किया और रणभूमि में वीरगति को प्राप्त हुईं, बताया जाता है कि लक्ष्मीबाई सिर पर तलवार के वार से शहीद हुई थीं, 18 जून 1858 में वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई ने अंग्रेजों से लड़ते हुए प्राण त्याग दिए थे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co