सीएम शिवराज ने भोपाल में 'ग्रामीण जनजातीय तकनीकी प्रशिक्षण' का किया शुभारंभ
'ग्रामीण जनजातीय तकनीकी प्रशिक्षण' का शुभारंभSocial Media

सीएम शिवराज ने भोपाल में 'ग्रामीण जनजातीय तकनीकी प्रशिक्षण' का किया शुभारंभ

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज सीएम ने जनजातीय गौरव रानी कमलापति और भगवान बिरसा मुंडा के चरणों में प्रणाम कर भोपाल में 'ग्रामीण जनजातीय तकनीकी प्रशिक्षण' के शुभारंभ कार्यक्रम का प्रारंभ दीप प्रज्जवलन किया।

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में 'ग्रामीण जनजातीय तकनीकी प्रशिक्षण' का शुभारंभ कार्यक्रम आयोजित किया गया। भोपाल में आयोजित 'ग्रामीण जनजातीय तकनीकी प्रशिक्षण' का मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दीप प्रज्जवलन कर शुभारंभ किया है।

'ग्रामीण जनजातीय तकनीकी प्रशिक्षण' का शुभारंभ

मिली जानकारी के मुताबिक, सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जनजातीय गौरव रानी कमलापति और भगवान बिरसा मुंडा के चरणों में प्रणाम कर भोपाल में 'ग्रामीण जनजातीय तकनीकी प्रशिक्षण' के शुभारंभ कार्यक्रम का प्रारंभ दीप प्रज्जवलन कर किया। 'ग्रामीण जनजातीय तकनीकी प्रशिक्षण' के शुभारंभ के अवसर पर सीएम ने लोक कलाकारों के साथ उनके पारंपरिक वाद्य यंत्र को बजाकर संगीत का आनंद लिया।

प्रधानमंत्री मैन आफ आईडियाज है : CM

'ग्रामीण जनजातीय तकनीकी प्रशिक्षण' के शुभारंभ कार्यक्रम में सीएम शिवराज ने कहा कि, प्रधानमंत्री मैन आफआईडियाज है। सौभाग्य से देश को ऐसे प्रधानमंत्री मिले है जो विजनरी भी हैं और विजन को पूरा करने के लिए जिनके पास आइडिया भी हैं। प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में जनजातीय भाई-बहनों की जिंदगी बदलने का अभियान चल रहा है। मध्यप्रदेश में पेसा एक्ट लागू किया जा रहा है। वन ग्राम राजस्व ग्रामों में परिवर्तित किया गया है।

इस कार्यक्रम में सीएम ने कही ये बातें

  • आज मैं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री होने के नाते यह कह रहा हूं कि हमें ऐसे लाखों नौजवानों की जरूरत है जो जो गांवों में काम कर सकें।

  • हर ग्राम पंचायत में 4 ग्रामीण इंजीनियर चाहिये। 22,800 हमारी ग्राम पंचायते हैं, यहां भी ग्रामीण इंजीनियर चाहिये। हाथ में कौशल हो, तो आप प्राइवेट और सरकारी कार्य भी कर सकते हैं।

  • मध्यप्रदेश में COVID19 के विरुद्ध हमने जनभागीदारी का एक नया मॉडल खड़ा किया और लोगों ने सरकार के साथ मिलकर प्रयास किया। जनभागीदारी के इस मॉडल की देश में सराहना हुई।

  • जब तक अपने दिल में अपने गांव और शहर को बेहतर करने की तड़प पैदा नहीं होगी, तब तक परिवर्तन संभव नहीं है। हम सब मिलकर प्रयास करेंगे और अपने गांव एवं शहर को बदल देंगे।

  • मध्यप्रदेश में तेजी से निवेश आ रहा है। मेरे बेटे-बेटियों, शहर में तो तुम्हें काम मिलेगा ही, साथ ही गांव में भी रहने वाले युवाओं को रोजगार मिले, हम यह सुनिश्चित करेंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.