राज्य के सरपंचों और श्रमिकों से की चर्चा
राज्य के सरपंचों और श्रमिकों से की चर्चा|Social Media
मध्य प्रदेश

श्रम सिद्धि अभियान: कोरोना से गांवों की रक्षा हेतु सीएम की नई पहल

मध्य प्रदेश में कोरोना की बढ़ती रफ्तार के बीच ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण के प्रभाव को लेकर सरकार हुई सतर्क, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राज्य के सरपंचों और श्रमिकों से चर्चा की।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस। महामारी कोरोना का खतरा एक ओर जहां बढ़ता ही जा रहा है वहीं मजदूरों का पलायन गांव की ओर जारी है इस बीच ही संक्रमण का प्रभाव शहरों से गांव में ना फैले इसके लिए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री सिंह चौहान ने आज राज्य के विभिन्न गांवों के निवासियों और जनप्रतिनिधियों से चर्चा के दौरान हिदायत देते हुए कहा कि वे कोरोना को अपने गांवों में घुसने नहीं दें और इसके लिए मास्क लगाने के साथ ही पूरी गाइडलाइन का पालन करें।

इस सम्बन्ध में, मुख्यमंत्री चौहान ने यहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राज्य के सरपंचों और श्रमिकों से चर्चा की। श्री चौहान ने इसके साथ ही श्रम सिद्धि अभियान की शुरूआत की। उन्होंने अपने संबोधन में बार-बार कोरोना का जिक्र किया और कहा कि इसका सभी को मिलजुलकर मुकाबला करना है। गांव में सभी लोग मास्क लगाएं। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और यदि किसी भी व्यक्ति को इस बीमारी के कोई लक्षण नजर आएं, तो तुरंत प्रशासन तथा चिकित्सकों की मदद ली जाए।

इस मुख्यमंत्री ने अपने विशेष अंदाज में सरपंच, श्रमिकों और महिलाओं से बातचीत की और उनके सुझाव तथा समस्याएं भी सुनीं। श्री चौहान ने कहा कि कोरोना के संकटकाल में बाहर से गांवों में कई श्रमिक भी आए हैं। वे संकटकाल में कहीं और नहीं जा सकते हैं, इसलिए उनके साथ मानवीय व्यवहार कर उन्हें क्वारंटाइन किया जाए और उनके स्वास्थ्य तथा जरुरतों का भी पूरा ध्यान रखा जाए।

सीएम चौहान ने कहा कि हमें कोरोना को गांवों में घुसने नहीं देना है। यदि कोई इससे पीड़ित भी हो जाता है, तो उसका तत्काल इलाज कराया जाए। शुरूआत में इलाज से व्यक्ति जल्दी ठीक हो जाता है। श्री चौहान ने अशोकनगर, भिंड, श्योपुर, आगरमालवा और अन्य जिलों के सरपंचों, जनप्रतिनिधियों और श्रमिकों से मनरेगा के क्रियान्वयन के संबंध में भी चर्चा कर जानकारी हासिल की।

इस दौरान सीएम चौहान ने बताया कि श्रम सिद्धि अभियान के तहत श्रमिकों का विभिन्न श्रेणियों में पंजीयन किया जाएगा और उन्हें उसके अनुरूप रोजगार मुहैया कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोरोना के कारण आर्थिक गतिविधियां लगभग ठप होने से सरकार के पास भी पैसे की तंगी है, लेकिन गरीबों और श्रमिकों के लिए धन की कमी नहीं आने दी जाएगी। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार भी मनरेगा के तहत रोजगार मुहैया कराने पैसा दे रही है। सभी श्रमिक इसका लाभ उठाएं और गांवों में बेहतर गुणवत्ता के साथ ऐसे कार्य किए जाएं, जो गांवों के लिए उपयोगी हों।

श्री चौहान ने कहा कि इन कार्यों केे माध्यम से गांवों में गौशालाओं का निर्माण भी किया जा सकता है। अन्य कार्य भी रचनात्मक होंगे तो इसका सभी को लाभ मिल सकता है।

डिस्क्लेमर: यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। सिर्फ शीर्षक में बदलाव किया गया है। अतः इस आर्टिकल अथवा समाचार में प्रकाशित हुए तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co