गुरु नानक देव के ज्योति ज्योत दिवस पर CM ने किए श्रद्धासुमन अर्पित
गुरु नानक देव के ज्योति ज्योत दिवस पर CM ने किए श्रद्धासुमन अर्पितSocial Media

प्रथम पातशाही साहिब श्री गुरु नानक देव के ज्योति ज्योत दिवस पर CM शिवराज ने किए श्रद्धासुमन अर्पित

भोपाल, मध्यप्रदेश : मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर लिखा है कि, प्रथम पातशाही साहिब श्री गुरु नानक देव के ज्योति ज्योत दिवस पर श्रद्धासुमन अर्पित करता हूं।

भोपाल, मध्यप्रदेश। "नानक नाम चढ़दी कला, तेरे भाणे सरबत दा भला" सिख धर्म के प्रथम गुरु व संस्थापक, अद्भुत समाज सुधारक, न्याय, धर्म और करुणा के अद्वितीय प्रतीक श्री गुरु नानक देव के ज्योति ज्योत दिवस पर देश उन्हें याद कर नमन कर रहा है। इस मौके पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट कर सिख धर्म के संस्थापक, परम श्रद्धेय गुरु नानक देव जी को ज्योति ज्योत दिवस पर श्रद्धासुमन अर्पित किये है।

सीएम शिवराज ने किया ट्वीट :

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने ट्वीट कर लिखा हैं कि, प्रथम पातशाही साहिब श्री गुरु नानक देव के ज्योति ज्योत दिवस पर श्रद्धासुमन अर्पित करता हूं। 'नाम जपो,किरत करो और वंड छको' के मंत्र से ही मानवता का उद्धार होगा। आपके आशीर्वाद से सेवा व परोपकार की पवित्र ज्योत प्रत्येक हृदय में आलोकित रहे; श्रीचरणों में यही प्रार्थना करता हूं!

नरोत्तम मिश्रा ने भी किया ट्वीट :

प्रथम पातशाही साहिब श्री गुरु नानक देव के ज्योति ज्योत दिवस पर मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा (Narottam Mishra) ने ट्वीट कर लिखा- नाम जपने, ईमानदारी से काम और दान करने जैसे संदेशों के माध्यम से खुशहाल जीवन का मंत्र देने वाले सिख समाज के पहले गुरु, गुरुनानक देव जी के ज्योति ज्योत पर्व पर विनम्र श्रद्धांजलि।

सिक्खों के प्रथम गुरु (आदि गुरु) थे गुरु नानक

बताते चलें कि, श्री गुरु नानक देव का जन्म रावी नदी के किनारे स्थित तलवण्डी नामक गाँव में कार्तिकी पूर्णिमा को एक खत्री कुल में हुआ था। गुरु नानक सिक्खों के प्रथम गुरु (आदि गुरु) थे। इनके अनुयायी इन्हें 'गुरु नानक', 'बाबा नानक' और 'नानकशाह' नामों से संबोधित करते हैं। गुरु नानक 20 अगस्त, 1507 को सिक्खों के प्रथम गुरु बने थे। वे इस पद पर 22 सितम्बर, 1539 तक रहे थे। गुरु साहिब जी का 'नाम जपो, कीरत करो, वंड छको' का सिद्धांत जगत में मानवता के कल्याणार्थ सदैव प्रेरणापुंज रहेगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co